Tuesday 26th of March 2019
खोज

 
livehindustansamachar.com
समाचार विवरण  
 किसी मित्र को मेल पन्ना छापो   साझा यह समाचार मूल्यांकन करें      
Save This Listing     Stumble It          
 मध्य प्रदेश में प्रत्येक व्यक्ति लगभग 23 हजार रुपए का कर्जदार ! (Mon, Mar 11th 2019 / 21:37:10)

 


चन्द्रिका प्रसाद तिवारी
मध्य प्रदेश सरकार पर कर्ज का संकट लगातार गहराता जा रहा है। हालात ये हैं कि पिछले तीन सालों में मध्य प्रदेश के प्रत्येक नागरिक पर कर्ज लगभग नौ हजार रुपए बढ़ गया है। मध्य प्रदेश सरकार पर आज की स्थिति में लगभग एक लाख 84 हजार करोड़ रुपए का कर्ज है। मध्य प्रदेश की जनसंख्या को यदि 8 करोड़ मानें तो प्रति व्यक्ति यह कर्ज लगभग 23 हजार रुपए माना जा सकता है। 31 मार्च 2016 की स्थिति में मध्य प्रदेश सरकार पर एक लाख 11 हजार करोड़ रुपए का कर्ज था। तब प्रति व्यक्ति कर्ज का आंकड़ा 13 हजार 800 रुपए था। चुनावी लुभावने फैसलों की वजह से मध्य प्रदेश सरकार पर यह कर्ज लगातार बढ़ता गया।
अब किसानों की कर्ज माफी और अन्य लोकलुभावन फैसलों से राज्य सरकार के सामने न सिर्फ वित्तीय संकट आ गया है, बल्कि विकास कार्यों के रुकने की भी आशंका बढ़ने लगी है। 15 साल बाद सत्ता में लौटी कांग्रेस आरोप लगा रही है कि भाजपा ने उन्हें प्रदेश का खजाना खाली दिया है। वहीं 2003 में जब भाजपा दस साल बाद सरकार में लौटी थी तो भाजपा नेताओं द्वारा भी कांग्रेस पर यही आरोप लगाए जाते थे। जानकारों के मुताबिक विकास कार्यों के लिए सरकार का कर्ज लेना कोई बुरी बात नहीं है लेकिन समस्या तब पैदा होती है जब सरकार की आय के स्रोत लगातार कम होते जाएं और खर्च लगातार बढ़ता जाए।
भाजपा सरकार ने कई लोकलुभावन योजनाओं को लागू कर सरकारी खर्च में खूब इजाफा किया। अब कांग्रेस सरकार ने भी किसान कर्ज माफी और अन्य योजनाओं की वजह से खर्चों में कोई कमी नहीं छोड़ी है। 2003 में मप्र सरकार पर लगभग 20 हजार करोड़ रुपए का कर्ज था जो 2019 में बढ़कर एक लाख 84 हजार करोड़ रुपए हो गया है। पिछले पांच साल में हालात सबसे ज्यादा बिगड़े हैं। 2014 में मप्र सरकार पर 77 हजार करोड़ रुपए का कर्ज ही था।
पांच साल में यह कर्ज एक लाख करोड़ रुपए से ज्यादा बढ़ा है। वित्तीय वर्ष 2009-10 से 2016- 17 तक राज्य सरकार ने लगभग सवा लाख करोड़ रुपए का कर्ज लिया, जबकि सिर्फ 32 हजार करोड़ रुपए ही चुका पाई। बेतहाशा खर्च बढ़ने का अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि सामाजिक क्षेत्र की योजनाओं पर 2014-15 में सरकार का खर्च 32 हजार करोड़ रुपए था, जो 2017-18 में बढ़कर 56 हजार 411 करोड़ रुपए हो गया।
आय के साधन नहीं
यह भी जगजाहिर है कि मध्य प्रदेश की आय का मुख्य स्रोत पेट्रोल-डीजल पर वैट, आबकारी और वाणिज्यिक कर ही है। इसके अलावा राज्य सरकार बहुत हद तक केंद्रीय करों से मिलने वाले हिस्से पर आश्रित है। कई सालों से आय के साधन सीमित रहे हैं और खर्च बढ़ता गया है। जीएसटी लगने के बाद से राज्य सरकार की आय में फिलहाल कोई बढ़ोतरी नहीं हुई है।
वहीं व्यय हर साल बढ़ता जा रहा है। केंद्र सरकार भी इस साल केंद्रीय करों से मिलने वाले हिस्से में लगभग 4000 करोड़ रुपए की कटौती कर सकती है। हालांकि, विभिन्न् करों से सरकार की आय बढ़ी है लेकिन खर्च की तुलना में यह कम है। 2003-04 में राज्य सरकार विभिन्न् टैक्स और केंद्र के अनुदान से 14 हजार करोड़ रुपए कमाती थी, जबकि 2017-18 में राजस्व संग्रहण लगभग एक लाख 39 हजार करोड़ रुपए रहा लेकिन प्रदेश सरकार पर कर्ज बढ़ता गया।
क्या कहते है विशेषज्ञ
किसानों की कर्ज माफी में बहुत पैसा लग रहा है। कर्ज कम करने की फिलहाल तो नहीं सोच सकते, लेकिन यह कर्ज ज्यादा न बढ़े इस पर ध्यान देना होगा। सरकार विभिन्न् सामाजिक योजनाओं के जरिए मुफ्त में जो पैसा बांटती है, ऐसे खर्चों को कम करना होगा। यदि ये योजनाएं चलती रहीं तो विकास कार्य बंद हो जाएंगे। सरकार की इच्छाशक्ति फिलहाल लोकलुभावन योजनाओं को कम करने की नहीं दिखती। ऐसी योजनाओं का सीधा असर सड़क, बिजली, पानी और अन्य विकास के महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट पर पड़ता है।
राघवजी, पूर्व वित्त मंत्री, मप्र
समाज, राजनेता और नौकरशाहों की मानसिकता प्रदेश के उत्कृष्टता का सम्मान करने की नहीं रह गई है। सरकारें ऐसी योजनाएं लाई हैं, जिससे आर्थिक उन्नति नहीं हुई बल्कि ऐसा मानस बना है कि हम आर्थिक उन्नति ही नहीं करना चाहते। मप्र में कर्ज खत्म करने की क्षमता है लेकिन इसके लिए हमें अपनी ताकत पर भरोसा करना होगा और उस आधार पर कार्ययोजना बनानी होगी। अगर हमें रुपए से रुपए कमाना है तो श्रम शक्ति, किसान, खनिज और अन्य संसाधनों पर भरोसा करना होगा।
राजेंद्र कोठारी, वित्त विशेषज्ञ, भोपाल


livehindustansamachar.com
 
समान समाचार  
livehindustansamachar.com
     
विश्व जल दिवस : दुनिया में 400 करोड़ लोगों को नहीं मिल रहा स्वच्छ पानी

अश्वनी तिवारी
इस साल होली के अगले दिन ही विश्व जल दिवस है। जहां बिन पानी के होली मनाने के बारे में सोचा भी नहीं जा सकता वहीं देश का करीब 50 फीसदी हिस्सा सूखे की चपेट में आने वाला है। एक रिपोर्ट के अनुसार दुनिया में 400 करोड़ लोगों को स्वच्छ पानी नहीं मि

read more..

विश्व जल दिवस : दुनिया में 400 करोड़ लोगों को नहीं मिल रहा स्वच्छ पानी

भारत में 16 करोड़ हैं शराबी, गांजे-भांग का भी है बड़ा मार्केट: स्टडी

नौ साल में 42 प्रतिशत गिरा भारत को रूसी हथियारों का निर्यात

गोमती नदी को संवारने में करोड़ों का गोलमाल, सीएजी की रिपोर्ट में खुलासा

विश्व में सर्वाधिक हानिकारक हैं भारत,यूरोप और रूस के कोयला पावर प्लांट !

भारत में पुरुषों में मुंह और महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर के सर्वाधिक मरीज

कंपनी रजिस्ट्रार के पास रियल एस्टेट कंपनियों के पैन की जानकारी नहीं :CAG

महिलाओं को पुरुषों की तुलना में नशे की लत लगने का खतरा अधिक : स्टडी

कैग रिपोर्ट : लापरवाही से यूपी सरकार को 11920 करोड़ का नुकसान

सर्वर पर पासवर्ड लगाना भूल गया SBI, ग्राहकों के खातों की जानकारी लीक

अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया भारतीय अभिभावकों के लिए सबसे पसंदीदा देश

मझगवां, बरौंधा क्षेत्र में मिला विलुप्त प्रजाति के गिद्धों का परिवार

वैश्विक अर्थव्यवस्था रैंकिंग में ब्रिटेन को पीछे छोड़ सकता है भारत : PWC

कार्यस्थलों पर यौन उत्पीड़न की शिकार 70% महिलाओं ने नहीं की शिकायत

सर्वेक्षण : 2nd क्लास के सवाल नहीं हल कर पाते 5वीं के 81 प्रतिषत छात्र

प्रबंधन की कमी से मध्‍यप्रदेश सरकार को 40 हजार करोड़ से ज्यादा का नुकसान : CAG

स्वच्छ भारत मिशन : 44 फीसदी आज भी कर रहे हैं खुले में शौच !

भारतीय संप्रभुता औऱ क्षेत्रीय अखंडता का अतिक्रमण है CPEC : भारत

फेसबुक का ऐप इंस्टाल किए बिना भी कंपनी ट्रैक कर रही डिवाइस

दिल्ली से ज्यादा अच्छी कोलकाता की है यातायात व्यवस्था

जवाहर नवोदय विद्यालय में 5 सालों में 49 छात्रों ने की आत्महत्या

जेंडर गैप में भारत से बेहतर स्थिति में हैं बांग्लादेश और नेपाल

स्त्री-पुरुष के बीच दफ्तर में बराबरी लाने में 200 साल भी कम पड़ेंगेः डब्ल्यूईएफ

महिलाओं के खिलाफ भेदभाव से देश का विकास प्रभावित : यूनीसेफ

नोटबंदी के बावजूद नहीं थम रहा चुनाव में धन का इस्तेमाल !

25 फीसदी जातियां ही उठा रही हैं ओबीसी आरक्षण का 97% फायदा

दुनिया के 167 देशों में साढ़े चार करोड़ से ज्यादा लोग गुलाम

विश्व एड्स दिवस: 2017 में भारत में 1.20 लाख थे एचआईवी पीड़ित

राफेल व नोटबंदी पर जानबूझकर रिपोर्ट में देरी कर रहा कैग !

एशिया में कृषि बीज के प्रमुख केंद्र के रूप में उभर रहा है भारत

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
महाशिवरात्रि : पुलिस ने रोका रास्ता, किन्नर अखाड़ा ने नहीं किया अमरत्व स्नान
स्फटिक शिवलिंग की पूजा से धन और सोने के शिवलिंग से मिलता है ऐश्वर्य
महाशिवरात्रि : शिव के वैराट्य का उत्सव है महाशिवरात्रि
कुंभ 2019 : महाशिवरात्रि पर त्रिवेणी में स्नान के लिए उमड़े श्रद्धालु, मंदिरों में जुटे भक्त
पीएम ने संगम में लगाई डुबकी, सफाई और सुरक्षा कर्मियों को किया सम्मानित
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  

लाइव हिंदुस्तान समाचार

 
समाचार चैनल  
स्थानीय राजनीति
खेल स्वास्थ्य
Business अपराध
जीवन शैली शिक्षा
String धरोहर [ऐतिहासिक]
प्रदर्शन [ विरोध ] शासन
सम्पादकीय अंतर्राष्ट्रीय
सोशल मीडिया JOB
मनोरंजन न्यायालय
आपदा [ घटना ] अनुसंधान
आलेख [ब्लॉग] सम्मान [ पुरस्कार ]
आयोग [ बोर्ड ] ELECTION-2019
कार्यक्रम टेक्नोलॉजी
संगठन मौसम
परीक्षा [ टेस्ट ] रिपोर्ट [ सर्वे ]
भष्ट्राचार बागवानी [ कृषि ]
कॉन्फ्रेंस [ विज्ञप्ति ] श्रधांजलि
आम बजट-2019 सदन [ संसदीय ]
योजना रिजल्ट [परिणाम]
प्रशासन जनरल नॉलेज
होली [स्पेशल ]
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | राजनीति  | संगठन  | शासन  | जीवन शैली  | खेल  | ELECTION-2019  | धरोहर [ऐतिहासिक]  | कार्यक्रम  | श्रधांजलि  | रिपोर्ट [ सर्वे ]  | प्रशासन  | परीक्षा [ टेस्ट ]  | भष्ट्राचार  | आपदा [ घटना ]  | आलेख [ब्लॉग]  | मौसम  | आम बजट-2019  | String  | मनोरंजन  | अनुसंधान  | टेक्नोलॉजी  | प्रदर्शन [ विरोध ]  | सम्मान [ पुरस्कार ]  | अपराध  | आयोग [ बोर्ड ]  | कॉन्फ्रेंस [ विज्ञप्ति ]  | स्थानीय  | सदन [ संसदीय ]  | स्वास्थ्य  | सोशल मीडिया  | शिक्षा  | न्यायालय  | योजना  | जनरल नॉलेज  | सम्पादकीय  | अंतर्राष्ट्रीय  | JOB  | Business  | रिजल्ट [परिणाम]  | बागवानी [ कृषि ]  | होली [स्पेशल ]  | आंध्र प्रदेश  | झारखंड  | जम्मू और कश्मीर  | हिमाचल प्रदेश  | उड़ीसा  | दिल्ली  | लक्ष्यदीप  | तेलंगाना  | सिक्किम  | अरुणाचल प्रदेश  | असम  | चंडीगढ़  | उत्तर प्रदेश  | मिजोरम  | महाराष्ट्र  | पश्चिम बंगाल  | दमन और दीव  | नगालैंड  | तमिलनाडु  | बिहार  | त्रिपुरा  | दादरा और नगर हवेली  | मध्य प्रदेश  | अंडमान एवं निकोबार  | पांडिचेरी  | गुजरात  | मेघालय  | मणिपुर  | पंजाब  | छत्तीसगढ़  | हरियाणा  | उत्तरांचल  | केरल  | गोवा  | राजस्थान  | कर्नाटक  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Designed & Developed by : livehindustansamachar.com
 
Hit Counter