Friday 14th of August 2020
खोज

 
livehindustansamachar.com
समाचार विवरण  
 किसी मित्र को मेल पन्ना छापो   साझा यह समाचार मूल्यांकन करें      
Save This Listing     Stumble It          
 1906 में फहराया गया था पहला तिरंगा, राष्ट्र ध्वज के रूप में लहराएगा छठा स्वरुप (Sat, Jan 26th 2019 / 10:26:43)

 


नई दिल्ली ब्यूरो
अपना देश इस बार 70वां गणतंत्र दिवस मनाने जा रहा है। हर बार की तरह इस बार हमारा राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा शान से फहराया जाएगा। वर्तमान में तिरंगे का जो स्वरूप है, दरअसल वह पहला नहीं है, बल्कि राष्ट्र ध्वज के रूप में यह इसका छठा स्वरुप है। जानना दिलचस्प होगा कि आखिर किस तरह बदलता गया अपना तिरंगा।
हर स्वतंत्र राष्ट्र का अपना एक ध्वज होता है। अभी जो अपना तिरंगा है, उसे 22 जुलाई 1947 को आयोजित भारतीय संविधान सभा की बैठक के दौरान अपनाया गया था। यह बैठक 15 अगस्त 1947 को अंग्रेजों से देश के आजाद होने से कुछ दिन पहले हुई थी। तिरंगे को 15 अगस्त 1947 और 26 जनवरी 1950 के बीच भारत के राष्ट्रीय ध्वज के रूप में अपनाया गया और इसके बाद भारतीय गणतंत्र ने इसे अपनाया।
आजादी के लड़ाई के दौरान हुआ राष्ट्रध्वज का विकास
यह जानना अत्यंत रोचक है कि हमारा राष्ट्रीय ध्वज अपने आरंभ से किन-किन परिवर्तनों से गुजरा। इसे हमारे स्वतंत्रता के राष्ट्रीय संग्राम के दौरान खोजा गया या मान्यता दी गई। भारतीय राष्ट्रीय ध्वज का विकास आज के इस रूप में पहुंचने के लिए अनेक दौरों में से गुजरा। एक रूप से यह राष्ट्र में राजनीतिक विकास को दर्शाता है।
7 अगस्त 1906 को पारसी बागान चौक (ग्रीन पार्क) कलकत्ता में फहराया गया था जिसे अब कोलकाता कहते हैं। इस ध्वज को लाल, पीले और हरे रंग की क्षैतिज पट्टियों से बनाया गया था।इस ध्वज को पेरिस में मैडम कामा और 1907(कुछ के अनुसार 1905 में) में उनके साथ निर्वासित किए गए कुछ क्रांतिकारियों द्वारा फहराया गया था। यह भी पहले ध्वज के समान था, सिवाय इसके कि इसमें सबसे ऊपरी की पट्टी पर केवल एक कमल था, लेकिन सात तारे सप्तऋषि को दर्शाते हैं। यह ध्वज बर्लिन में हुए समाजवादी सम्मेलन में भी प्रदर्शित किया गया था।तृतीय ध्वज 1917 में आया जब हमारे राजनीतिक संघर्ष ने एक निश्चित मोड़ लिया। डॉ. एनी बेसेंट और लोकमान्य तिलक ने घरेलू शासन आंदोलन के दौरान इसे फहराया। इस ध्वज में 5 लाल और 4 हरी क्षैतिज पट्टियां एक के बाद एक और सप्तऋषि के अभिविन्यास में इस पर बने सात सितारे थे। बाईं और ऊपरी किनारे पर (खंभे की ओर) यूनियन जैक था। एक कोने में सफेद अर्धचंद्र और सितारा भी था।अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सत्र के दौरान जो 1921 में बेजवाड़ा (अब विजयवाड़ा) में किया गया यहां आंध्र प्रदेश के एक युवक ने एक झंडा बनाया और गांधी जी को दिया। यह दो रंगों का बना था। लाल और हरा रंग जो दो प्रमुख समुदायों अर्थात हिन्दू और मुस्लिम का प्रतिनिधित्व करता है।
गांधी जी ने सुझाव दिया कि भारत के शेष समुदाय का प्रतिनिधित्व करने के लिए इसमें एक सफेद पट्टी और राष्ट्र की प्रगति का संकेत देने के लिए एक चलता हुआ चरखा होना चाहिए।वर्ष 1931 ध्वज के इतिहास में एक यादगार वर्ष है। तिरंगे ध्वज को हमारे राष्ट्रीय ध्वज के रूप में अपनाने के लिए एक प्रस्ताव पारित किया गया। यह ध्वज जो वर्तमान स्वरूप का पूर्वज है, केसरिया, सफेद और मध्य में गांधी जी के चलते हुए चरखे के साथ था। साथ ही यह स्पष्ट रूप से बताया गया इसका कोई सांप्रदायिक महत्व नहीं था। 22 जुलाई 1947 को संविधान सभा ने इसे मुक्त भारतीय राष्ट्रीय ध्वज के रूप में अपनाया। स्वतंत्रता मिलने के बाद इसके रंग और उनका महत्व बना रहा। केवल ध्वज में चलते हुए चरखे के स्थान पर सम्राट अशोक के धर्म चक्र को दिखाया गया। इस प्रकार कांग्रेस पार्टी का तिरंगा ध्वज अंतत: स्वतंत्र भारत का तिरंगा ध्वज बना।
 

livehindustansamachar.com
 
समान समाचार  
livehindustansamachar.com
     
दूसरों के साथ अच्छा करोगे तो.. आपके साथ भी अच्छा होगा ..!

लाइव हिंदुस्तान समाचार & सिरमौर
दिल को छू लेने वाला मार्मिक व प्रेरक वाक्या लेखक के निजी विचारो व भावनात्मक तथ्यों पर आधारित है | जो हमें सिखाता है की इंसान को असहाय व जरूरतमंद की सेवा न

read more..

दूसरों के साथ अच्छा करोगे तो.. आपके साथ भी अच्छा होगा ..!

पुलिस बिना वारंट के असंज्ञेय अपराध में गिरफ्तार नहीं कर सकती !

महाराष्ट्र में लगा राष्ट्रपति शासन, जानें इन राज्यों में कब-कब लगा राष्ट्रपति शासन

इतिहास: दादा ने बनवाई बाबरी मस्जिद, तो पोते ने चलवाया श्रीराम का सिक्का

बेहद लचीला है भारतीय संविधान, 70 साल में हुए 103 संशोधन

अंग्रेजी शासन की स्थापना के साथ ही शुरू हुआ था संवैधानिक विकास

कितना जानते हैं आप अपने देश के बारे में ?

आइंसटाइन से लेकर स्वामी जी तक...महान विचारकों की राय में महान है भारत

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
हनुमान होते तो नहीं होता श्रीराम का स्वर्गारोहण, इसलिए किया था ऐसा उपाय
जानिए ,रक्षाबंधन की तिथि, वार, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि सहित कथा !
व्यक्ति की राशि पर भी निर्भर करता है तो उसे कैसे जीवनसाथी मिलेगा
मोक्षदायिनी और पुण्यफल देने वाली देवशयनी एकादशी की पूजाविधि और शुभ मुहूर्त
कांवड़ यात्रा की अनुमति देने से झारखंड सरकार ने किया इन्कार
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  
लाइव हिंदुस्तान समाचार फेसबुक ,ट्वविटर ,इंस्ट्राग्राम , लिंक्डइन से जुड़ने के लिए फॉलो करे या विजिट करे : www.livehindustansamachar.com
 
समाचार चैनल  
स्थानीय राजनीति
खेल COVID-19
बिज़नेस अपराध
जीवन-शैली शिक्षा
राष्ट्रीय सम्पादकीय
अंतर्राष्ट्रीय सोशल मीडिया
कैरियर मनोरंजन
न्यायालय आपदा
अनुसंधान ब्लॉग
निर्वाचन मौसम
भष्ट्राचार कृषि
HEALTH शासन
योजना प्रशासन
कविता/कहानी लाइव हिंदुस्तान समाचार [विशेष]
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | अनुसंधान  | अंतर्राष्ट्रीय  | बिज़नेस  | लाइव हिंदुस्तान समाचार [विशेष]  | मौसम  | शिक्षा  | योजना  | प्रशासन  | न्यायालय  | आपदा  | राष्ट्रीय  | सम्पादकीय  | खेल  | COVID-19  | HEALTH  | मनोरंजन  | स्थानीय  | राजनीति  | जीवन-शैली  | कैरियर  | अपराध  | भष्ट्राचार  | सोशल मीडिया  | शासन  | ब्लॉग  | कविता/कहानी  | निर्वाचन  |  कृषि  | पांडिचेरी  | राजस्थान  | गुजरात  | पश्चिम बंगाल  | गोवा  | पंजाब  | झारखंड  | तमिलनाडु  | कर्नाटक  | मिजोरम  | दमन और दीव  | त्रिपुरा  | महाराष्ट्र  | लद्दाख  | आंध्र प्रदेश  | मध्य प्रदेश  | असम  | मणिपुर  | अरुणाचल प्रदेश  | मेघालय  | दिल्ली  | उड़ीसा  | छत्तीसगढ़  | दादरा और नगर हवेली  | चंडीगढ़  | उत्तरांचल  | सिक्किम  | नगालैंड  | उत्तर प्रदेश  | केरल  | लक्ष्यदीप  | हरियाणा  | बिहार  | तेलंगाना  | हिमाचल प्रदेश  | अंडमान एवं निकोबार  | जम्मू और कश्मीर  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Design & Development By MakSoft
 
Hit Counter