Sunday 5th of July 2020
खोज

 
livehindustansamachar.com
समाचार विवरण  
 किसी मित्र को मेल पन्ना छापो   साझा यह समाचार मूल्यांकन करें      
Save This Listing     Stumble It          
 यूपी में एक लाख हेक्टेयर से ज्यादा वन भूमि पर नेता, अफसर और दबंग काबिज (Mon, Jul 22nd 2019 / 09:53:19)

 


जुनैद खान @ स्टेट ब्यूरो ,सोनभद्र
सोनभद्र में एक लाख हेक्टेयर से ज्यादा वन भूमि पर अवैध रूप से नेता, अफसर और दबंग काबिज हैं। जिन अफसरों की यहां तैनाती हुई, उनमें से अधिकतर ने अपनी आने वाली कई पीढ़ियों के भरण-पोषण का इंतजाम कर दिया।
इसमें वन और राजस्व विभाग के कार्मिकों की मिलीभगत जगजाहिर है। पीढ़ियों से जमीन जोत रहे लोगों का शोषण भी किसी से छिपा नहीं है।
खास बात यह है कि पांच साल पहले वन विभाग के ही एक मुख्य वन संरक्षक एके जैन ने यह रिपोर्ट दी थी। साथ ही मामले की सीबीआई जांच की सिफारिश भी की थी, लेकिन इस रिपोर्ट के आधार पर आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई।
सोनभद्र में जमीन पर कब्जे को लेकर नरसंहार की बुनियाद कोई एक दिन में नहीं रखी गई। इस क्षेत्र को जानने वाले विशेषज्ञों का मानना है कि अगर समय रहते उचित कदम नहीं उठाए गए तो इस तरह की वारदातों को रोक पाना और भी मुश्किल होगा। हालांकि, इन हालात से वर्ष 2014 में ही तत्कालीन मुख्य वन संरक्षक (भू-अभिलेख एवं बंदोबस्त) एके जैन ने शासन व सरकार को अवगत करा दिया था।
जैन की रिपोर्ट के मुताबिक, सोनभद्र में जंगल की जमीन की लूट मची हुई है। अब तक एक लाख हेक्टेयर से ज्यादा जमीन अवैध रूप से बाहर से आए ‘रसूखदारों’ या उनकी संस्थाओं के नाम की जा चुकी है। यह प्रदेश की कुल वन भूमि का छह प्रतिशत हिस्सा है। जैन ने पूरे मामले से सुप्रीम कोर्ट को अवगत कराने की सिफारिश भी की थी।
रिपोर्ट के अनुसार, सोनभद्र में 1987 से लेकर अब तक एक लाख हेक्टेयर भूमि को अवैध रूप से गैर वन भूमि घोषित कर दिया गया है, जबकि भारतीय वन अधिनियम-1927 की धारा-4 के तहत यह जमीन ‘वन भूमि’ घोषित की गई थी।
सुप्रीम कोर्ट की अनुमति के बिना इसे किसी व्यक्ति या प्रोजेक्ट के लिए नहीं दिया जा सकता। इतना ही नहीं, आहिस्ता-आहिस्ता अवैध कब्जेदारों को असंक्रमणीय से संक्रमणीय भूमिधर अधिकार यानी जमीन एक-दूसरे को बेचने के अधिकार भी लगातार दिए जा रहे हैं।
इसे वन संरक्षण अधिनियम-1980 का सरासर उल्लंघन बताते हुए बताया गया कि 2009 में राज्य सरकार की ओर से उच्चतम न्यायालय में एक याचिका दायर की गई थी। इसमें कहा गया था कि सोनभद्र में गैर वन भूमि घोषित करने में वन बंदोबस्त अधिकारी (एफएसओ) ने खुद को प्राप्त अधिकारों का दुरुपयोग करके अनियमितता की।
लेकिन 19 सितंबर 2012 को तत्कालीन सचिव (वन) के मौखिक आदेश पर विभागीय वकील ने यह याचिका चुपचाप वापस ले ली। हालात का अंदाजा इससे लगा सकते हैं कि चार दशक पहले सोनभद्र के रेनूकूट इलाके में 1,75,896.490 हेक्टेयर भूमि को धारा-4 के तहत लाया गया था, लेकिन इसमें से मात्र 49,044.89 हेक्टेयर जमीन ही वन विभाग को पक्के तौर पर (धारा-20 के तहत) मिल सकी। यही हाल ओबरा व सोनभद्र वन प्रभाग और कैमूर वन्य जीव विहार क्षेत्र में है।
क्या है धारा-4 और धारा-20
भारतीय वन अधिनियम-1927 की धारा-4 के तहत सरकार किसी भूमि को वन भूमि में दर्ज करने की मंशा जाहिर करती है। इस पर आम लोगों से आपत्तियां भी मांगी जाती हैं। इन आपत्तियों की सुनवाई एसडीएम स्तर का अधिकारी करता है। सुनवाई की प्रक्रिया में उसे वन बंदोबस्त अधिकारी का दर्जा दिया जाता है।
इन आपत्तियों पर सुनवाई के बाद धारा-20 के तहत कार्यवाही होती है, जिसमें भूमि को अंतिम रूप से बतौर वन भूमि दर्ज कर लिया जाता है। आपत्तियां जायज होने पर वन बंदोबस्त अधिकारी को यह अधिकार होता है कि धारा-4 की जमीन को वादी के पक्ष में गैर वन भूमि घोषित कर दे।
जिन पर सरकारी जमीन बचाने की जिम्मेदारी, वही करवा रहे कब्जा
सोनभद्र में कानून की आड़ लेकर वन विभाग की जमीन कब्जाने का सिलसिला आज तक नहीं थमा है। इस गोरखधंधे में सरकारी कर्मचारियों, अफसरों और राजनेताओं से लेकर आम लोग तक शामिल हैं। जिन पर जंगल बचाने की जिम्मेदारी है, वे इस गैरकानूनी काम में और भी आगे हैं।
राजस्व व वन विभाग के सूत्रों के मुताबिक, रेनुकूट डिवीजन के गांव जोगेंद्रा में एक राजनेता वन विभाग की 250 बीघा जमीन पर काबिज हैं। उनके सामने सारे कानून बौने नजर आ रहे हैं।
इसी तरह सोनभद्र के गांव सिलहट में एक पूर्व विधायक ने 56 बीघा जमीन का बैनामा अपने भतीजों के नाम करा दिया। इस काम में सरकारी मुलाजिम भी पीछे नहीं हैं।
ओबरा वन प्रभाग के वर्दिया गांव में एक कानूनगो ने अपने पिता के नाम जमीन कराई और बाद में उसे बेच दिया। घोरावल रेंज के धोरिया गांव में ऐसे ही एक रसूखदार ने 18 बीघा जमीन 90 हजार रुपये में खरीदी दिखाई और इसकी आड़ में और भी जमीन कब्जा ली।
ओबरा डिवीजन के गांव वर्दिया में एक परिवार ने राजा बढ़हर का 26 मई 1952 का पट्टा दिखाकर 101 बीघा जमीन पर अपना दावा ठोक दिया। बताते हैं कि जिस तारीख का यह पट्टा है, उस दिन तक परिवार के दो सदस्य पैदा ही नहीं हुए थे, जबकि उनके नाम पट्टे में दर्ज हैं।
इतना ही नहीं, भारतीय वन अधिनियम-1927 की धारा-4 और धारा-20 में विज्ञापित जमीन को रसूखदारों के कहने पर चकबंदी में शामिल कर लिया जा रहा है, जबकि नियमानुसार ऐसा नहीं हो सकता।
उचित कार्यवाही करवाऊंगा
अभी यह रिपोर्ट मेरी जानकारी में नहीं है। अगर ऐसा है तो विभागीय अधिकारियों से बात करूंगा। मामला मुख्यमंत्री के संज्ञान में लाकर उचित कार्यवाही भी करवाऊंगा।                 
दारा सिंह चौहान, वन एवं उद्यान मंत्री , उत्तर प्रदेश

livehindustansamachar.com
 
समान समाचार  
livehindustansamachar.com
     
शिक्षक की डिग्री फर्जी होने का दावा , DM व BSA को सौपा पत्रक

जौनपुर ब्यूरो
परिषदीय विद्यालयों में फर्जी शिक्षक भर्ती का एक और मामला प्रकाश मे आया है। पसेवा गांव निवासी समर बहादुर सिंह ने डीएम और बीएसए को पत्रक सौपकर केराकत विकास खंड के बम्बावन गांव में स्थित पूर्व माध्यमिक विद्

read more..

शिक्षक की डिग्री फर्जी होने का दावा , DM व BSA को सौपा पत्रक

संदेसरा बंधु घोटाला मामले में दोबारा अमहद पटेल के घर पहुंची ईडी टीम

सरकारी सिस्टम ने तोड़ा विश्वास तो ठेले पर ले जानी पड़ी महिला की लाश

होशंगाबाद में 15 डंपर, जेसीबी और ट्रैक्टर ट्रॉली छोड़कर भागे रेत माफिया

रीवा में ट्रांसपोर्टर, डीलर ने मिलकर बेच दिया पन्द्रह लाख लीटर केरोसिन

अनियमितता में नपा चेयरमैन के आवास पर प्रशासन ने चस्पा करवाई नोटिस

सहायक शिक्षक भर्ती परीक्षा के टॉपर की जांच करेगा यूपी एसटीएफ

150 करोड़ का ESI Scam : ACB ने गिरफ्तारी के लिए गठित की टीम

कागजों में संचालित फर्म को चाय-नाश्ता व खाना में 6 लाख का फर्जी भुगतान

रीवा के गोदामों ने भी वापस किया सड़ा गेहूं, शासन को साढ़े 11 करोड़ की चोट

मानसून में फिर रुलाएंगी मध्य प्रदेश की उखड़ी सड़कें, नहीं हो पाई मरम्मत

कोविड-19 बजट: चेकिंग प्वाइंट में लगे टेंट का बिल बना दिया साढ़े 44 लाख

पुलिस की देखरेख में जांच टीम ने कैथा पंचायत में की भ्रष्टाचार की जांच

शिक्षा विभाग में कारनामा : शिक्षिका ने 13 महीने 25 स्कूलों में एक साथ पढ़ाया , लिया एक करोड़ का मानदेय,गिरफ्तार

स्वास्थ्य विभाग में भर्ती घोटाला: अपनों को उपकृत करने अपात्रों की कर दी नियुक्ति

यस बैंक के संस्थापक गिरफ्तार , कोर्ट ने 11 मार्च तक ईडी की हिरासत में भेजा

नलजल योजना :1 करोड़ 89 लाख के नहीं मिले दस्ताबेज , जानकारी न देने में अमरपाटन प्रथम

भोपाल में चपरासी ने पट्टे पर दे दी 500 करोड़ की सरकारी जमीन, मिली उम्रकैद

गढ़ पंचायत सचिव निलंबित एफआईआर दर्ज कराने सीईओ ने दिए निर्देश

आयुष्मान भारत योजना :171 अस्पताल पैनल से बाहर,4.5 करोड़ का जुर्माना

पुलिस अफसरों के परिजन उठा रहे हैं सरकारी गाड़ी और ड्राइवर का लुत्फ

पटवारी की कॉलर पकड़कर घसीटते हुए तहसील कार्यालय के भीतर ले गया युवक

सिटी स्टेशन के नजदिक निर्माणाधीन पुल का पार्ट गिरा,बाल बाल बचा बुलट सवार

सीबीआई करेगी यमुना एक्सप्रेसवे घोटाले की जांच, पूर्व सीईओ समेत 21 के खिलाफ मामला दर्ज

2 करोड़ के प्रोजेक्ट में 8 करोड़ खर्च, काम पड़ा है अधूरा

वात्सल्य बिल्डर ग्रुप सहित तीन पर 500 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी का केस दर्ज

बैंक घोटाला : पंजाब एंड महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक के पूर्व निदेशक गिरफ्तार

राजेंद्र शुक्ल को ननि आयुक्त रीवा ने भेजा 5 करोड़ की वसूली का नोटिस

प्रसूताओं के लिए मुसीबत बनी नर्स, नजराना नहीं तो मैहर से सतना रेफर !

रोजगार मुहैया कराए जाने के तमाम दावे फेल ,ग्राम पंचायतों में श्रमिकों को काम नहीं

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
मोक्षदायिनी और पुण्यफल देने वाली देवशयनी एकादशी की पूजाविधि और शुभ मुहूर्त
कांवड़ यात्रा की अनुमति देने से झारखंड सरकार ने किया इन्कार
30 दिन के अंतर में 3 ग्रहणों का संयोग ,खुशियां लेकर आ रहा है सूर्य ग्रहण
Nirjala Ekadashi : सभी व्रत, उपवासों में निर्जला एकादशी सर्वश्रेष्ठ
आमलकी एकादशी : व्रत से मिलता है सुख और होती है मोक्ष की प्राप्ति
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  
लाइव हिंदुस्तान समाचार
 
समाचार चैनल  
स्थानीय राजनीति
खेल COVID-19
बिज़नेस अपराध
व्यायाम जीवन शैली
शिक्षा राष्ट्रीय
सम्पादकीय अंतर्राष्ट्रीय
सोशल मीडिया कैरियर
मनोरंजन न्यायालय
आपदा अनुसंधान
ब्लॉग निर्वाचन
टेक्नोलॉजी मौसम
रिपोर्ट भष्ट्राचार
कॉन्फ्रेंस सदन
योजना रिजल्ट
प्रशासन लाइव हिंदुस्तान समाचार
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | शिक्षा  | राजनीति  | रिपोर्ट  | निर्वाचन  | लाइव हिंदुस्तान समाचार  | कॉन्फ्रेंस  | अनुसंधान  | आपदा  | भष्ट्राचार  | सम्पादकीय  | प्रशासन  | खेल  | न्यायालय  | कैरियर  | अंतर्राष्ट्रीय  | मनोरंजन  | रिजल्ट  | सोशल मीडिया  | स्थानीय  | बिज़नेस  | राष्ट्रीय  | मौसम  | व्यायाम  | COVID-19  | टेक्नोलॉजी  | योजना  | सदन  | जीवन शैली  | ब्लॉग  | अपराध  | जम्मू और कश्मीर  | आंध्र प्रदेश  | हिमाचल प्रदेश  | दमन और दीव  | तमिलनाडु  | पश्चिम बंगाल  | गोवा  | त्रिपुरा  | हरियाणा  | उड़ीसा  | लक्ष्यदीप  | गुजरात  | मेघालय  | उत्तरांचल  | अंडमान एवं निकोबार  | बिहार  | राजस्थान  | नगालैंड  | महाराष्ट्र  | असम  | झारखंड  | उत्तर प्रदेश  | कर्नाटक  | केरल  | तेलंगाना  | अरुणाचल प्रदेश  | मिजोरम  | मणिपुर  | पंजाब  | चंडीगढ़  | छत्तीसगढ़  | लद्दाख  | मध्य प्रदेश  | दिल्ली  | सिक्किम  | पांडिचेरी  | दादरा और नगर हवेली  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Design & Development By MakSoft
 
Hit Counter