Monday 17th of June 2019
खोज

 
livehindustansamachar.com
समाचार विवरण  
 किसी मित्र को मेल पन्ना छापो   साझा यह समाचार मूल्यांकन करें      
Save This Listing     Stumble It          
 पिछड़ेपन से उबारने की पहल : शुगर फ्री ''ब्लैक राइस'' की खेती (Tue, Dec 25th 2018 / 11:51:34)

 


ओ पी श्रीवास्तव@चंदौली
उत्तर प्रदेश में जनपद चंदौली धान के कटोरे की संज्ञा से चर्चित है, इस जनपद की अधिकांश जनसंख्या जीवकोपार्जन के लिए खेती बाड़ी पर निर्भर है। चूंकि नीति आयोग की रिपोर्ट में जनपद पिछड़ेपन का दंश झेल रही है। इसी दंश से उबारने के लिए शासन-प्रशासन विकास के प्रत्येक पैमाने पर कोई कसर बाकी नहीं रख रही है। खेती बाड़ी मुख्य व्यवसाय के रूप में होने के कारण जनपद दौरे पर आई मंत्री मेनका गांधी ने पिछड़ेपन से उबारने को और किसानों की आय दोगुनी करने हेतु ब्लैक राइस की खेती  को बढ़ावा देने का निर्देश जनपद के वरिय मातहतो को दिया। इसके तहत जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल के प्रयासों और कृषि विभाग की ओर से 25 बीघे में प्रदर्शन के तौर पर खरीफ के सीजन में खेती कराई गई थी। जिला प्रशासन की ओर से कराई गई क्रॉप कटिंग में 35 से 40 क्विंटल प्रति हेक्टेयर के उत्पादन से उत्साह में बृद्धि हुई है।
क्यों है वरदानस्वरूप ब्लैक राइस  ?
जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल का कहना है कि चंदौली जिला देश के अतिपिछड़ों जिलों में गिना जाता है। यहां रोजगार का मुख्य साधन खेती है। इसमें नए प्रयोग की आवश्यकता है। इसी नए प्रयोग कि तर्ज पर ब्लैक राइस की व्यापक खेती और उत्पादकता बढ़ाकर किसानों की आय दोगुनी की जा सकती है। भारत सरकार की मंत्री मेनका गांधी के निर्देशों पर इसकी तैयारी के मद्देनजर जनपद दौरे पर आए सितंबर 2018 में सीएम योगी आदित्यनाथ को इसके बारे में जानकारी दी गई। उन्होंने इसके उत्पादन और बिक्री का पूरा प्लान तैयार कर भेजने को कहा था ताकि इसे वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट के तहत स्थापित किया जा सके।चूंकि जिलाधिकारी के प्रयासों और केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी के सहयोग से यहां चुनिंदा 40 किसानों को इसका बीज लाकर दिया गया। इसकी बुआई और खाद पानी के इस्तेमाल से भी अवगत कराया गया। प्रयोग सफल रहा और आम चावल की तरह ब्लैक राइस की दर में भी कमी देखने को नहीं मिली। यहां के किसानों के पैदा किए एक खास चावल ने सबका ध्यानार्थ अपनी ओर खींचा है। यह चावल धान के कटोरे के लिए वरदान सिद्ध होगा,ऐसा कहा जा रहा है। इसका मूल कारण है इसकी कीमत,यह 500 रुपए प्रति किलो से भी ज़्यादा के रेट में बिकेगा। विदेशों में इसकी कीमत 1000 से 1500 के बीच मिल सकती है।
क्या खास है चंदौली जनपद के किसानों के इस चावल में
जनपद चंदौली में किसानों की आय दोगुनी करने का दावा प्रस्तुत करने व वरदान साबित होने वाले इस शुगर फ्री ब्लैक राइस चावल की मूल प्रजाति मणिपुर में बोई जाती है। इसका नाम 'चाक हाओ' है। चंदौली जिले की मिट्टी इस उपयोगी धान के लिए अनुकूल है।कृषि विभाग की माने तो मूलरूप से शुगरफ्री ब्लैक राइस प्रजाति का चावल मधुमेह रोगियों के लिए रामबाण है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट, जिंक और आयरन की मात्रा प्रचुर रूप से मिलती है। अपने औषधिय गुणों के कारण इसकी मांग बेहद खास है। यह रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है, जिससे शरीर को हाई ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल, अर्थराइटिस, एलर्जी और कैंसर रोगों से लड़ने में काफी मदद मिलती है।इस चावल के औषधीय गुणों की जानकारी विदेश तक जा पहुंची है। इसी कारण पक चुकी फसल को देखने इंटरनेशनल राइस रिसर्च इंस्टीट्यूट की वाराणसी हेड और फिलीपींस की डॉ अहमद जरीना के नेतृत्व में जनपद सदर तहसील के दिघवट गांव का दौरा कर टीम इसके औषधीय गुणों व उत्पादन प्रक्रिया की जानकारी ली। टीम इसका सैम्पल जांच बास्ते ले गई।जिसकी जांच कर एक रिपोर्ट तैयार की जा रही है।कृषि निदेशक विजय सिंह ने इस अनोखी पहल और ब्लैक राइस के बाबत बताया कि इस प्रजाति में जिंक और आयरन की मात्रा अधिक होने से यह औषधीय गुणों में दूसरी चावल की प्रजातियों से आगे है। बड़ी बात है कि हमारा प्रयोग सफल रहा है और जिले की मिट्टी इसके लिए अनुकूल निकली, आगे यह प्रयोग इस क्षेत्र में क्रांति लाने वाला है।
क्रॉप कटिंग से उत्साहित कृषि विभाग ने आगामी सीजन में खेती कराने की कार्ययोजना तैयार कर ली है
कृषि विभाग ने आगामी खरीफ की सीजन में 1020 हेक्टेयर में ब्लैक राइस कि खेती कराने की कार्ययोजना तैयार कर ली है। नौ विकास खंडों के510 गांवो में खेती को 306 क्विंटल बीज की आवश्यकता होगी। एक न्याय पंचायत के अंतर्गत कम से कम पांच गांवो में इसकी खेती कराई जाएगी। उत्पादकता लक्ष्य प्रति हेक्टेयर 40 क्विंटल रखी गई है।जनपद के कृषि विभाग की ओर से जियोग्राफिकल इंडिकेशन को ब्लैक राइस चावल के नमूने नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ राइस रिसर्च हैदराबाद को भेजा गया है। यदि ब्लैक राइस मानक पर खरा उतरा तो भारत सरकार की ओर से किसानों की उपज की बिक्री को बाजार उपलब्ध कराया जाएगा।कृषि अधिकारियों की माने तो ब्लैक राइस की खेती से जैविक खाद के प्रयोग को बल मिलेगा क्योंकि किसानों ने प्रदर्शन के तौर पर रासायनिक उर्वरकों का प्रयोग नहीं किया गया था। रासायनिक उर्वरक की तुलना में जैविक खाद के प्रयोग से बेहतर उत्पादन को बल मिला है। किसानों की माने तो उर्वरक की लागत कम होने से इसकी खेती में मुनाफा ही मुनाफा है।कृषि विभाग की ओर से नौ विकास खण्डों में ब्लैक राइस का ब्यौरा निम्नवत है- चकिया में 130, शहाबगंज में 110,नौगढ़ में 80,चंदौली में 100,बरहनी 120,सकलडीहा व धाना पुर में 130 व चहनियां में 120 हेक्टेयर में खेती कराए जाने की कार्ययोजना तैयार कर ली गई है।
ब्लैक राइस की खेती को बढ़ावा देने के लिए किसान दिवस पर आह्वान
चौधरी चरण सिंह की जयंती के अवसर पर कृषि विज्ञान केंद्र के सभागार में किसान दिवस के आयोजन के उपलक्ष्य पर किसानों को उन्नत खेती की जानकारी देने के साथ अधिक उत्पादन करने वाले 18 किसानों को जिला प्रशासन ने सम्मानित किया है। सीडीओ डॉ एके श्रीवास्तव ने ब्लैक राइस की बड़े पैमाने पर खेती कराने का आह्वान किया है।

 
समान समाचार  
livehindustansamachar.com
     
खेत में फसल के डंठल जलाने पर 2500 से 15000 रुपये तक भरना होगा जुर्माना : डीएम

अभिषेक उपाध्याय @ जौनपुर
जिलाधिकारी अरविंद मलप्पा बंगारी ने बताया कि खेतों में पराली (डंठल) जलाना अब महंगा साबित होगा, ऐसा करने वालों पर जहां जुर्माना लगाई जाएंगी वहीं दोबारा पकड़े जाने पर कृषि विभाग के अनुदान से वंचित क

read more..

खेत में फसल के डंठल जलाने पर 2500 से 15000 रुपये तक भरना होगा जुर्माना : डीएम

छत्तीसगढ़ में अब होगी एप्पल बेर, खजूर सहित छह फलों की खेती

रीवा संभाग में फूड प्रोसेसिंग यूनिट के लिए नहीं रीवा से आवेदन नहीं

पिथौरागढ़ में स्थापित होगा देश का दूसरा ट्यूलिप गार्डन

तकनीक : चार किलो पैरा में होगा एक किलो मशरूम

कृषक के खेत पर मनाया गया चना प्रक्षेत्र दिवस

तकनीकी खेती अपनाएं किसान, आय होगी दुगुनी : डीएम

तटवर्ती खेतों की बर्बादी कारण बन रहे जंगली बबूल

शहर को सुन्दर बनाने हेतु व्यापारियों ने किया पौधा रोपण

अंतिम चरण में नवम्बर : अब तक नहीं हो सकी 45 फीसदी रकबे में भी बोवनी

हिमपात से कश्मीर में 15 लाख सेब के पेड़ों को नुकसान

हैदराबाद के कृषि वैज्ञानिकों ने देखा मूॅग, उडद का प्रर्दशन प्रक्षेत्र

मध्यप्रदेश में पैदा होगा विश्व का दूसरा मंहगा मसाला

विभाग की उदासीनता से सूखने लगे नव रोपित पौधे

2030 में खिलेगा अद्भुत नीले बैंगनी रंग का फूल

DM ने उद्यान विभाग द्वारा रोपित फलदार वृक्षों का किया निरीक्षण

हमीरपुर के छानी गांव में पहली बार होगी कपास की खेती

बुंदेलखंड को हरा भरा करने के लिए पुलिस के अधिकारियो ने उठायी जिम्मेदारी

अदभुत : एक पेड़ पर चालीस प्रकार के फल

डब्लूटीआई के एक्सपर्ट ने रबर फैक्ट्री के पास पकड़ा बाघ

बेजुबानों के लिए आदिवासियों के पैरों पर गिरी महिला अफसर

टाइगर सफारी में आएगा सफेद बाघ तथा सिंह का जोड़ा : राजेन्द्र शुक्ल

विश्व प्रसिद्ध ट्यूलिप गार्डन में 25 मार्च से जा सकेंगे पर्यटक

कब्ज, एसिडिटी, झुर्रियों, मोटापे में फायदेमंद है खीरे का जूस

दिमाग तेज करना हैं तो ये खाएं, बहुत तेज होती है याददाश्त

मुंह से सांप का जहर खींच नई जिंदगी देते हैं बस्तर के विष पुरुष सुंदर

सर्दी, फ्लू, फंगल इंफेक्शन में लहसुन शक्तिशाली सुपरफूड्स

नीबू का एंटीऑक्सिडेंट बीमारियों में देता है स्वास्थ्य लाभ

काली मिर्च और हल्दी वाले मसालेदार खाने के अद्भुत लाभ

हैल्दी आंखों के लिए रोजाना खाएं ये फूड

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
रोहिणी नक्षत्र में 25 मई से 3 जून तक रहेगा नौतपा, सूरज के तेवर होंगे प्रचंड
दारुल उलूम का एलान, नहीं दिखा रमजान का चांद,मंगलवार को पहला रोजा
बहुत चमत्कारी है हनुमान चालीसा, उपायों से पूरी होती है मनोकामना
Hanuman Jayanti: हनुमान चालीसा का पाठ करने से होता है संकटों का नाश
Chaitra Navratri : अष्टमी-नवमी तिथि और जानें पूजा-पारण का शुभ मुहूर्त
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  

Head office
[Editorial &Contact for news, business, complaints and suggestions]
Sirmaur, District - Rewa [MP]
Livehindustansamachar@gmail.com
Mob: +919893112422

 
समाचार चैनल  
LOCAL NEWS POLITICS
SPORTS स्वास्थ्य
Business CRIME
व्यायाम जीवन शैली
शिक्षा String
धरोहर [ऐतिहासिक] प्रदर्शन [ विरोध ]
शासन सम्पादकीय
अंतर्राष्ट्रीय SOCIAL MEDIA
JOB मनोरंजन
न्यायालय आपदा [ घटना ]
अनुसंधान आलेख [ब्लॉग]
सम्मान [ पुरस्कार ] आयोग [ बोर्ड ]
ELECTION कार्यक्रम
TECHNOLOGY संगठन
मौसम परीक्षा [ टेस्ट ]
रिपोर्ट [ सर्वे ] इंटरव्यू
भष्ट्राचार बागवानी [ कृषि ]
E-PAPER कॉन्फ्रेंस
श्रधांजलि आम बजट
सदन [ संसदीय ] योजना
रिजल्ट [परिणाम] प्रशासन
जनरल नॉलेज [स्पेशल ]
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | इंटरव्यू  | JOB  | कॉन्फ्रेंस  | आलेख [ब्लॉग]  | CRIME  | String  | [स्पेशल ]  | Business  | POLITICS  | न्यायालय  | आपदा [ घटना ]  | धरोहर [ऐतिहासिक]  | योजना  | जनरल नॉलेज  | E-PAPER  | स्वास्थ्य  | श्रधांजलि  | मौसम  | परीक्षा [ टेस्ट ]  | कार्यक्रम  | रिजल्ट [परिणाम]  | अनुसंधान  | भष्ट्राचार  | सम्मान [ पुरस्कार ]  | जीवन शैली  | मनोरंजन  | TECHNOLOGY  | अंतर्राष्ट्रीय  | आयोग [ बोर्ड ]  | LOCAL NEWS  | व्यायाम  | प्रशासन  | SPORTS  | शिक्षा  | बागवानी [ कृषि ]  | आम बजट  | SOCIAL MEDIA  | रिपोर्ट [ सर्वे ]  | संगठन  | सम्पादकीय  | ELECTION  | प्रदर्शन [ विरोध ]  | सदन [ संसदीय ]  | शासन  | पश्चिम बंगाल  | त्रिपुरा  | आंध्र प्रदेश  | मणिपुर  | केरल  | दादरा और नगर हवेली  | छत्तीसगढ़  | पांडिचेरी  | गोवा  | दमन और दीव  | पंजाब  | हरियाणा  | मिजोरम  | राजस्थान  | हिमाचल प्रदेश  | उड़ीसा  | उत्तरांचल  | उत्तर प्रदेश  | चंडीगढ़  | महाराष्ट्र  | झारखंड  | अरुणाचल प्रदेश  | तेलंगाना  | लक्ष्यदीप  | नगालैंड  | असम  | मेघालय  | दिल्ली  | सिक्किम  | गुजरात  | बिहार  | तमिलनाडु  | मध्य प्रदेश  | अंडमान एवं निकोबार  | कर्नाटक  | जम्मू और कश्मीर  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Designed & Developed by : livehindustansamachar.com
 
Hit Counter