Monday 10th of December 2018
खोज

 
livehindustansamachar.com
समाचार विवरण  
 किसी मित्र को मेल पन्ना छापो   साझा यह समाचार मूल्यांकन करें      
Save This Listing     Stumble It          
 जलवायु परिवर्तन के चलते दुनिया में भारत को सबसे ज्यादा नुकसान (Tue, Dec 4th 2018 / 18:17:24)

 


अश्वनी तिवारी
जलवायु परिवर्तन आज पूरी दुनिया के लिए एक गंभीर समस्या बन गया है। वैसे आमतौर पर जलवायु में बदलाव आने में काफी समय लगता है और उस बदलाव के साथ धरती पर मौजूद सभी जीव (चाहे वो इंसान ही क्यों न हों), जल्द ही सामंजस्य भी बैठा लेते हैं। लेकिन पिछले 150-200 सालों की अगर बात की जाए तो ये जलवायु परिवर्तन इतनी तेजी से हुआ है कि इंसानों से लेकर पूरा वनस्पति जगत इस बदलाव के साथ सामंजस्य नहीं बैठा पा रहा है।    
हालांकि जलवायु परिवर्तन से निपटने को लेकर संयुक्त राष्ट्र की ओर से हर साल एक महासभा का आयोजन होता है और उसमें दुनिया के लगभग सभी देश शामिल होते हैं। इस साल यह महासभा पोलैंड के कालोवास में आयोजित की जा रही है, जो अगले हफ्ते है। इस महासभा को पर्यावरण के लिहाज से बेहद महत्वपूर्ण माना जा रहा है, क्योंकि इस बैठक में चार प्रमुख चरणों पर ध्यान देने की बात कही जा रही है।
कहा जा रहा है कि इस महासभा में पेरिस समझौते के कार्यांवयन के ठोस नियमों पर वार्ता की जाएगी। इसके अलावा विभिन्न पक्षों के बीच पारस्परिक विश्वास, ईमानदारी और समान जीत के माहौल में अंतरराष्ट्रीय सहयोग आगे बढ़ाने को लेकर बातचीत होगी, जिससे साल 2020 तक अलग-अलग देशों द्वारा किए गए विभिन्न वायदों का अमलीजामा पहनाया जा सके। इसके लिए विकसित देशों को 2020 से पहले हर साल 1 खरब अमेरिकी डॉलर के कार्यांवयन की स्थिति पर अधिक ब्यौरा देना चाहिए और जलवायु परिवर्तन के निपटारे में विकासशील देशों की पूंजी की जो मांगें हैं, वो पूरी की जानी चाहिए।
19वीं सदी के बाद से तापमान में भारी वृद्धि
आंकड़ें बताते हैं कि 19वीं सदी के बाद से पृथ्वी की सतह का तापमान 3 से 6 डिग्री तक बढ़ गया है। हर 10 साल में तापमान में कुछ न कुछ वृद्धि हो ही जाती है। ये तापमान में वृद्धि के आंकड़े हमें मामूली लग सकते हैं लेकिन अगर समय रहते इसपर ध्यान नहीं दिया गया तो यही परिवर्तन आगे चलकर महाविनाश को आकार देंगे। 
जलवायु परिवर्तन के पीछे मानवीय क्रिया-कलाप जिम्मेदार
जलवायु में बदलाव के पीछे मानवीय क्रिया-कलाप ही प्रमुख रूप से जिम्मेदार हैं और इससे नुकसान भी उनका ही हो रहा है, क्योंकि आज के समय में जिस तरह से पेड़ों की अंधाधुंध कटाई चल रही है और कभी न खत्म होने वाले कचरे जैसे कि प्लास्टिक का इस्तेमाल जिस तेजी से हो रहा है, वो दिन दूर नहीं है जब धरती से पूरी मानव जाति का ही अंत हो जाएगा।
एक रिपोर्ट के मुताबिक, दुनिया में जलवायु परिवर्तन के चलते 153 अरब कामकाजी घंटे बर्बाद हुए हैं। लांसेट की यह रिपोर्ट भारत के लिए सबसे ज्यादा चेतावनी भरी है, क्योंकि इसमें अकेले भारत की क्षति 75 अरब कार्य घंटों के बराबर है। यह जलवायु परिवर्तन के चलते पूरी दुनिया में हुई कुल क्षति का 49 फीसदी है। जलवायु परिवर्तन के चलते दुनियाभर में उत्पादकता के क्षेत्र में भी भारी कमी आई है, जिससे पूरी दुनिया को 326 अरब डॉलर का नुकसान पहुंचा है। इसमें 160 अरब डॉलर का नुकसान तो सिर्फ भारत को ही हुआ है, जबकि चीन की क्षति 21 अरब कार्य घंटों के साथ महज 1.4 फीसदी के करीब है। इससे इतना तो साफ है कि चीन की तैयारियां भारत से कहीं बेहतर हैं।
निम्न आय वाले देशों में स्थिति सबसे भयानक
लांसेट की रिपोर्ट कहती है कि जलवायु परिवर्तन के कारण दुनिया में हुई क्षति का 99 फीसदी तो निम्न आय वाले देशों में हुआ है। इस क्षति का आकलन गर्मी बढ़ने के कारण पैदा होने वाली परिस्थितियों, तबाही की घटनाओं, इसके चलते स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभावों, बीमारियों आदि को ध्यान में रखते हुए किया गया है। रिपोर्ट में पिछले दो दशकों से भी कम समय में जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभाव तेजी से सामने आए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2000 से 2017 के बीच 62 अरब कार्य घंटे के बराबर की उत्पादकता नष्ट हुई है। साल 2000 में भारत में यह अनुमान लगाया गया था कि 43 अरब कार्य घंटों की क्षति हो सकती है, लेकिन पिछले दो दशकों में यह काफी बढ़ गई है।
जलवायु परिवर्तन के कारण मौसम सबसे ज्यादा प्रभावित
जलवायु परिवर्तन का प्रभाव सबसे ज्यादा मौसम पर पड़ता है। गर्म मौसम होने से वर्षा का चक्र प्रभावित होता है और इससे बाढ़ या सूखे का खतरा पैदा हो जाता है। इसके अलावा ध्रुवीय ग्लेशियरों के पिघलने से समुद्र के स्तर में भी वृद्धि हो जाती है। पिछले कुछ सालों में आए तूफानों और बवंडरों ने अप्रत्यक्ष रूप से इसके संकेत भी दे दिए हैं। भारतीय मौसम विभाग के अनुसार इस बार तापमान पिछले सालों की तुलना में ज्यादा रहेगा। संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले तीन साल सबसे गर्म वर्षों की सूची में शीर्ष पर हैं।
एशिया में 50 डिग्री तक पहुंचा तापमान
जलवायु परिवर्तन के चलते एशिया में तापमान 50 डिग्री तक पहुंच चुका है। बार-बार आए समुद्री तूफानों से कैरेबियन, अटलांटिक और यहां तक की आयरलैंड में भी भारी नुकसान हुआ। इसके अलावा पूर्वी अफ्रीका सूखे से ग्रसित रहा। भारतीय मौसम विभाग के 'डाउन टू अर्थ' डेटा के अनुसार, ओडिशा, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और केरल में हाल ही में आए चक्रवात की वजह भी जलवायु परिवर्तन ही है। इस दौरान बंगाल की खाड़ी और अरब सागर में 13 दबाव के क्षेत्र बने, जिसने पिछले 26 सालों के रिकॉर्ड को तोड़ दिया।
शोधकर्ताओं के मुताबिक, जलवायु परिवर्तन का प्रभाव चक्रवाती गतिविधियों के बढ़ने में ही नहीं बल्कि तापमान में वृद्धि और वर्षा में कमी के रूप में भी दिख रहा है। माना जा रहा है कि इस सदी के अंत तक तमिलनाडु का तापमान 3.1 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ जाएगा, जबकि वर्षा में औसतन 4 फीसदी की कमी आएगी।
तेजी से बढ़ा कार्बन डाईऑक्साइड का उत्सर्जन
विश्व मौसम संगठन के मुताबिक, वातावरण में कार्बन डाईऑक्साइड का उत्सर्जन साल 2016 में काफी तेजी से बढ़ा है। संगठन का कहना है कि मानव गतिविधियों और मजबूत अल नीनो की वजह से कार्बन डाईऑक्साइड सांद्रण का वैश्विक स्तर 2015 के 400.00 पीपीएम से बढ़कर 2016 में 403.3 पीपीएम तक पहुंच गया।बता दें कि अल-नीनो एक ऐसी मौसमी परिस्थिति है, जो प्रशांत महासागर के पूर्वी भाग यानी दक्षिणी अमरीका के तटीय भागों में महासागर के सतह पर पानी का तापमान बढ़ने की वजह से पैदा होती है। विश्व मौसम संगठन के प्रमुख पेट्टेरी टालास का कहना है कि कार्बन डाईऑक्साइड और अन्य ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन में तुरंत कटौती किए बिना इस पर नियंत्रण नहीं किया जा सकता है। 
बेहद भयानक हैं मौसम का आंकड़ें
संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट बताती है कि मौजूदा दौर में कार्बन डाईऑक्साइड का उत्सर्जन सबसे ज्यादा है। पिछली बार धरती पर इसी तरह का सांद्रण स्तर 30 से 50 लाख साल पहले था। उस दौरान समुद्र स्तर आज के मुकाबले 20 मीटर ऊंचा था। फिलहाल पृथ्वी का तापमान 16 डिग्री सेल्सियस के करीब है, जबकि 1951 से 1980 के बीच धरती का तापमान 14 डिग्री सेल्सियस था। वहीं, 1880 में यह तापमान 13 डिग्री था। यह तापमान ग्लेशियर्स को तेजी से पिघला रहा है, जिसका नतीजा ये हुआ है कि दुनिया के चारों महासागरों में जलस्तर बढ़ रहा है।
इंसान खुद बढ़ा रहे तापमान
धरती पर बढ़ रहे तापमान के पीछे कोई प्राकृतिक कारण नहीं है, बल्कि इंसान की उत्पादन और निर्माण की गतिविधियां ही असल में तापमान बढ़ा रही हैं। एक रिपोर्ट कहती है कि साल 2017 में इंसानों ने दुनियाभर में जितनी गर्मी पैदा की है, वह हिरोशिमा वाले 4 लाख परमाणु बमों के बराबर है। साल 1950 के बाद से इस गर्मी के बढ़ने का सबसे बड़ा कारण ग्रीनहाउस गैसें हैं।
क्या होता है ग्रीनहाउस प्रभाव
ग्रीनहाउस प्रभाव एक प्राकृतिक प्रक्रिया है जिसके द्वारा किसी ग्रह या उपग्रह के वातावरण में मौजूद कुछ गैसें वातावरण के तापमान को अपेक्षाकृत अधिक बनाने में मदद करतीं हैं। इन ग्रीनहाउस गैसों में कार्बन डाईऑक्साइड, जल-वाष्प, मिथेन आदि शामिल हैं। यदि ग्रीनहाउस प्रभाव नहीं होता तो शायद ही पृथ्वी पर जीवन होता।
क्या कार्बन डाइऑक्साइड घटाने से कम हो जाएगा धरती का तापमान?
पेरिस जलवायु सम्मेलन में वैश्विक देशों ने संकल्प लिया था कि वह धरती का तापमान औद्योगिकीकरण शुरू होने के पहले से काफी कम रखेंगे। यानी वृद्धि को 2 डिग्री सेंटीग्रेड से काफी कम कर दिया जाएगा। जलवायु परिवर्तन पर अंतर्सरकारी पैनल के 116 में से 101 मॉडल मानकर चलते हैं कि हवा में से कार्बन डाइऑक्साइड निकाल लिया जाएगा, ताकि 2 डिग्री का लक्ष्य हासिल किया जा सके। लेकिन सवाल ये है कि घटाया कैसे जाए? इसके लिए साल 2100 तक वातावरण से 819 अरब टन गैस हटानी होगी, लेकिन इतनी तो मौजूदा दर पर दुनिया 20 सालों में उत्सर्जित करेगी, जबकि वर्तमान में ऐसी कोई तकनीक है ही नहीं।

livehindustansamachar.com
 
समान समाचार  
livehindustansamachar.com
     
जम्मू & कश्मीर में बिगड़ा मौसम, बारिश और बर्फबारी की संभावना

श्रीनगर ब्यूरो
कश्मीर में मौसम विभाग द्वारा अगले तीन दिनों में राज्य में बारिश और बर्फबारी के पूर्वानुमान के बीच रविवार को राज्य के न्यूनमतम तापमान में वृद्धि हुई। मौसम विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि सोमवार से हल्की बारिश और बर्फबारी शुरू होने की संभावना है। उन

read more..

जम्मू & कश्मीर में बिगड़ा मौसम, बारिश और बर्फबारी की संभावना

ठंड की चपेट में कश्मीर , 6 डिग्री पर कांपा गुलमर्ग

दिल्ली में प्रदूषण से तो मुंबई में उमस भरी गर्मी लोग परेशान

गैस चैम्बर में तब्दील हो सकती है राजधानी दिल्ली !

ओडिशा में चक्रवात का खतरा, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

दिल्ली की हवाओं में फिर घुला जहर, खतरनाक स्तर पर पहुंचा वायु प्रदूषण

उत्तराखंड, चंडीगढ़ समेत 17 राज्यों में भारी बारिश, हिमाचल में बर्फबारी

चक्रवाती तूफान ने ओडिशा में दी दस्तक, कई राज्यों में अलर्ट

रीवा संभाग में अब तक 799.4 मिमी औसत वर्षा दर्ज

दिल्ली-एनसीआर में भारी बारिश, कई जगहों पर लगा लंबा जाम

मध्य प्रदेश और उत्तराखंड समेत 16 राज्यों में भारी बारिश की संभावना

MP में 35 जिलों में बारिश का अलर्ट, CM ने जनता से की अपील

पर्यावरणविद की चेतावनी- गोवा का भी हो सकता है केरल जैसा हश्र !

16 राज्यों में अगले दो दिन तक भारी बारिश के आसार, एनडीएमए ने किया अलर्ट

हमीरपुर में यमुना नदी का जलस्तर बढ़ने से बाढ़ की आशंका

संभाग में सर्वाधिक वर्षा सतना एवं सिंगरौली जिले में 355.5 मि.मी.दर्ज

दो दिन से झमाझम बरसात से किसानों को राहत मिली

दिल्ली समेत 12 राज्यों में 30 जुलाई तक भारी बारिश की संभावना

गुजरात, मुंबई में भारी बारिश लेकिन उत्‍तर भारत से रुठा मानसून

रीवा जिले में अब तक 159 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज

प्रशासन के बेमानी दावे, चंडीगढ़ की सड़कों पर पानी ही पानी

21 राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट, NDRF के 4500 जवान तैनात

बारिस से मौसम हुआ सुहाना, लोगो को गर्मी से मिली राहत

जम्मू-कश्मीर में बारिश का कहर, 12वीं तक के सभी स्कूल बंद

मुंबई में आज भारी बारिश की चेतावनी, प्रशासन अलर्ट

पर्यावरण हो या राजनीतिक फिजा,राष्ट्रीय राजधानी में जैसे आपातकाल !

धूलभरी गर्म हवाओं की चादर से ढंका उत्तर भारत

पारा 47 के पार, हमीरपुर में सड़कों पर सन्नाटा

72 घंटे देश के 16 राज्यों पर होंगे भारी, मौसम विभाग का अलर्ट

राजधानी में गर्मी का कहर , तापमान 38 डिग्री सेल्सियस

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
.......तो गौतम बुद्ध ने बताया भूख और उपदेश में संबंध !
कार्तिक पूर्णिमा के पर्व पर श्रद्धालुओं ने किया स्नान-दान,मेले का हुआ आयोजन
खडग पुस्तक हुई बंद, मंगलवार को बंद होंगे बदरीनाथ के कपाट
राम की नगरी अयोध्या में ऐतिहासिक होगी 24 घंटे में 14 कोसी परिक्रमा
छठ महापर्व :डूबते सूर्य को दिया जाएगा अर्घ्य, 36 घंटे का निर्जला उपवास
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  
HEAD OFFICE
लाइव हिंदुस्तान समाचार
Nagar Sirmaur, Tehsil Sirmaur
District Rewa [MP] India
Zip Code-486448
Mob- +919425330281,+919893112422
 
समाचार चैनल  
स्थानीय राजनीति
SPORTS स्वास्थ्य [ सेहत ]
कारोबार क्राइम
व्यायाम जीवन शैली
शिक्षा स्ट्रिंग
धरोहर [ ऐतिहासिक ] प्रदर्शन [ विरोध ]
शासन सम्पादकीय
अंतर्राष्ट्रीय सोशल मीडिया
कैरियर मनोरंजन
न्यायालय आपदा [ घटना ]
अनुसंधान आलेख [ब्लॉग]
सम्मान [ पुरस्कार ] आयोग [ बोर्ड ]
ELECTION-2018 कार्यक्रम
टेक्नोलॉजी संगठन
मौसम परीक्षा [ टेस्ट ]
रिपोर्ट [ सर्वे ] भष्ट्राचार
बागवानी [ कृषि ] E-PAPER
कॉन्फ्रेंस [ विज्ञप्ति ] श्रधांजलि
आम बजट सदन [ संसदीय ]
योजना रिजल्ट [परिणाम]
सामान्य ज्ञान प्रशासन
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | ELECTION-2018  | स्थानीय  | परीक्षा [ टेस्ट ]  | सामान्य ज्ञान  | प्रशासन  | E-PAPER  | श्रधांजलि  | राजनीति  | धरोहर [ ऐतिहासिक ]  | संगठन  | कारोबार  | प्रदर्शन [ विरोध ]  | स्ट्रिंग  | आलेख [ब्लॉग]  | मौसम  | सम्पादकीय  | रिपोर्ट [ सर्वे ]  | योजना  | रिजल्ट [परिणाम]  | मनोरंजन  | अनुसंधान  | टेक्नोलॉजी  | शासन  | आम बजट  | SPORTS  | बागवानी [ कृषि ]  | क्राइम  | कॉन्फ्रेंस [ विज्ञप्ति ]  | शिक्षा  | सोशल मीडिया  | आयोग [ बोर्ड ]  | व्यायाम  | भष्ट्राचार  | जीवन शैली  | स्वास्थ्य [ सेहत ]  | आपदा [ घटना ]  | सदन [ संसदीय ]  | न्यायालय  | सम्मान [ पुरस्कार ]  | कार्यक्रम  | अंतर्राष्ट्रीय  | कैरियर  | नगालैंड  | चंडीगढ़  | आंध्र प्रदेश  | मध्य प्रदेश  | महाराष्ट्र  | तेलंगाना  | सिक्किम  | झारखंड  | पंजाब  | छत्तीसगढ़  | केरल  | गुजरात  | अंडमान एवं निकोबार  | त्रिपुरा  | उत्तरांचल  | मणिपुर  | मेघालय  | अरुणाचल प्रदेश  | दिल्ली  | दादरा और नगर हवेली  | बिहार  | तमिलनाडु  | उड़ीसा  | गोवा  | राजस्थान  | लक्ष्यदीप  | असम  | कर्नाटक  | दमन और दीव  | मिजोरम  | उत्तर प्रदेश  | हरियाणा  | हिमाचल प्रदेश  | पश्चिम बंगाल  | जम्मू और कश्मीर  | पांडिचेरी  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Designed & Developed by : livehindustansamachar.com
 
Hit Counter