Monday 14th of October 2019
खोज

 
livehindustansamachar.com
समाचार विवरण  
 किसी मित्र को मेल पन्ना छापो   साझा यह समाचार मूल्यांकन करें      
Save This Listing     Stumble It          
 क्या एनआरसी और नागरिकता छिनने के डर से असम में बढ़ीं आत्महत्याएं ? (Sun, Jun 30th 2019 / 10:32:37)

 


लाइव हिंदुस्तान समाचार
राज्य से गैर कानूनी अप्रवासियों को बाहर करने के अभियान के तहत असम में 40 लाख लोगों को उनकी भारतीय नागरिकता से बेदखल किया जा रहा है। रिश्तेदारों और सामाजिक कार्यकर्ताओं का दावा है कि संभावित 'देश निकाला' का सामना कर रहे कुछ लोगों ने सदमे में आत्महत्या कर ली है।
मई के महीने में एक दिन 88 साल के अशरफ अली ने अपने परिवार से कहा कि वो रमजान में इफ्तार के लिए खाना लेने जा रहे हैं। खाना लाने की बजाय उन्होंने जहर खाकर अपनी जान ले ली। अली और उनका परिवार उस सूची में शामिल कर लिया गया था, जिसमें वो लोग हैं जिन्होंने साबित कर दिया था कि वे भारतीय नागरिक हैं।
लेकिन उनके शामिल होने को उनके पड़ोसी ने ही चुनौती दे दी और अली को फिर से अपनी नागरिकता सिद्ध करने के लिए बुलाया गया था, अगर इसमें वे असफल होते तो उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाता। उनके गांव में रहने वाले मोहम्मद गनी कहते हैं, "उन्हें डर था कि उन्हें डिटेंशन सेंटर में भेज दिया जाएगा और उनका नाम अंतिम सूची से बाहर कर दिया जाएगा।"
असम में नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजेंस (एनआरसी) को 1951 में बनाया गया था ताकि ये तय किया जा सके कि कौन इस राज्य में पैदा हुआ है और भारतीय है और कौन पड़ोसी मुस्लिम बहुल बांग्लादेश से आया हुआ हो सकता है।
40 लाख लोगों पर लटकी तलवार
इस रजिस्टर को पहली बार अपडेट किया जा रहा है। इसमें उन लोगों को भारतीय नागरिक के तौर पर स्वीकार किया जाना है जो ये साबित कर पाएं कि वे 24 मार्च 1971 से पहले से राज्य में रह रहे हैं। ये वो तारीख है जिस दिन बांग्लादेश ने पाकिस्तान से अलग होकर अपनी आजादी की घोषणा की थी।
भारत सरकार का कहना है कि राज्य में गैर कानूनी रूप से रह रहे लोगों को चिह्नित करने के लिए ये रजिस्टर जरूरी है। बीती जुलाई में सरकार ने एक फाइनल ड्राफ्ट प्रकाशित किया था जिसमें 40 लाख लोगों का नाम शामिल नहीं था जो असम में रह रहे हैं। इसमें बंगाली लोग हैं, जिनमें हिंदू और मुस्लिम दोनों शामिल हैं।
इस सप्ताह की शुरुआत में प्रशासन ने घोषणा की थी कि पिछले साल एनआरसी में शामिल किए लोगों में से भी एक लाख और लोगों को सूची से बाहर किया जाएगा और उन्हें दोबारा अपनी नागरिकता साबित करनी होगी। 31 जुलाई को एनआरसी की अंतिम सूची जारी होगी, इसलिए रजिस्टर से बाहर किए गए लोगों में से आधे लोग खुद को सूची से बाहर किए जाने के खिलाफ अपील कर रहे हैं।
1980 के दशक के अंतिम सालों से ही रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया के साथ ही सैकड़ों ट्रिब्यूनल स्थापित किए जा रहे हैं। वे नियमित रूप से संदेहास्पद मतदाता या गैरकानूनी घुसपैठियों को विदेशियों के रूप में पहचान कर रहे हैं जिन्हें देश के निकाला जाना है।
51 लोगों ने की आत्महत्याएं
नागरिक रजिस्टर और ट्रिब्यूनल ने असम के विशिष्ट सांस्कृतिक पहचान वाले अल्पसंख्यकों में एक भय पैदा कर दिया है। असम के संकट के केंद्र में बाहर से आने वाले कथित घुसपौठियों पर वो बहस है जिसकी वजह से मूल आबादी और बंगाली शरणार्थियों के बीच जातीय तनाव पैदा हो गया है। आबादी की शक्ल बदलने, जमीनों और आजीविका की कमी और राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता ने इस बहस में आग में और घी डालने का काम किया है कि राज्य में किसे रहने का अधिकार है।
सामाजिक कार्यकर्ताओं का कहना है कि 2015 में जबसे सिटिजन रजिस्टर को अपडेट करने की शुरुआत हुई है, सूची से बाहर जाने की स्थिति में नागरिकता छिन जाने और डिटेंशन सेंटर में भेजे जाने के डर से बहुत से बंगाली हिंदू और मुस्लिम लोगों ने खुदकुशी कर ली है।
सिटिजन फॉर जस्टिस एंड पीस संगठन के जामसेर अली ने असम में आत्महत्या के ऐसे 51 मामलों की सूची बनाई है। उनका दावा है कि इन आत्महत्याओं का संबंध, नागरिकता छिनने की संभावना से उपजे सदमे और तनाव से है। उन्होंने बताया कि इनमें से अधिकांश आत्महत्याएं जनवरी 2018 के बाद हुईं, जब अपडेट किए हुए रजिस्टर का पहला ड्राफ्ट सार्वजनिक किया गया।
नागरिक अधिकार कार्यकर्ता प्रसेनजीत बिस्वास इस रजिस्टर को एक बहुत बड़ी मानवीय आपदा करार देते हैं जो धीरे धीरे विकराल बनती जा रही है और जिसमें लाखों नागरिक राज्यविहीन बनाए जा रहे हैं और उन्हें प्राकृतिक न्याय के सभी तरीकों से वंचित किया जा रहा है।
आत्महत्याएं बढ़ीं
असम पुलिस स्वीकार करती है कि ये मौतें अप्राकृतिक हैं, लेकिन उसका कहना है कि इन मौतों को नागरिकता पहचान को लेकर चल रही प्रक्रिया से जोड़ने के लिए उनके पास पर्याप्त साक्ष्य नहीं हैं।
एक शोधकर्ता अब्दुल कलाम आजाद, साल 2015 में जबसे रजिस्टर अपडेट करने की प्रक्रिया शुरू हुई तबसे आत्महत्याओं का रिकॉर्ड रख रहे हैं। वो कहते हैं, "पिछले साल जबसे एनआरसी का फाइनल ड्राफ्ट प्रकाशित हुआ है तबसे इस तरह के मामले बढ़े हैं।"
उन्होंने बताया, "पीड़ितों से संबंधित लोगों से मैं मिलता रहा हूं। जिन लोगों ने खुदकुशी की उन्हें या तो संदेहास्पद मतदाता घोषित कर दिया गया था या एनआरसी सूची से उन्हें बाहर कर दिया गया था. ये बहुत दुखद है।"
नागरिक अधिकार कार्यकर्ता जामसेर अली के अनुसार, असम के बारपेटा जिले में एक दिहाड़ी मजदूर 46 साल के सैमसुल हक ने पिछले नवंबर में आत्महत्या कर ली क्योंकि उनकी पत्नी मलेका खातून को सूची में शामिल नहीं किया गया था।
साल 2005 में मलेका को संदेहास्पद मतदाता घोषित कर दिया गया था लेकिन बारपेटा के फॉरेनर्स ट्रिब्यूनल में वो ये मामला जीत गईं। इसके बावजूद उनका नाम वोटर लिस्ट या एनआरसी में शामिल नहीं हो पाया।
पीढ़ियों की त्रासदी
कुछ मामलों में एनआरसी की छाया ने कई पीढ़ियों पर अपना त्रासद असर डाला है। इसी साल मार्च में असम के उडालगिरी जिले में एक दिहाड़ी मजदूर 49 साल के भाबेन दास ने खुदकुशी कर ली. उनके परिवार ने कहा कि कानूनी लड़ाई के लिए लिए गए कर्ज को वो अदा नहीं कर सके थे।
दास के वकील ने एनआरसी में शामिल किए जाने की अपील की थी, इसके बावजूद उनका नाम जुलाई में जारी की गई सूची में शामिल नहीं हो पाया।
इस परिवार में एनआरसी को लेकर ये दूसरी त्रासदी थी, क्योंकि 30 साल पहले उनके पिता ने भी खुदकुशी कर ली थी क्योंकि उन्हें अपनी नागरिकता साबित करने के लिए कहा गया था। हालांकि उनकी मौत के कुछ महीने बाद ही ट्रिब्यूनल ने उन्हें भारतीय घोषित कर दिया था।
खरुपेटिया कस्बे में जब स्कूल टीचर और वकील निरोड बारन दास अपने घर में मृत पाए गए थे, तो उनके दोस्तों और रिश्तेदारों ने बताया कि उस समय उनके शव के पास तीन दस्तावेज मिले थे।
एक एनआरसी नोटिफिकेशन जिसमें उन्हें विदेशी घोषित किया गया था, एक सुसाइड नोट, जिसमें कहा गया था कि उनके परिवार का कोई भी व्यक्ति इसके लिए जिम्मेदार नहीं है और पत्नी को लिखा गया पत्र जिसमें दोस्तों से लिए गए छोटे कर्ज को अदा करने की बात कही गई थी।
उनके भाई अखिल चंद्र दास ने कहा, "साल 1968 में वो ग्रैजुएट हुए थे और 30 सालों तक पढ़ाया। उनके स्कूल के सर्टिफिकेट से साबित होता है कि वो विदेशी नहीं थे। उनकी मौत के लिए एनआरसी लागू करने वाले अधिकारी जिम्मेदार हैं।"
हाल ही में भारत के एक पुरस्कार प्राप्त पूर्व सैनिक मोहम्मद सनाउल्लाह की कहानी प्रकाशित की थी। विदेशी घोषित किए जाने के बाद जून में उन्हें 11 दिनों तक डिटेंशन सेंटर में रखा गया, जिसके बाद राष्ट्रीय स्तर पर हंगामा हुआ।
डिटेंशन सेंटर से छूटने के बाद सनाउल्लाह ने कहा था, "मैंने भारत के लिए अपनी जिंदगी के लिए खतरा मोल लिया था। मैं हमेशा भारतीय रहूंगा। ये पूरी प्रक्रिया बिल्कुल गड़बड़ है।"
सुप्रीम कोर्ट ने एनआरसी की अंतिम सूची बनाने के लिए 31 जुलाई तक की समय सीमा तय की है। असम की राज्य सरकार तेजी से ये सूची तैयार कर रही है। लाखों बंगाली हिंदू और मुस्लिम राज्य विहीन बनाए का सामना कर रहे हैं।
एक स्थानीय वकील हाफिज राशिद चौधरी कहते हैं, "एनआरसी ड्राफ्ट से बाहर किए गए 40 लाख लोगों में से कई अंतिम सूची में शामिल नहीं हो पाएंगे। हो सकता है कि ये संख्या आधे से भी ज्यादा हो।"

livehindustansamachar.com
 
समान समाचार  
livehindustansamachar.com
     
न्याय पाने की कीमत : मौत के मंडराते साये से जूझने के लिए मजबूर !

लाइव हिंदुस्तान समाचार
उन्नाव मेरे पड़ोस में है, इसलिए रह-रहकर ध्यान लखनऊ के ट्रॉमा सेंटर की ओर जा रहा है, जहां एक बहादुर लड़की (और उसका वकील भी) अपनी जान बचाने की लड़ाई लड़ रही है। वह तीन साल से लड़ रही है। उसे न्याय पाने के लिए बा

read more..

न्याय पाने की कीमत : मौत के मंडराते साये से जूझने के लिए मजबूर !

अंतर्ध्वनि : छवि गढ़ने का निर्णय लेने के लिए बहुत साहस और स्वतंत्रता की जरूरत

शिक्षा का स्तर : कहीं की ईंट, कहीं का रोड़ा शिक्षा का यूं कुनबा जोड़ा !

आलेख : समृद्धि से लोकतंत्र की ओर बढ़ेगा चीन ?

जयशंकर के राजपथ पर कालीन नहीं, कांटे अधिक !

जनता की बढ़ी उम्मीद, संगठन और सरकार की अब ये हैं बड़ी चुनौतियां

सरकार किसी की भी बने, देश भर में चर्चा में होंगे ये 8 बड़े राजनीतिक सवाल

राहुल और प्रियंका का लोकतंत्र, सबकुछ भाजपा के पास, फिर भी परेशान

डरा हुआ पाकिस्तान अब रणनीति पर कर रहा है काम

जम्मू & कश्मीर के राजा ने रखा था हिंदुस्तान में विलय का प्रस्ताव !

आतंकी संगठनों का भारत की नाक में दम : धारा 370 खत्म करने का सही वक्त

CRPF एक अत्याधुनिक टेक्टिक फोर्स फिर भी कॉल इंटरसेप्ट करने का अधिकार नहीं !

इंदिरा जैसी इच्छा शक्ति हो तो फौज दे सकती है आतंकवाद का माकूल जवाब

आखिर कब तक बुझते रहेंगे चिराग,बच्चे यतीम और पत्नियां होंगी विधवा ?

CRPF जवानों की मौत का तांडव :आरओपी और इंटेलीजेंस की नाकामी तो नहीं ?

सीएम ममता की राह पर चल निकले हैं यूपी के सीएम योगी !

भाजपा अध्यक्ष शाह की बिछाई चौसर पर तो नहीं आ गईं ममता !

महारैली में विपक्षी एकता की मरीचिका, साम्यताओं से ज्यादा अंतर्विरोध

भविष्य में जोर पकड़ेगी ओबीसी, एससी-एसटी कोटा बढ़ाने की मांग !

मोदी सरकार के कई फैसले व याचिकाएं खारिज कर चुका है सुप्रीम कोर्ट

सत्ता के आरक्षण दांव से लड़ना विपक्ष के लिए होगा कठिन !

हनुमान जी को दलित,आर्य,मुस्लमान बताना भाजपा को पड़ेगा भारी !

भाजपा और संघ परिवार में सब कुछ ठीक नहीं ?

युवतियों की आपबीती पर लाइव हिंदुस्तान समाचार की खास रिपोर्ट...!

राम मंदिर, अनुच्छेद 370 और समान नागरिक संहिता पर BJP ने दिया धोखा ?

विवादास्पद नहीं दखलअंदाजी का शिकवा

नक्सल और अपराध के बीच छत्तीसगढ़ की राजनीति

लोकतंत्र के मायाजाल में सत्ता, प्रशासन और शासन का भ्रमजाल

पटेल का फार्मूला होता तो लाहौर और कराँची भारत का होता

राम का चित्रकूट रावणों के हवाले : साँच कहै ता मारन धावय !

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
शारदीय नवरात्र 2019 : उज्जैन में कलेक्टर ने लगाया माता को मदिरा का भोग
नवरात्रि में नौ कन्या का महत्व : नवरात्रि में कन्या और देवी पूजन एक समान
''नम: शिवाय'' शिव पंचाक्षरी मंत्र के जाप से हो जाता है असाध्य रोगों का नाश
बकरीद के चांद के हुए दीदार, 12 अगस्त को मनेगी ईद उल अजहा
भगवान शिव के मंदिर में हुआ चमत्कार, नंदी और गणेश की प्रतिमा पीने लगी दूध
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  
लाइव हिंदुस्तान समाचार अधिक जानकारी के लिए संपर्क करे : 9425330281,9893112422
 
समाचार चैनल  
स्थानीय खेल
स्वास्थ्य बिज़नेस
अपराध जीवन शैली
शिक्षा सम्पादकीय
अंतर्राष्ट्रीय सोशल मीडिया
जॉब मनोरंजन
न्यायालय आपदा
अनुसंधान निर्वाचन
कार्यक्रम टेक्नोलॉजी
रिपोर्ट कॉन्फ्रेंस
सदन प्रशासन
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | स्थानीय  | बिज़नेस  | कार्यक्रम  | जीवन शैली  | अनुसंधान  | स्वास्थ्य  | आपदा  | जॉब  | सम्पादकीय  | न्यायालय  | टेक्नोलॉजी  | प्रशासन  | खेल  | अपराध  | मनोरंजन  | कॉन्फ्रेंस  | शिक्षा  | अंतर्राष्ट्रीय  | निर्वाचन  | रिपोर्ट  | सोशल मीडिया  | सदन  | कर्नाटक  | बिहार  | उत्तरांचल  | मणिपुर  | झारखंड  | तेलंगाना  | असम  | दमन और दीव  | पंजाब  | गोवा  | उत्तर प्रदेश  | अंडमान एवं निकोबार  | गुजरात  | राजस्थान  | लक्ष्यदीप  | पश्चिम बंगाल  | आंध्र प्रदेश  | चंडीगढ़  | मेघालय  | दादरा और नगर हवेली  | उड़ीसा  | हिमाचल प्रदेश  | त्रिपुरा  | छत्तीसगढ़  | जम्मू और कश्मीर  | सिक्किम  | तमिलनाडु  | पांडिचेरी  | मध्य प्रदेश  | नगालैंड  | केरल  | हरियाणा  | महाराष्ट्र  | अरुणाचल प्रदेश  | दिल्ली  | मिजोरम  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Design & Development By MakSoft
 
Hit Counter