Wednesday 16th of January 2019
खोज

 
livehindustansamachar.com
समाचार विवरण  
 किसी मित्र को मेल पन्ना छापो   साझा यह समाचार मूल्यांकन करें      
Save This Listing     Stumble It          
 राफेल को यूं ही नहीं उड़ने देगी कांग्रेस, मोदी सरकार पर दागे 11 सवाल (Mon, Dec 17th 2018 / 22:24:08)

 


लाइव हिंदुस्तान समाचार
कांग्रेस पार्टी के लिए 'राफेल' अब केवल एक लड़ाकू हवाई जहाज नहीं रहा, बल्कि 2019 के लिए पार्टी इसे अपना प्रमुख सारथी मानकर आगे बढ़ रही है। कांग्रेस 'राफेल' को यूं ही नहीं उड़ने देगी। सोमवार को एक बार फिर दोनों पार्टियां राफेल को लेकर आमने-सामने आ गईं। भाजपा ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को केंद्र में रखकर 70 जगहों पर प्रेसवार्ता कर दी। मोदी सरकार के मंत्रियों और पार्टी पदाधिकारियों ने कांग्रेस पार्टी पर आरोप लगाया कि वह राफेल पर झूठ बोल रही है। दूसरी ओर, कांग्रेस पार्टी ने भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले को आधार बनाकर भाजपा पर न केवल हमला बोला बल्कि पार्टी ने मोदी सरकार की प्रेसवार्ताओं को 'झूठ की फैक्ट्री' करार दे दिया और उस पर 11 सवाल भी दाग दिए।
कांग्रेस पार्टी के नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा, हम शुरु से ही कह रहे हैं कि मोदी सरकार राफेल के मामले में फंस चुकी है। अब वह राफेल को लेकर झूठ पर झूठ बोले जा रही है। मोदी सरकार ने खुद को बचाने के लिए सुप्रीम कोर्ट के समक्ष गलत तथ्य पेश कर दिए। पीएसी की कहीं कोई बैठक ही नहीं हुई, लेकिन कोर्ट के फैसले में लिखा है कि मामला पीएसी की टेबल से होकर गुजरा है। कोर्ट को ये सब किसने बताया। सामान्य सी बात है कि मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में ये सब जवाब दिए हैं। कोर्ट को गुमराह करने का प्रयास किया गया।
सुरजेवाला ने कहा, क्या ये अपने आप में एक जुर्म नहीं है। इससे पहले कांग्रेस पार्टी के नेता कपिल सिब्बल ने भी कहा था कि मोदी सरकार द्वारा सुप्रीम कोर्ट में पेश किया गया हलफनामा झूठ का पुलिंदा था और यह एक संगीन मामला बनता है। रणदीप सुरजेवाला ने मोदी सरकार से इन सवालों का जवाब मांगा है।
पहला सवाल:
राफेल पर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का आधार सीएजी रिपोर्ट है (पैरा-25), लेकिन सीएजी ने तो कोई रिपोर्ट दी ही नहीं। खास बात है कि यह सीएजी रिपोर्ट न तो संसद में पेश हुई और न ही पीएसी के सामने प्रस्तुत की गई। फिर सुप्रीम कोर्ट के साथ इतना बड़ा धोखा क्यों?
दूसरा सवाल:
सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का आधार रिलायंस कंपनी का साल 2012 से ही दसॉल्ट एविएशन से चला आ रहा समझौता है (पैरा-32)। खास बात रिलायंस डिफेंस लिमिटेड का गठन तो 28 मार्च 2015 को हुआ था फिर सुप्रीम कोर्ट को ये गलत तथ्य देकर क्यों बरगलाया गया?
तीसरा सवाल
सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का आधार फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ओलांद का खुलासा कि मोदी सरकार ने राफेल का ठेका रिलायंस को दिलाया, जबकि इसे दोनों पक्षों ने नकार दिया। ओलांद ने 21 सितंबर को अपना बयान फिर दोहराया। 27 सितंबर को मैक्रान ने कहा- वो ओलांद की बात खारिज नहीं कर सकते। फिर सुप्रीम कोर्ट से छल क्यों किया गया?
चौथा सवाल:
सरकारी कंपनी का राफेल ठेके से कोई सरोकार नहीं (पैरा-32), लेकिन एचएएल व दसॉल्ट का समझौता 13 मार्च 2014 को हो चुका था। 25 मार्च को दसॉल्ट के सीईओ ने बेंगलुरु में इसकी पुष्टि भी कर दी। 8 अप्रैल 2015 को विदेश सचिव ने एचएएल-दसॉल्ट के समझौते को माना फिर कोर्ट से धोखा क्यों?
पांचवां सवाल:
सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का पांचवा आधार, वादी ने कहा कि फ्रांस द्वारा सोवरेन गारंटी न देकर मात्र एक लेटर ऑफ कम्फर्ट दिया गया। (पैरा-20) सुप्रीम कोर्ट ने इस पर कोई फ़ैसला नहीं दिया। इसके बाद 12 सितंबर 2015 और 23 अगस्त 2016 को कानून मंत्रालय द्वारा किए गए विरोध के प्रति भी सुप्रीम कोर्ट को नहीं दिखाई गई। कोर्ट से यह छिपाव क्यों?
छठा सवाल:
रक्षा खरीद समिति (डीएसी) की अनुमति के साथ 10 अप्रैल 2015 को 36 राफ़ेल खरीद की घोषणा हुई (पैरा-3), लेकिन डीएसी की बैठक तो 13 अप्रैल 2015 को हुई जहां 36 राफ़ेल खरीदने का निर्णय हुआ। फिर मोदी ने एक महीना पहले यह फैसला कैसे ले लिया। यहां पर भी सुप्रीम कोर्ट को गुमराह कर दिया गया।
सातवां सवाल:
सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का सातवां आधार 36 राफेल खरीद सौदा 23/9/2016 को हुआ, लेकिन ओलांद के 21/9/2018 के खुलासे से पहले किसी ने विरोध नहीं किया (पैरा-23)। कांग्रेस ने इस घोटाले का भंडाफोड़ 23/5/2015 को ही कर दिया था। फिर सरकार ने सर्वोच्च अदालत को सच क्यों नहीं बताया?
आठवां सवाल:
सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का आठवां आधार-वायुसेना प्रमुख ने राफेल की कीमत बताने पर ऐतराज जताया (पैरा-25)। वायुसेना प्रमुख न तो कोर्ट आए और न ही कोई शपथ पत्र दाख़िल किया। वायुसेना के अधिकारियों से कीमत बारे कोई सवाल अदालत में नहीं पूछा गया। फिर सर्वोच्च अदालत को क्यों भटकाया गया?
नौंवा सवाल:
126 राफेल की बजाय मात्र 36 राफेल खरीदने का निर्णय मोदी सरकार का नीतिगत फैसला है (पैरा-22), लेकिन वायुसेना की 126 जहाजों की जरुरत खारिज कर मनमर्जी से 36 जहाज खरीदना राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ समझौता है। इस बाबत सुप्रीम कोर्ट के समक्ष औचित्य क्यों नहीं बताया गया?
दसवां सवाल:
रक्षा खरीद प्रणाली DPP-2013 के मुताबिक, बगैर सरकारी हस्तक्षेप के डसॉल्ट ऑफसेट पार्टनर चुन सकती थी (पैरा-33), मगर DPP-2013 में यह शर्त 5/8/2015 को ही जोड़ी गई है, जबकि राफेल खरीद की घोषणा 10/4/2015 को हुई थी। सुप्रीम कोर्ट से यह विश्वासघात क्यों?
ग्यारहवां सवाल:
सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का ग्यारहवां आधार-मोदी सरकार ने कहा कि 36 राफेल की कीमत फायदेमंद सौदा है (Para-26), लेकिन कांग्रेस जो एक राफेल 526 करोड़ में खरीद रही थी, वो मोदी ने 1670 करोड़ में क्यों खरीदा। इससे देश को 41,205 करोड़ का चूना लगा है, यह सच कोर्ट को क्यों नहीं बताया गया?

livehindustansamachar.com
 
समान समाचार  
livehindustansamachar.com
     
अतिआत्मविश्वास से कांग्रेस विंध्य में नहीं जीत पाई : राज्यसभा सांसद राजमणि पटेल

रीवा ब्यूरो
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राज्यसभा सांसद राजमणि पटेल ने कहा है कि प्रदेश में पूर्व के चुनावों की तुलना में इस बार गरीबों और पिछड़ों ने अधिक संख्या में साथ दिया है, जिसके चलते सरकार बनी है। उन्होंने कहा कि हर क्षेत्र के हिसाब से चुनाव में पस्थितिया

read more..

अतिआत्मविश्वास से कांग्रेस विंध्य में नहीं जीत पाई : राज्यसभा सांसद राजमणि पटेल

सपा-बसपा के गठबंधन से भाजपा में बेचैनी : सपा प्रदेश अध्यक्ष

मुख्यमंत्री कमलनाथ के निर्णय की रीवा जिले के युवाओ ने की प्रशंसा

भाजपा के मुंह से लोकतंत्र की बात शैतान के मुंह से प्रवचन जैसा : प्रदीप सिंह

मोदी का मजाक उड़ाते हैं ट्रंप और भाजपा चुप रहती है, जवाब दो : कांग्रेस

माया-अखिलेश के गठबंधन में डॉ. लोहिया की चिट्ठी की अहम भूमिका

2019 का चुनाव विकास, और देश के आत्मसम्मान मुद्दे पर लड़ेंगे : भाजपा

कांग्रेस ने नभ, थल और जल में किया घोटाला : CM योगी आदित्यनाथ

द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर फिल्म प्रसारित हुई तो फूॅक देंगे सिनेमाघर :NSUI जिलाध्यक्ष

राज्यसभा जाएंगे पासवान,भाजपा,जदयू,लोजपा में 17+17+6 सीटों पर डील

विहिप का आरोप पैसे लेकर अभिनय करना नसीरुद्दीन का पेशा

अवैध शराब विक्रय के 3 मामलों में 1000-1000 का अर्थदण्‍ड

मैं ऐसा प्रधानमंत्री नहीं था जो मीडिया से बात करने में घबराता हो : मनमोहन

अवैध शराब परिवहन के मामले में जमानत निरस्‍त कर भेजा जेल

सज्जन मामले पर मैं अपना रुख पहले ही साफ कर चुका हूं : कांग्रेस अध्यक्ष

झीरम मामले की जांच व किसानों की कर्ज माफी होगी पहली प्राथमिकता : छग CM

झीरम का सच आएगा सामने, जांच के लिए होगा एसआईटी का गठन: सिंहदेव

देश का चौकीदार ही चोर है ये हम साबित करके रहेंगे : राहुल गांधी

पूर्व मंत्री ने जताया सीधी जिले के मतदाताओं के प्रति आभार

मध्यप्रदेश और राजस्थान में कांग्रेस को बसपा का समर्थन : मायावती

राहुल बोले- आज भाजपा को हराया है, 2019 में भी हराएंगे [ वीडियो ]

विपक्ष के 21 दलों ने मोदी सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा

पर्याप्त सुरक्षा न होने की वजह से हुई थप्पड़ मारने की घटना : केंद्रीय मंत्री

पाच राज्यो के चुनाव मे भाजपा का सूपड़ा साफ होना तय : शिराज मेहंदी

हम निश्चित तौर पर यात्रााएं निकालेंगे और हमें कोई नहीं रोक सकता : अमित शाह

CJI को बाहर से किया जा रहा था कंट्रोल, इसलिए की प्रेस कॉन्फ्रेंस : जोसेफ

भारत में फ्रांस के दूत जिगलर ने कहा -''राफेल'' समझौता में कोई ''घोटाला'' नहीं

PM मोदी के ''न्यू इंडिया'' का ''आइडिया'' देश के लिए खतरा : कांग्रेस

मप्र चुनाव:जगह-जगह EVM खराब,कांग्रेस ने दोबारा मतदान की उठाई मांग

सोमनाथ भारती ने महिला एंकर से मांगी माफी, गाली देने पर FIR दर्ज

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
कुंभ 2019: मकर संक्रांति पर स्नान का पूर्वजों को भी मिलता है लाभ
कुंभ 2019 : जूना अखाड़ा के साथ किन्नर अखाड़ा ने संगम तट पर लगाई डुबकी
कुंभ मेला 2019: शाही स्नान से पहले श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी
मकर संक्रांति पर आस्था की डुबकी लगाने एक करोड़ से अधिक श्रद्धालु पहुंचे संगम तट
प्रयागराज कुंभ 2019 :पीएम ने दी शुभकामनाएं, स्मृति ईरानी ने किया संगम तट पर स्नान
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  

HEAD OFFICE
लाइव हिंदुस्तान समाचार वेब न्यूज़ पोर्टल
LIVEHINDUSTANSAMACHAR.COM
Nagar Sirmaur, Tehsil Sirmaur
District Rewa [MP] India
Zip Code-486448
AT@ LIVEHINDUSTANSAMACHAR.COM
Mob- +919425330281,+919893112422

 
समाचार चैनल  
LOCAL राजनीति
SPORTS स्वास्थ्य
BUSINESS CRIME
जीवन शैली शिक्षा
STRING धरोहर [ऐतिहासिक]
प्रदर्शन [ विरोध ] शासन
EDITORIAL अंतर्राष्ट्रीय
SOCIAL MEDIA JOB
मनोरंजन COURT
आपदा [ घटना ] अनुसंधान
आलेख [ब्लॉग] सम्मान [ पुरस्कार ]
आयोग [ बोर्ड ] कार्यक्रम
TECHNOLOGY संगठन
मौसम परीक्षा [ टेस्ट ]
रिपोर्ट [ सर्वे ] भष्ट्राचार
बागवानी [ कृषि ] कॉन्फ्रेंस [ विज्ञप्ति ]
श्रधांजलि आम बजट
सदन [ संसदीय ] योजना
प्रशासन
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | अनुसंधान  | कार्यक्रम  | राजनीति  | संगठन  | सम्मान [ पुरस्कार ]  | बागवानी [ कृषि ]  | भष्ट्राचार  | LOCAL  | SPORTS  | परीक्षा [ टेस्ट ]  | जीवन शैली  | मनोरंजन  | श्रधांजलि  | कॉन्फ्रेंस [ विज्ञप्ति ]  | शासन  | आलेख [ब्लॉग]  | आयोग [ बोर्ड ]  | प्रदर्शन [ विरोध ]  | स्वास्थ्य  | EDITORIAL  | TECHNOLOGY  | BUSINESS  | CRIME  | योजना  | रिपोर्ट [ सर्वे ]  | अंतर्राष्ट्रीय  | STRING  | JOB  | धरोहर [ऐतिहासिक]  | मौसम  | SOCIAL MEDIA  | आम बजट  | सदन [ संसदीय ]  | COURT  | आपदा [ घटना ]  | प्रशासन  | शिक्षा  | नगालैंड  | त्रिपुरा  | उत्तर प्रदेश  | मणिपुर  | गोवा  | उत्तरांचल  | आंध्र प्रदेश  | दमन और दीव  | जम्मू और कश्मीर  | पांडिचेरी  | दादरा और नगर हवेली  | असम  | झारखंड  | दिल्ली  | पश्चिम बंगाल  | गुजरात  | उड़ीसा  | सिक्किम  | मिजोरम  | मेघालय  | अंडमान एवं निकोबार  | महाराष्ट्र  | राजस्थान  | तेलंगाना  | छत्तीसगढ़  | तमिलनाडु  | बिहार  | लक्ष्यदीप  | चंडीगढ़  | हरियाणा  | पंजाब  | अरुणाचल प्रदेश  | केरल  | हिमाचल प्रदेश  | मध्य प्रदेश  | कर्नाटक  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Designed & Developed by : livehindustansamachar.com
 
Hit Counter