Tuesday 11th of December 2018
खोज

 
livehindustansamachar.com
समाचार विवरण  
 किसी मित्र को मेल पन्ना छापो   साझा यह समाचार मूल्यांकन करें      
Save This Listing     Stumble It          
 जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद : जनवरी 2019 से SC में होगी सुनवाई (Mon, Oct 29th 2018 / 13:05:02)

 


जुनैद खान @ फ़ैजाबाद मंडल ब्यूरो
सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले पर हुई सुनवाई जनवरी तक के लिए टल गई है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुवाई वाली बेंच ने मामले की सुनवाई के लिए जनवरी 2019 की तारीख तय की है। वहीं मामले की सुनवाई के लिए नई बेंच बनाने के आसार हैं। बता दें कि, राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि को तीन भागों में बांटने वाले 2010 के इलाहाबाद उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ दायर याचिकाओं पर सोमवार को फैसला आना था।


क्या है अयोध्या मामला?
राम मंदिर के लिए होने वाले आंदोलन के दौरान 6 दिसंबर, 1992 को अयोध्या में बाबरी मस्जिद को गिरा दिया गया था। इस मामले में आपराधिक केस के साथ-साथ दीवानी मुकदमा भी चला। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 30 सितंबर, 2010 को अयोध्या टाइटल विवाद में फैसला दिया था। फैसले में कहा गया था कि विवादित जमीन को 3 बराबर हिस्सों में बांटा जाए। सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या की विवादित जमीन पर रामलला विराजमान और हिंदू महासभा ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की। दूसरी तरफ, सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड ने भी सुप्रीम कोर्ट में हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ अर्जी दाखिल कर दी।
इसके बाद, इस मामले में कई और पक्षकारों ने याचिकाएं लगाई। एक पक्ष ने कहा कि मामला संवैधानिक पीठ में जाए और अन्य ने कहा कि इसे जल्द निपटाएं। सुप्रीम कोर्ट ने 9 मई, 2011 को इस मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश पर रोक लगाते हुए मामले की सुनवाई करने की बात कही थी। सुप्रीम कोर्ट ने यथास्थिति बनाए रखने का आदेश दिया था। सुप्रीम कोर्ट में इसके बाद से यह मामला लंबित है।
जानिए कब-कब इस मामले में क्या-क्या हुआ?

  •     1527 में पहले मुगल सम्राट बाबर ने बाबरी मस्जिद का निर्माण करवाया।
  •     ये मस्जिद उस जगह बनवाई गई, जिसे हिंदू अपने आराध्य राम का जन्मस्थान मानते हैं।
  •     1853 में पहली बार सांप्रदायिक उन्माद फैला।
  •     1859 में अंग्रेज शासकों ने विवादित स्थल पर बाड़ लगा दी। परिसर के भीतरी हिस्से में मुसलमानों और बाहरी हिस्से में हिंदुओं को प्रार्थना करने की अनुमति दे दी।
  •     1949 में पहली बार भगवान राम की मूर्तियां मस्जिद में मिली. जिसके बाद दोनों पक्षों ने अदालत में मुकदमा दायर कर दिया. फिर सरकार ने इस स्थल को विवादित घोषित कर ताला जड़ दिया।
  •     1984 में कुछ हिंदुओं ने एक समिति का गठन किया, जिसकी अगुवाई लालकृष्ण आडवाणी ने की।
  •     1986 में जिला मजिस्ट्रेट ने हिंदुओं को पूजा करने की अनुमति दे दी।
  •     1989 में विश्व हिंदू परिषद ने राम मंदिर निर्माण के लिए अभियान तेज़ किया और विवादित स्थल के पास राम मंदिर की नींव रखी।
  •     1990 में विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने बाबरी मस्जिद को कुछ नुकसान पहुँचाया।
  •     1992 में विश्व हिंदू परिषद, शिवसेना और भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने 6 दिसंबर को बाबरी मस्जिद को ध्वस्त कर दिया। इसके बाद देश भर में हिंदू और मुसलमानों के बीच सांप्रदायिक दंगे भड़क उठे, जिसमें 2000 से ज़्यादा लोग मारे गए।
  •     साल दर साल कार्रवाई का दौर जारी रहा और आखिरकार 30 सितंबर, 2010 को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने फैसला सुनाया। जहां रामलला विराजमान हैं वह और आसपास की जमीन राम मंदिर के लिए दी गई। एक तिहाई सुन्नी वक्फ बोर्ड को और एक तिहाई जमीन निर्मोही अखाड़ा को दी गई।
  •     9 मई 2011: सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले पर रोक लगा दी।
  •     21 मार्च 2017: सुप्रीम कोर्ट ने आपसी सहमति से विवाद सुलझाने की बात कही।
  •     19 अप्रैल 2017: सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी मस्जिद गिराए जाने के मामले में लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती सहित बीजेपी और आरएसएस के कई नेताओं के खिलाफ आपराधिक केस चलाने का आदेश दिया।
  •     9 नवंबर 2017: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात के बाद शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने बड़ा बयान दिया था। रिजवी ने कहा कि अयोध्या में विवादित स्थल पर राम मंदिर बनना चाहिए, वहां से दूर हटके मस्जिद का निर्माण किया जाए।
  •     16 नवंबर 2017: आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर ने मामले को सुलझाने के लिए मध्यस्थता करने की कोशिश की उन्होंने कई पक्षों से मुलाकात की।
  •     5 दिसंबर 2017: सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. कोर्ट ने 8 फरवरी तक सभी दस्तावेजों को पूरा करने के लिए कहा।
  •     8 फरवरी 2018: सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरफ से पक्ष रखते हुए वरिष्ठ वकील राजीव धवन ने सुप्रीम कोर्ट से मामले पर नियमित सुनवाई करने की अपील की., लेकिन पीठ ने उनकी अपील खारिज कर दी।
  •     14 मार्च 2018: वरिष्ठ वकील राजीव धवन ने कोर्ट से मांग की कि साल 1994 के इस्माइल फारूकी बनाम भारतीय संघ के फैसले को पुर्नविचार के लिए बड़ी बेंच के पास भेजा जाए।
  •     20 जुलाई 2018: सुप्रीम कोर्ट ने राजीव धवन की अपील पर फैसला सुरक्षित रखा।
  •     27 सितंबर 2018: कोर्ट ने इस्माइल फारूकी बनाम भारतीय संघ के 1994 का फैसला, जिसमें कहा गया था कि 'मस्जिद इस्लाम का अनिवार्य अंग नहीं है'। इसे बड़ी बेंच को भेजने से इनकार करते हुए कहा था कि अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद में दीवानी वाद का निर्णय साक्ष्यों के आधार पर होगा और पूर्व का फैसला सिर्फ भूमि आधिग्रहण के केस में ही लागू होगा।

 

livehindustansamachar.com
 
समान समाचार  
livehindustansamachar.com
     
राम मंदिर निर्माण के लिए अयोध्या में अश्वमेध यज्ञ, 11000 संत होंगे शामिल

जुनैद खान @ अयोध्या
अयोध्या में बिना किसी बाधा के राम मंदिर निर्माण के लिए विश्व वेदांत संस्थान की ओर से 1 से 4 दिसंबर तक अश्वमेध यज्ञ किया जाएगा। अयोध्या में होने वाले इस यज्ञ को 1008 पंडित मिलकर पूरा करेंगे। इसमें 11000 संत शामिल होंगे।
संस्थान के संस्थापक आनं

read more..

राम मंदिर निर्माण के लिए अयोध्या में अश्वमेध यज्ञ, 11000 संत होंगे शामिल

फ्लैग पोल की वजह से दरकने लगी है रांची में पहाड़ी, हटाने की तैयारी

अयोध्या-मथुरा घोषित होंगे तीर्थ स्थल ,मांस-मदिरा की बिक्री में होगा प्रतिबंध

लेसोथो के प्रधानमंत्री ने पत्नी के साथ किया ताज का दीदार

पर्यटन और एडवंचर से पूर्ण पानी के अन्दर आलिशान होटल

स्टैचू ऑफ यूनिटी: पटेल के आगे छोटी पड़ी दुनियाभर विशाल प्रतिमाएं

राम मंदिर मामला: PM मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष, सोनिया गांधी से मिलेगा VHP

वर्ल्ड रिकॉर्ड को तैयार है 182 मीटर ऊंची लौह पुरुष की भव्य प्रतिमा

खजुराहो के मंदिरों की पहचान मेंटेनेंस के नाम पर धुंधली और खंडित

वैष्णो देवी के रास्ते पर आतंकी खतरा, हाई अलर्ट

पन्ना बाघ अभयारण्य में बाघिन ने तीन शावकों को जन्मा

सुप्रीम कोर्ट तय करेगा ताजमहल पर असली हक किसका ?

खुदाई के दौरान मिले 1000 रॉकेट, टीपू सुल्तान युद्ध में करते थे इस्तेमाल

तीन एतिहासिक धरोहर स्थलों को छोड़कर फोटो ले सकेंगे पर्यटक

11000 तीर्थ यात्री बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए पहलगाम से रवाना

ताजमहल में बाहरी लोगों को नमाज पढ़ने की इजाजत नहीं : सुप्रीम कोर्ट

प्रतापगढ में बना देश का पहला किसान देवता मंदिर

घाटी में मौसम में सुधार के बाद अमरनाथ यात्रा बहाल

खराब मौसम के कारण जम्मू से अमरनाथ यात्रा स्थगित

प्रयागराज में प्रदूषण से कराह रही है मोक्षदायिनी गंगा

प्रशासन के लिए चुनौती होगी अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा

लालकिला में चूना हटा तो नजर आई नायाब मीनाकारी

नैनीताल में विगड़ी यातायात व्यवस्था ,''नैनीताल हाउसफुल''

अमरनाथ यात्रा पर मंडरा रहा आतंकी साया, जम्मू-कश्मीर सरकार ने मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

कभी भूरिश्रवा के नाम से जाना जाता था गोपालगंज का भोरे

समृद्धशाली विन्ध्य क्षेत्र की विरासत को सरंक्षित करने की आवश्यकता : कमिश्नर

एडॉप्ट ए हेरीटेज स्कीम : लाल किले का 25 करोड़ में पांच साल का कॉन्ट्रेक्ट

घोषणाओं में ही सिमटकर रह गया है चित्रकूट का ''विकास''

स्वामी ब्रम्हानंद सेवा संस्थान की ओर से लगाये गये निःशुल्क प्याऊ

निवेशकों के धन से पर्यटन विभाग सवारेगा ऐतिहासिक गढ़ी व विंध्य के किले

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
.......तो गौतम बुद्ध ने बताया भूख और उपदेश में संबंध !
कार्तिक पूर्णिमा के पर्व पर श्रद्धालुओं ने किया स्नान-दान,मेले का हुआ आयोजन
खडग पुस्तक हुई बंद, मंगलवार को बंद होंगे बदरीनाथ के कपाट
राम की नगरी अयोध्या में ऐतिहासिक होगी 24 घंटे में 14 कोसी परिक्रमा
छठ महापर्व :डूबते सूर्य को दिया जाएगा अर्घ्य, 36 घंटे का निर्जला उपवास
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  
HEAD OFFICE
लाइव हिंदुस्तान समाचार
Nagar Sirmaur, Tehsil Sirmaur
District Rewa [MP] India
Zip Code-486448
Mob- +919425330281,+919893112422
 
समाचार चैनल  
स्थानीय राजनीति
SPORTS स्वास्थ्य [ सेहत ]
कारोबार क्राइम
व्यायाम जीवन शैली
शिक्षा स्ट्रिंग
धरोहर [ ऐतिहासिक ] प्रदर्शन [ विरोध ]
शासन सम्पादकीय
अंतर्राष्ट्रीय सोशल मीडिया
कैरियर मनोरंजन
न्यायालय आपदा [ घटना ]
अनुसंधान आलेख [ब्लॉग]
सम्मान [ पुरस्कार ] आयोग [ बोर्ड ]
ELECTION-2018 कार्यक्रम
टेक्नोलॉजी संगठन
मौसम परीक्षा [ टेस्ट ]
रिपोर्ट [ सर्वे ] भष्ट्राचार
बागवानी [ कृषि ] E-PAPER
कॉन्फ्रेंस [ विज्ञप्ति ] श्रधांजलि
आम बजट सदन [ संसदीय ]
योजना रिजल्ट [परिणाम]
सामान्य ज्ञान प्रशासन
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | कैरियर  | मनोरंजन  | सोशल मीडिया  | कॉन्फ्रेंस [ विज्ञप्ति ]  | स्ट्रिंग  | अंतर्राष्ट्रीय  | न्यायालय  | प्रदर्शन [ विरोध ]  | रिजल्ट [परिणाम]  | सामान्य ज्ञान  | योजना  | कारोबार  | स्थानीय  | ELECTION-2018  | सदन [ संसदीय ]  | सम्मान [ पुरस्कार ]  | धरोहर [ ऐतिहासिक ]  | SPORTS  | आम बजट  | प्रशासन  | आयोग [ बोर्ड ]  | आपदा [ घटना ]  | मौसम  | सम्पादकीय  | क्राइम  | श्रधांजलि  | राजनीति  | बागवानी [ कृषि ]  | रिपोर्ट [ सर्वे ]  | भष्ट्राचार  | शिक्षा  | शासन  | परीक्षा [ टेस्ट ]  | स्वास्थ्य [ सेहत ]  | संगठन  | अनुसंधान  | व्यायाम  | जीवन शैली  | कार्यक्रम  | टेक्नोलॉजी  | आलेख [ब्लॉग]  | E-PAPER  | मणिपुर  | त्रिपुरा  | सिक्किम  | उत्तरांचल  | आंध्र प्रदेश  | उड़ीसा  | गुजरात  | हिमाचल प्रदेश  | अरुणाचल प्रदेश  | तमिलनाडु  | पश्चिम बंगाल  | नगालैंड  | लक्ष्यदीप  | मध्य प्रदेश  | उत्तर प्रदेश  | अंडमान एवं निकोबार  | गोवा  | पंजाब  | छत्तीसगढ़  | जम्मू और कश्मीर  | मेघालय  | हरियाणा  | पांडिचेरी  | मिजोरम  | बिहार  | दादरा और नगर हवेली  | कर्नाटक  | राजस्थान  | दमन और दीव  | दिल्ली  | झारखंड  | महाराष्ट्र  | असम  | तेलंगाना  | केरल  | चंडीगढ़  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Designed & Developed by : livehindustansamachar.com
 
Hit Counter