Tuesday 26th of March 2019
खोज

 
livehindustansamachar.com
समाचार विवरण  
 किसी मित्र को मेल पन्ना छापो   साझा यह समाचार मूल्यांकन करें      
Save This Listing     Stumble It          
 पिकनिक स्पॉट बनेगा आल्हा घाट , 28.5 लाख की राशि स्वीकृत (Sat, Dec 15th 2018 / 17:58:53)

 


अश्वनी तिवारी
रीवा जिले के सिरमौर में तीन महत्वपूर्ण और अभी तक अनजाने प्राकृतिक पुरातात्विक महत्व के स्थलों को मध्य प्रदेश सरकार पर्यटन विकास हेतु मध्यप्रदेश ईकोपर्यटन विकास बोर्ड  ने 1 करोड़ 50 हजार रुपये की राशि  स्वीकृत की है  |
अनदेखे अनजाने अनसुने दर्शनीय स्थलों को वैश्विक पहचान दिलाने एवं उनमे पर्यटकों के अनुरूप बुनियादी सुविधाओं को उपलब्ध कराने के साथ रोजगार के अवसरों के सृजन और मप्र के ईकोपर्यटन नक़्शे में दर्ज हो चुके रीवा जिले के 3 मनोरंजन क्षेत्रों में बैष्णव धाम, टोंस वॉटरफॉल एवं आल्हा घाट में ईकोपर्यटन विकास के लिए 1 करोड़ 50 हजार रुपये की राशि वनमंडल रीवा को स्वीकृत एवं आवंटित की जा चुकी है | जिसमे से  बैष्णव धाम को विकसित करते हुए उसका लोकार्पण भी वन विभाग द्वारा कराया जा चुका है और अब टोंस वॉटरफॉल एवं आल्हा घाट को विकसित करने की तैयारी है | हाल ही में आल्हा घाट के लिए ईको टूरिज्म बोर्ड भोपाल ने 28.5 लाख रुपये की राशि स्वीकृत की है, जिसमे पर्यटकों की सुविधा के लिए विभिन्न संरचनाओं का निर्माण ईकोपर्यटन की अवधारणा के अनुरूप किया जाना है, जिसके लिए बोर्ड बकायदा आर्किटेक्ट इंजीनियरों की टीम भोपाल से सिरमौर भेज कर डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार करवा रहा है | ईकोपर्यटन संरचनाओं के निर्माण पश्चात मनोरंजन क्षेत्रों में ईको पर्यटन गतिविधियों का सञ्चालन भी करवाया जायेगा, जिसमे स्थानीय युवाओं का चयन करते हुए उनके साथ साथ वनकर्मियों कू ईको पर्यटन की विधाओं का प्रशिक्षण देते हुए रोजगार उपलब्ध कराने के प्रयास किये जायेंगे |


मनोरंजन क्षेत्र आल्हा घाट में कार्यों हेतु स्वीकृत राशि

  • फेसिंग कार्य एवं रेलिंग : 15 लाख
  • पैगोडा : 3 लाख
  • पार्किंग स्थल का विकास : 2 लाख
  • पेयजल व्यवस्था : 2 लाख
  • प्रसाधन : 4 लाख
  • प्रकृति पथ : 0.5 लाख
  • सिट आउट : 1 लाख
  • फोटोग्राफी स्थल व्यू पॉइंट : 1 लाख
  • कुल : 28 लाख 50 हजार रुपये

मध्यप्रदेश ईकोपर्यटन नक़्शे में रीवा के इन तीन स्थलों के शामिल होने से अधोसंरचनाओं के निर्माण,विकास कार्य एवं ईको पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा। इस संबंध में वन विभाग ने पहले ही राज्य शासन को अधिसूचना जारी करने के लिए प्रस्ताव बना कर भेजा था जिसे लाइव हिंदुस्तान समाचार ने प्रमुखता से उठाया था।  
गौर हो कि अब तक कुल 6 अनदेखे, अनजाने प्राकृतिक एवं पुरातात्विक महत्व के दर्शनीय स्थल मध्यप्रदेश के पर्यटन नक़्शे में अंकित होने के लिए अधिसूचित किये जा चुके हैं,इनमें 3 स्थल वन विभाग द्वारा एवं 3 स्थल संस्कृति विभाग द्वारा अधिसूचित किये गए हैं। भारत सरकार की स्वदेश दर्शन योजना और नैशनल टूरिज्म मैप में लाने के लिए अब जल्द ही पर्यटन स्थलों की विस्तृत जानकारी विभाग भेजने वाला है।


[ आल्हा घाट ]
कहाँ है आल्हा घाट : रीवा जिला मुख्यालय से 40 किलोमीटर की दूरी पर सिरमौर में टोंस पॉवर प्लांट रोड में मुख्य सडक मार्ग से 7 किलोमीटर अंदर दुर्गम निर्जन घने जंगलों में आल्हा घाट स्थित है जहाँ मुख्य सडक मार्ग से सिर्फ पैदल अथवा पगडण्डी मार्ग में साइकिल से ही जाया जा सकता है।
आल्हा घाट विन्ध्य पहाड़ियों के प्राकृतिक दर्रों में से एक है यहाँ से रीवा की टमस नदी गंगा के मैदानों में मिलने के लिये अपना रास्ता प्राप्त करती है, आल्हा घाट के बायें किनारे पर कोनी की पहाड़ियों और रुपौली के बीच टमस नदी की घाटी का खुला मनमोहक द्रश्य है, आल्हा घाट स्थल का प्राकृतिक सौंदर्य अद्भुत, अतुलनीय, विहंगम एवं मनमोहक है।
पुरातात्विक महत्त्व : “आल्हा घाट में एक बहुत बड़ी गुफा है जिसकी लम्बाई 110 फीट है साथ ही चौड़ाई 8– 10 फीट है एवं ऊंचाई 22 से 50 फीट तक है, गुफा का मुख्य प्रवेश द्वार लगभग 10 फीट चौड़ा है, गुफा के अंदर एक किनारे में पूल है जिसमे पानी लगातार गिरता रहता है, गुफा से लगभग 100 गज की दूरी पर पत्थरों का एक बहुत बड़ा ब्लॉक है जिस पर तीन शिलालेख दिखाई देते हैं, इनमे से सबसे अच्छा संरक्षित शिलालेख सात लाइनों का है जिसमे दहालिया राजा नरसिंह देव का उल्लेख है साथ ही तिथि संवत 1216(अर्थात् 1159 ईस्वी) का उल्लेख है यहाँ चट्टान में उकेरी हुई माँ शारदा के अनन्य भक्त लोकदेव आल्हा की एवं गजानन गणेश की प्रतिमा भी है।
[ टोंस वॉटरफॉल ]
मध्यप्रदेश के रीवा जिला मुख्यालय से 40 किलोमीटर की दूरी पर एवं सिरमौर से 10 किलोमीटर की दूरी पर टोंस जल विद्युत् परियोजना संयंत्र के निकट पहाड़ के मध्य टोंस जलप्रपातों की श्रृंखलायें हैं।   
प्राकृतिक महत्त्व : पहाड़ के मध्य निर्मित सीढ़ियों के चारों तरफ चट्टानों के बीचों-बीच से निकलता हुआ पानी का तेज बहाव देखने में ऐसा प्रतीत होता है मानो दूध की धारायें प्रवाहित हो रही हों। यहाँ की सीढ़ियों में बैठ कर प्राकृतिक वादियों, हरियाली के मध्य इन जलप्रपातों की श्रृंखलाओं का आनंद अद्भुत है। यहाँ के आनंद पश्चात् सीढ़ियों से उतर कर नीचे पहुँचने पर मनमोहक विहंगम प्राकृतिक वादियों एवं हरियाली से परिपूर्ण होने के साथ साथ प्राकृतिक औषधियों एवं फल से भी सम्पन्न है। टोंस वॉटरफॉल की इन्ही घाटियों के मध्य बायें तरफ ही थोडा आगे जाकर नीचे उतरने पर लगभग 500 मीटर के दायरे में 150 फीट की ऊंचाई से जलप्रपातों की श्रृंखलाएँ हैं। यहां करीब 150 फीट की ऊंचाई से नीचे गिरते हुए जलप्रपातों की श्रंखलाओं को देखना, प्रपात से गिरती हुई जलधाराओं का आनंद नयनाभिराम है।
[ पावन घिनौची धाम “पियावन” ]
मध्यप्रदेश के रीवा जिला मुख्यालय से 45 किलोमीटर की दूरी पर रीवा – डभौरा सडक मार्ग में सिरमौर से 6 किलोमीटर की दूरी पर बरदाहा घाटी के पहले मोड़ से दाहिनी हाथ तरफ पगडण्डी कच्चा मार्ग है, वहां से 2 किलोमीटर अंदर जाने पर स्थित है पावन घिनौची धाम जो की धरती से 200 फीट नीचे लगभग 800 फीट चौड़े प्रकृति की सुरम्य वादियों एवं चारों तरफ पहाड़ों से घिरा हुआ है।
प्राकृतिक महत्त्व :पावन घिनौची धाम ‘पियावन’ में पर्यटकों को आकर्षित करने का विशेष कारण है धरती से 200 फीट नीचे दो अद्भुत प्राकृतिक जल प्रपातों का संगम, जिनका आनंद पर्यटक वर्षा काल में जुलाई से नवम्बर महीने तक ले सकते हैं। इसके साथ ही यहां अद्भुत प्राकृतिक श्वेत जल द्वारा प्राचीन शिवलिंग का निरंतर स्वतः जलाभिषेक होता है, शिवलिंग में प्राचीन शैल चित्र भी हैं। यहाँ की चट्टानों में उकेरे गए प्रागैतिहासिक शैल चित्र, जिनसे इस क्षेत्र की गौरव गाथा का भी ज्ञान होता है, यहाँ की अद्भुत सर्पिलाकार चट्टानें अपने आप में ही अद्भुत है।
पुरातात्विक महत्त्व : पावन घिनौची धाम ’पियावन’की खोज का श्रेय जाता है सर एचबीडब्ल्यू गैरिक को जो कि भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण(ASI) के पहले डायरेक्टर जनरल और संस्थापक अलेक्जेंडर कनिंघम के सहायक थे, सन 1880 के दशक की शुरुआत में सर गैरिक को इस स्थान के बारे में पता चला और उन्होंने सन 1883-84 में रीवा राज्य के दौरे पर आये सर कनिंघम को इस बारे में बताया जब सन 1883-84 में अलेक्जेंडर कनिंघम रीवा आये तो उन्होंने पावन घिनौची धाम ‘पियावन’का सर्वेक्षण किया, उन्होंने अपनी किताब ‘रिपोर्ट्स ऑफ़ अ टूर इन रीवा, बुन्देलखंड,मालवा, एंड ग्वालियर इन 1884-85’ में इस स्थान का जिक्र किया है, जहाँ इसे ‘पियावन’ कहा गया है जिसका अर्थ है पानी पीने का स्थान, कनिंघम ने इस स्थान में मौजूद एक शिलालेख के बारे में लिखा है 'अर्घ्य के ऊपर 6 लाइनों में कुछ अभिलेख लिखे हुए थे, यह अभिलेख बहुत कीमती एवं अतुलनीय था क्योंकि यह त्रिपुरी(वर्तमान जबलपुर) के राजा कल्चुरी राजकुमार गांगेय देव का पहला अभिलेख था जो कि महमूद गजनी के समकालीन थे, यह अभिलेख इसलिए भी महत्वपूर्ण था क्योंकि यह चेदि वंश के कल्चुरी राजाओं का अधिराज्य भी प्रदर्शित करता था, जिनका राज्य विन्ध्य पर्वत श्रंखलाओं के उत्तर तक इलाहाबाद से सिर्फ 50 मील कि दूरी तक था, यह अभिलेख सन 1038-39 में लिखवाया गया था।'
शासन द्वारा रीवा के तीन दर्शनीय स्थलों को अधिसूचित किये जाने के बाद अब इन मनोरंजन क्षेत्रों में ईको पर्यटन विकास के तहत अधोसंरचनाओं का निर्माण कार्य किया जायेगा साथ ही ईको पर्यटन गतिविधियाँ भी संचालित होंगी। यहां पर सुगम पहुँच मार्ग, मचान, पैगोडा, कैफेटेरिया, सिट आउट, पार्किंग, जल व्यवस्था, प्रसाधन, चैन लिंक बाउन्ड्री रेलिंग, सीढियों का मरम्मतीकरण इत्यादि का निर्माण होगा साथ ही यहां कैम्पिंग, प्रकृति पथ, ट्रेकिंग, पिकनिक, एडवेंचरस स्पोर्ट्स, फोटोग्राफी, लाँन, गार्डनिंग जैसी ईको पर्यटन गतिविधियाँ चलाई जाएंगी।

livehindustansamachar.com
 
समान समाचार  
livehindustansamachar.com
     
स्वयंभू शिवलिंग : मार्ग एवं घाट ना होने से गऊघाट की उपेक्षा

महेंद्र सराफ @ सीधी
देवघाटा भोले नाथ का इतिहास आदिकाल से यह स्थान संभवतः उस ज्वालामुखी की तरह ही रहे होंगे जिसके आज भी पावन स्थान पर दर्शन होते हैं यद्यपि पृथ्वी मैं विद्यमान लिंग असंख्य हैं तथापि सोनभद्र श्वर महादेव उनम

read more..

स्वयंभू शिवलिंग : मार्ग एवं घाट ना होने से गऊघाट की उपेक्षा

व्हाइट टाइगर को देखकर अभिभूत हो गईं राज्यपाल आनंदीबेन पटेल

राष्ट्रपति भवन का खास मुगल गार्डन 6 फरवरी से आम जनता के लिए खुलेगा

सोमनाथ और अंबाजी मंदिर के आसपास का क्षेत्र ''वेजिटेरियन जोन'' घोषित

देश के 143 स्मारकों का दीदार होगा महंगा,टिकट की नई दरें लागू करेगा ASI

दुनिया के बेहतरीन पर्यटन स्थलों की लिस्ट में दूसरे स्थान पर हंपी

विदेशी पक्षियों की चहचहाहट से यमुना पथवे गुलजार

सिरमौर के पिकनिक स्पाट्स को विकसित करेगी एमपी सरकार !

राम मंदिर निर्माण के लिए अयोध्या में अश्वमेध यज्ञ, 11000 संत होंगे शामिल

फ्लैग पोल की वजह से दरकने लगी है रांची में पहाड़ी, हटाने की तैयारी

अयोध्या-मथुरा घोषित होंगे तीर्थ स्थल ,मांस-मदिरा की बिक्री में होगा प्रतिबंध

लेसोथो के प्रधानमंत्री ने पत्नी के साथ किया ताज का दीदार

पर्यटन और एडवंचर से पूर्ण पानी के अन्दर आलिशान होटल

स्टैचू ऑफ यूनिटी: पटेल के आगे छोटी पड़ी दुनियाभर विशाल प्रतिमाएं

राम मंदिर मामला: PM मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष, सोनिया गांधी से मिलेगा VHP

जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद : जनवरी 2019 से SC में होगी सुनवाई

वर्ल्ड रिकॉर्ड को तैयार है 182 मीटर ऊंची लौह पुरुष की भव्य प्रतिमा

खजुराहो के मंदिरों की पहचान मेंटेनेंस के नाम पर धुंधली और खंडित

वैष्णो देवी के रास्ते पर आतंकी खतरा, हाई अलर्ट

पन्ना बाघ अभयारण्य में बाघिन ने तीन शावकों को जन्मा

सुप्रीम कोर्ट तय करेगा ताजमहल पर असली हक किसका ?

खुदाई के दौरान मिले 1000 रॉकेट, टीपू सुल्तान युद्ध में करते थे इस्तेमाल

तीन एतिहासिक धरोहर स्थलों को छोड़कर फोटो ले सकेंगे पर्यटक

11000 तीर्थ यात्री बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए पहलगाम से रवाना

ताजमहल में बाहरी लोगों को नमाज पढ़ने की इजाजत नहीं : सुप्रीम कोर्ट

प्रतापगढ में बना देश का पहला किसान देवता मंदिर

घाटी में मौसम में सुधार के बाद अमरनाथ यात्रा बहाल

खराब मौसम के कारण जम्मू से अमरनाथ यात्रा स्थगित

प्रयागराज में प्रदूषण से कराह रही है मोक्षदायिनी गंगा

प्रशासन के लिए चुनौती होगी अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
महाशिवरात्रि : पुलिस ने रोका रास्ता, किन्नर अखाड़ा ने नहीं किया अमरत्व स्नान
स्फटिक शिवलिंग की पूजा से धन और सोने के शिवलिंग से मिलता है ऐश्वर्य
महाशिवरात्रि : शिव के वैराट्य का उत्सव है महाशिवरात्रि
कुंभ 2019 : महाशिवरात्रि पर त्रिवेणी में स्नान के लिए उमड़े श्रद्धालु, मंदिरों में जुटे भक्त
पीएम ने संगम में लगाई डुबकी, सफाई और सुरक्षा कर्मियों को किया सम्मानित
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  

लाइव हिंदुस्तान समाचार

 
समाचार चैनल  
स्थानीय राजनीति
खेल स्वास्थ्य
Business अपराध
जीवन शैली शिक्षा
String धरोहर [ऐतिहासिक]
प्रदर्शन [ विरोध ] शासन
सम्पादकीय अंतर्राष्ट्रीय
सोशल मीडिया JOB
मनोरंजन न्यायालय
आपदा [ घटना ] अनुसंधान
आलेख [ब्लॉग] सम्मान [ पुरस्कार ]
आयोग [ बोर्ड ] ELECTION-2019
कार्यक्रम टेक्नोलॉजी
संगठन मौसम
परीक्षा [ टेस्ट ] रिपोर्ट [ सर्वे ]
भष्ट्राचार बागवानी [ कृषि ]
कॉन्फ्रेंस [ विज्ञप्ति ] श्रधांजलि
आम बजट-2019 सदन [ संसदीय ]
योजना रिजल्ट [परिणाम]
प्रशासन जनरल नॉलेज
होली [स्पेशल ]
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | प्रदर्शन [ विरोध ]  | योजना  | जीवन शैली  | श्रधांजलि  | मनोरंजन  | प्रशासन  | जनरल नॉलेज  | सम्मान [ पुरस्कार ]  | आयोग [ बोर्ड ]  | शिक्षा  | शासन  | आलेख [ब्लॉग]  | Business  | अंतर्राष्ट्रीय  | आम बजट-2019  | अनुसंधान  | खेल  | होली [स्पेशल ]  | स्थानीय  | मौसम  | धरोहर [ऐतिहासिक]  | आपदा [ घटना ]  | ELECTION-2019  | परीक्षा [ टेस्ट ]  | कार्यक्रम  | संगठन  | रिजल्ट [परिणाम]  | न्यायालय  | भष्ट्राचार  | String  | कॉन्फ्रेंस [ विज्ञप्ति ]  | सम्पादकीय  | अपराध  | स्वास्थ्य  | राजनीति  | बागवानी [ कृषि ]  | टेक्नोलॉजी  | रिपोर्ट [ सर्वे ]  | सोशल मीडिया  | सदन [ संसदीय ]  | JOB  | कर्नाटक  | गोवा  | मध्य प्रदेश  | चंडीगढ़  | मेघालय  | अंडमान एवं निकोबार  | अरुणाचल प्रदेश  | उत्तर प्रदेश  | राजस्थान  | लक्ष्यदीप  | पंजाब  | दादरा और नगर हवेली  | सिक्किम  | पांडिचेरी  | दमन और दीव  | त्रिपुरा  | हिमाचल प्रदेश  | उड़ीसा  | मिजोरम  | तेलंगाना  | असम  | केरल  | छत्तीसगढ़  | मणिपुर  | आंध्र प्रदेश  | बिहार  | महाराष्ट्र  | झारखंड  | दिल्ली  | गुजरात  | तमिलनाडु  | उत्तरांचल  | पश्चिम बंगाल  | नगालैंड  | हरियाणा  | जम्मू और कश्मीर  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Designed & Developed by : livehindustansamachar.com
 
Hit Counter