Tuesday 23rd of July 2019
खोज

 
livehindustansamachar.com
समाचार विवरण  
 किसी मित्र को मेल पन्ना छापो   साझा यह समाचार मूल्यांकन करें      
Save This Listing     Stumble It          
 फ्लैग पोल की वजह से दरकने लगी है रांची में पहाड़ी, हटाने की तैयारी (Sat, Nov 24th 2018 / 23:15:20)

 


अश्वनी तिवारी
रांची की आनबान और शान में से एक पहाड़ी मंदिर पर अब सबसे बड़ा तिरंगा नहीं फहरेगा। फ्लैग पोल की वजह से पहाड़ी के अस्‍तित्‍व पर ही खतरा उत्‍पन्‍न हो गया है। कभी देश के सबसे बड़े तिरंगा व फ्लैग पोल में से एक रहे इस भारी भरकम पोल की वजह से जगह-जगह से पहाड़ी दरकने लगी है। इसलिए इसे जल्‍द हटाने पर विचार किया जा रहा है।
शुक्रवार को डीसी राय महिमापत रे और एसडीओ गरिमा सिंह ने रांची पहाड़ी का निरीक्षण किया। रांची पहाड़ी से फ्लैग पोल व तिरंगे को हटाने का निर्णय एक सुंदर ख्‍वाब का खत्‍म होना है। यह एक ऐसी उपलब्‍धि थी, जिसने रांची को पूरे देश में गौरवान्‍वित होने का मौका दिया था। जब इसका निर्माण पूरा हुआ उस वक्‍त इसे देश का सबसे ऊंचा व सबसे लंबा तिरंगा में से एक माना गया।
ढाई साल पहले फहराया गया था तिरंगा
ढाई साल पहले 23 जनवरी, 2016 को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 119वीं जयंती पर पहाड़ी मंदिर पर उस समय देश का सबसे ऊंचा और सबसे बड़ा राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया था। तत्‍कालीन रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने रांची शहर के मध्य में स्थित पहाड़ी मंदिर पर 293 फीट ऊंचे फ्लैग पोल पर उस समय देश का सबसे बड़ा तिरंगा फहराया था। जमीन से यह तिरंगा 493 फीट ऊपर है। 30.17 मीटर लंबा और 20.12 मीटर चौड़ा तिरंगा झंडा फहराया गया था।
रांची पहाड़ी के अस्तित्व पर उठा सवाल
फ्लैग पोल लगाए जाने के बाद रांची पहाड़ी के अस्तित्व पर सवाल उठाया जाने लगा। पिछले मानसून की बारिश व इस वर्ष सावन में रांची पहाड़ी से मिट़़टी व पत्‍थर दरकने की घटना में अचानक तेजी आई। जिसने जिला प्रशासन समेत यहां शहरवासियों की चिंता बढ़ा दी। प्रशासन के अधिकारियों ने भी जायजा लिया। पर्यावरण विद नीतीश प्रियदर्शी ने कहा कि विशेषज्ञों की टीम द्वारा की गई जांच में पता चला है कि फ्लैग पोल लगाए जाने से रांची पहाड़ी को काफी नुकसान पहुंचा है।
मेकॉन ने किया था सहयोग
उस समय मेकॉन की टीम की ओर से फ्लैग पोल लगाने को लेकर सहयोग किया गया था। इस क्रम में कई बार पहाड़ी मंदिर के संरक्षण को लेकर सवाल उठाया जाता रहा। मौजूदा समय में इस फ्लैग पोल का रखरखाव भी सही तरीके से नहीं किया जा सका।
जेद्दा की तर्ज पर बनी थी योजना
बताते चलें कि जेद्दा स्थित अब्दुल्लाह स्क्वायर चौक पर सउदी अरब का राष्ट्रीय झंडा लगाया गया है। उसी तर्ज पर रांची पहाड़ी पर झंडा लगाने की योजना बनाई गई थी। पूरी प्लानिंग मेकॉन की थी। देश के प्रसिद्ध इंजीनियर जेके झा को पहाड़ी मंदिर के लिए प्लान तैयार करने को कहा गया था। फ्लैग पोल के अलावा बाकी काम उर्मिला कंस्ट्रक्शन को दिया गया था।
पोल का नहीं हो रहा था उचित रखरखाव
बाद में फ्लैग पोल का सही तरीके से रखरखाव भी नहीं किया जा सका।जिससे कि तिरंगा चढ़ाई जाने वाली मशीनें भी खराब हो गईं। पोल के आसपास निकले पत्थर और छड़े हमेशा से खतरे का आभास कराती रहती हैं।
फ्लैग पोल के निर्माण को व्‍यवसायी विष्णु अग्रवाल ने दिए थे पैसे
झंडे और फ्लैग पोल के लिए उद्योगपति विष्णु अग्रवाल ने पहाड़ी मंदिर विकास समिति को आर्थिक मदद दी थी।
देश का एकमात्र ऐसा मंदिर जहां स्‍वतंत्रता दिवस के दिन फहराया जाता है तिरंगा
पहाड़ी मंदिर का पुराना नाम टिकीबुरा था। यहां अंग्रेज विद्रोहियों को फांसी देने का करते थे। जब देश आजाद हुआ था, तो रांची के ही स्वतंत्रता सेनानी कृष्ण चंद्रदास ने पहला तिरंगा झंडा फहराया था। यहां हर स्वतंत्रता और गणतंत्र दिवस पर तिरंगा झंडा फहराया जाता है। यह देश का पहला ऐसा मंदिर है जहां स्‍वतंत्रता दिवस व गणतंत्र दिवस पर तिरंगा फहराया जाता है। पहाड़ी मंदिर में एक पत्थर लगा हुआ है, जिसमें 14 और 15 अगस्त, 1947 की आधी रात को देश की आजादी का मैसेज लिखा हुआ है। झंडा तो अब भी फहरेगा लेकिन देश के सबसे विशाल झंडे में से एक फ्लैग पोल से नहीं फहरेगा।
दरक गई थीं मंदिर की दीवारें
पिछले वर्ष मानसून की बारिश व इस साल सावन की शुरुआत में ही मंदिर के आसपास पत्थर ढहने और मंदिरों की दीवारों में दरारें पडऩे की बात सामने आयी थी। फ्लैग पोल लगाएजाने के क्रम में रांचीपहाड़ी के आसपास भी कई पेड़ काट डाले गए थे। जिससे मिट्टी कटाव के तेज होने की बात कही जा रही है।
निर्माण कार्य खतरनाक है
रांची पहाड़ी पर किसी तरह का निर्माण कार्य खतरनाक है। अगर इसे बंद नहीं किया गया, तो पहाड़ी और मंदिर दोनों ही ढह सकते हैं।
नीतीश प्रियदर्शी, पर्यावरणविद

livehindustansamachar.com
 
समान समाचार  
livehindustansamachar.com
     
5 ब्रिगेडियर, 25 कर्नल और तीनों सेनाओं में करीब 106 अफसरों वाला गांव

रेवाड़ी ब्यूरो
कोसली गांव की अपनी एक ऐतिहासिक विरासत है। यहां के खून में देशभक्ति का जज्बा कूट-कूट कर भरा हुआ है। इसी का परिणाम है कि पहले विश्वयुद्ध में कोसली के नौ वीर जवान वीरगति को प्राप्त हुए....यहीं से इस गांव की शौर्

read more..

5 ब्रिगेडियर, 25 कर्नल और तीनों सेनाओं में करीब 106 अफसरों वाला गांव

स्वयंभू शिवलिंग : मार्ग एवं घाट ना होने से गऊघाट की उपेक्षा

व्हाइट टाइगर को देखकर अभिभूत हो गईं राज्यपाल आनंदीबेन पटेल

राष्ट्रपति भवन का खास मुगल गार्डन 6 फरवरी से आम जनता के लिए खुलेगा

सोमनाथ और अंबाजी मंदिर के आसपास का क्षेत्र ''वेजिटेरियन जोन'' घोषित

देश के 143 स्मारकों का दीदार होगा महंगा,टिकट की नई दरें लागू करेगा ASI

दुनिया के बेहतरीन पर्यटन स्थलों की लिस्ट में दूसरे स्थान पर हंपी

विदेशी पक्षियों की चहचहाहट से यमुना पथवे गुलजार

पिकनिक स्पॉट बनेगा आल्हा घाट , 28.5 लाख की राशि स्वीकृत

सिरमौर के पिकनिक स्पाट्स को विकसित करेगी एमपी सरकार !

राम मंदिर निर्माण के लिए अयोध्या में अश्वमेध यज्ञ, 11000 संत होंगे शामिल

अयोध्या-मथुरा घोषित होंगे तीर्थ स्थल ,मांस-मदिरा की बिक्री में होगा प्रतिबंध

लेसोथो के प्रधानमंत्री ने पत्नी के साथ किया ताज का दीदार

पर्यटन और एडवंचर से पूर्ण पानी के अन्दर आलिशान होटल

स्टैचू ऑफ यूनिटी: पटेल के आगे छोटी पड़ी दुनियाभर विशाल प्रतिमाएं

राम मंदिर मामला: PM मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष, सोनिया गांधी से मिलेगा VHP

जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद : जनवरी 2019 से SC में होगी सुनवाई

वर्ल्ड रिकॉर्ड को तैयार है 182 मीटर ऊंची लौह पुरुष की भव्य प्रतिमा

खजुराहो के मंदिरों की पहचान मेंटेनेंस के नाम पर धुंधली और खंडित

वैष्णो देवी के रास्ते पर आतंकी खतरा, हाई अलर्ट

पन्ना बाघ अभयारण्य में बाघिन ने तीन शावकों को जन्मा

सुप्रीम कोर्ट तय करेगा ताजमहल पर असली हक किसका ?

खुदाई के दौरान मिले 1000 रॉकेट, टीपू सुल्तान युद्ध में करते थे इस्तेमाल

तीन एतिहासिक धरोहर स्थलों को छोड़कर फोटो ले सकेंगे पर्यटक

11000 तीर्थ यात्री बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए पहलगाम से रवाना

ताजमहल में बाहरी लोगों को नमाज पढ़ने की इजाजत नहीं : सुप्रीम कोर्ट

प्रतापगढ में बना देश का पहला किसान देवता मंदिर

घाटी में मौसम में सुधार के बाद अमरनाथ यात्रा बहाल

खराब मौसम के कारण जम्मू से अमरनाथ यात्रा स्थगित

प्रयागराज में प्रदूषण से कराह रही है मोक्षदायिनी गंगा

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
श्रावण का पहला सोमवार : श्रद्धालुओं के लिए डेढ़ घंटे पहले जागे महाकाल
ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह में रात के समय 5 स्थानों पर हो सकेगी इबादत
गुरु पूर्णिमा : गुरु पूर्णिमा ज्ञान के स्रोत के प्रति कृतज्ञता का उत्सव
योग निंद्रा में जाएंगे भगवान विष्णु, चार माह नहीं होंगे मांगलिक कार्य
झलोखर की मां भुवनेश्वरी माता मंदिर मे लगी श्रद्धालुओं की भीड़
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  

लाइव हिंदुस्तान समाचार

 
समाचार चैनल  
LOCAL NEWS POLITICS
SPORTS स्वास्थ्य
BUSINESS CRIME
जीवन शैली शिक्षा
String धरोहर
प्रदर्शन शासन
EDITORIAL अंतर्राष्ट्रीय
SOCIAL MEDIA JOB
INTERTAINMENT न्यायालय
घटना अनुसंधान
ARTICLE पुरस्कार
आयोग ELECTION
कार्यक्रम TECHNOLOGY
संगठन मौसम
रिपोर्ट भष्ट्राचार
कृषि E-PAPER
कॉन्फ्रेंस श्रधांजलि
सदन योजना
प्रशासन लाइव हिंदुस्तान समाचार
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | जीवन शैली  | ARTICLE  | String  | आयोग  | कार्यक्रम  | JOB  | CRIME  | प्रशासन  | भष्ट्राचार  | प्रदर्शन  | मौसम  |  EDITORIAL  | पुरस्कार  | लाइव हिंदुस्तान समाचार  |  SPORTS  | INTERTAINMENT  | अनुसंधान  | रिपोर्ट  | न्यायालय  | सदन  |  TECHNOLOGY  | कॉन्फ्रेंस  | धरोहर  | अंतर्राष्ट्रीय  | POLITICS  |  BUSINESS  | शासन  | शिक्षा  | ELECTION  |  SOCIAL MEDIA  | श्रधांजलि  |  LOCAL NEWS  | E-PAPER  |  कृषि  | स्वास्थ्य  | योजना  | घटना  | संगठन  | सिक्किम  | नगालैंड  | महाराष्ट्र  | उड़ीसा  | उत्तर प्रदेश  | दमन और दीव  | बिहार  | आंध्र प्रदेश  | गोवा  | केरल  | उत्तरांचल  | पश्चिम बंगाल  | कर्नाटक  | जम्मू और कश्मीर  | पांडिचेरी  | राजस्थान  | त्रिपुरा  | हिमाचल प्रदेश  | मेघालय  | छत्तीसगढ़  | तेलंगाना  | झारखंड  | दिल्ली  | मणिपुर  | लक्ष्यदीप  | हरियाणा  | मिजोरम  | तमिलनाडु  | चंडीगढ़  | दादरा और नगर हवेली  | अरुणाचल प्रदेश  | पंजाब  | अंडमान एवं निकोबार  | असम  | गुजरात  | मध्य प्रदेश  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Design & Development By MakSoft
 
Hit Counter