Wednesday 15th of July 2020
खोज

 
livehindustansamachar.com
समाचार विवरण  
 किसी मित्र को मेल पन्ना छापो   साझा यह समाचार मूल्यांकन करें      
Save This Listing     Stumble It          
 17 वर्षों से देश में नहीं हुआ परिसीमन, 24 साल से J&K को भी इंतजार ! (Thu, Aug 8th 2019 / 08:29:28)

 


नई दिल्ली ब्यूरो  
लोकसभा चुनाव समाप्त हो चुके हैं और केंद्र में नई सरकार ने कामकाज शुरू कर दिया है। नई सरकार बनते ही जम्मू-कश्मीर अचानक सुर्खियों में आ गया। वजह थी नई सरकार की नई नीतियां और राज्य के परिसीमन को लेकर आने वाली खबरें। हालांकि इसकी पुष्टि नहीं है कि परिसीमन होगा भी या नहीं। लेकिन फिर भी हम आपको बताना चाहते हैं कि आखिर यह परिसीमन क्या होता है?
अगर जम्मू-कश्मीर में परिसीमन हुआ तो राज्य के तीन क्षेत्रों- जम्मू, कश्मीर और लद्दाख में विधानसभा सीटों की संख्या में बदलाव हो जाएगा। इसकी वजह से जम्मू और कश्मीर के विधानसभा क्षेत्रों का नक्शा पूरी तरह बदल सकता है। जम्मू और कश्मीर की राजनीति में अब तक कश्मीर का ही पलड़ा भारी रहा है। ऐसा इसलिए क्योंकि विधानसभा में कश्मीर की विधानसभा सीटें, जम्मू के मुकाबले ज्यादा हैं।
किसी राज्य के निर्वाचन क्षेत्र की सीमा का निर्धारण करने की प्रक्रिया को परिसीमन कहा जाता है। हमारे संविधान में हर 10 वर्ष में परिसीमन करने का प्रावधान है। लेकिन सरकारें जरूरत के हिसाब से परिसीमन करती हैं। जम्मू-कश्मीर की विधानसभा में कुल 87 सीटों पर चुनाव होता है। 87 सीटों में से कश्मीर में 46, जम्मू में 37 और लद्दाख में चार विधानसभा सीटें हैं। परिसीमन में सीटों में बदलाव में आबादी और वोटरों की संख्या का भी ध्यान रखा जाता है।
परिसीमन का अर्थ
परिसीमन आयोग को भारतीय सीमा आयोग भी कहा जाता है। परिसीमन से तात्पर्य किसी भी राज्य की लोकसभा और विधानसभा क्षेत्रों की सीमाओं (राजनीतिक) का रेखांकन है। अर्थात इसके माध्यम से लोकसभा और विधानसभा क्षेत्रों की हदें तय की जाती हैं। संविधान के अनुच्छेद 82 के मुताबिक, सरकार हर 10 साल बाद परिसीमन आयोग का गठन कर सकती है। इसके तहत जनसंख्या के आधार पर विभिन्न विधानसभा व लोकसभा क्षेत्रों का निर्धारण होता है। जनसंख्या के हिसाब से अनुसूचित जाति-जनजाति सीटों की संख्या बदल जाती है।
परिसीमन का उद्देश्य
परिसीमन का उद्देश्य ताजा जनगणना के आधार पर सभी लोकसभा और विधानसभा सीटों की दोबारा सीमाएं निर्धारित करना है। हालांकि अब नई जनगणना 2021 में होगी। सीमाएं पुनर्निर्धारण में जनप्रतिनिधियों (सीटों) की संख्या यथावत रहती है अर्थात इनमें किसी तरह का परिवर्तन नहीं होता। अनुसूचित जाति और जनजाति की विधानसभा सीटों का निर्धारण क्षेत्र की जनगणना के अनुसार होता है।
परिसीमन के चलते जातिगत आधार पर सीटों की संख्या कम या ज्यादा होती है। अंतिम परिसीमन के मुताबिक अनुसूचित जाति और जनजाति की सीटें भी बढ़ी हैं और इनकी संख्या बढ़कर 125 हो गई। इसके चलते कई मौजूदा सांसदों को अपनी सीटें छोड़नी पड़ीं। इनमें पूर्व केंद्रीय गृहमंत्री शिवराज पाटिल और लोकसभा अध्यक्ष स्व. सोमनाथ चटर्जी भी शामिल हैं। परिसीमन आयोग का अध्यक्ष मुख्य चुनाव आयुक्त होता है। वर्तमान में मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा इस आयोग के अध्यक्ष हैं। वहीं राज्य के चुनाव आयुक्त इसके सदस्य होते हैं।
कश्मीर के हिस्से में ज्यादा विधानसभा सीटें क्यों हैं?
यह समझने के लिए हमें जम्मू और कश्मीर के इतिहास को समझना होगा। वर्ष 1947 में जम्मू और कश्मीर की रियासत का भारत में विलय हुआ था। तब जम्मू और कश्मीर में महाराज हरि सिंह का शासन था। वर्ष 1947 तक शेख अब्दुल्ला कश्मीरियों के सार्वमान्य नेता के तौर पर लोकप्रिय हो चुके थे।
जम्मू-कश्मीर के महाराजा हरि सिंह, शेख अब्दुल्ला को पसंद नहीं करते थे। लेकिन शेख अब्दुल्ला को पंडित नेहरू का आशीर्वाद प्राप्त था। पंडित नेहरू की सलाह पर ही महाराजा हरि सिंह ने शेख अब्दुल्ला को जम्मू और कश्मीर का प्रधानमंत्री नियुक्त किया था। वर्ष 1948 में शेख अब्दुल्ला के प्रधानमंत्री नियुक्त होने के बाद महाराजा हरि सिंह की शक्तियां तकरीबन खत्म हो गई थीं।
वर्ष 1951 में जब जम्मू कश्मीर के विधानसभा के गठन की प्रक्रिया शुरू हुई, तब शेख अब्दुल्ला ने जम्मू को 30 विधानसभा सीटें, कश्मीर को 43 विधानसभा सीटें और लद्दाख को 2 विधानसभा सीटें आवंटित कर दीं।
वर्ष 1995 तक जम्मू और कश्मीर में यही स्थिति रही। वर्ष 1993 में जम्मू और कश्मीर में परिसीमन के लिए एक आयोग बनाया गया था। 1995 में परिसीमन आयोग की रिपोर्ट को लागू किया गया था। पहले जम्मू कश्मीर की विधानसभा में कुल 75 सीटें थीं। लेकिन परिसीमन के बाद जम्मू कश्मीर की विधानसभा में 12 सीटें बढ़ा दी गईं थीं। अब विधानसभा में कुल 87 सीटें थीं। इनमें से कश्मीर में 46, जम्मू में 37 और लद्दाख में चार विधानसभा सीटें हैं।
जम्मू कश्मीर में बहुमत की सरकार बनाने के लिए किसी भी पार्टी को 44 सीटों की जरूरत होती है। कश्मीर में मुसलमानों की आबादी करीब 98 प्रतिशत है। वर्ष 2002 में नेशनल कॉन्फ्रेंस की सरकार ने परिसीमन को 2026 तक रोक दिया था। इसके लिए अब्दुल्ला सरकार ने जम्मू कश्मीर जनप्रतिनिधि अधिनियम 1957 और जम्मू कश्मीर के संविधान की धारा 47(3) में बदलाव किया था। इस फैसले को उच्चतम न्यायालय में भी चुनौती दी गई थी, लेकिन अदालत ने इस पर सुनवाई से इनकार कर दिया था।
धारा 47(3) में हुए बदलाव के मुताबिक वर्ष 2026 के बाद जब तक जनसंख्या के सही आंकड़े सामने नहीं आते हैं तब तक विधानसभा की सीटों में बदलाव करना जरूरी नहीं है। वर्ष 2026 के बाद जनगणना के आंकड़े वर्ष 2031 में आएंगे। इसलिए अगर देखा जाए तो अब जम्मू कश्मीर में परिसीमन 2031 तक टल चुका है।
पहला परिसीमन आयोग
भारत में सर्वप्रथम वर्ष 1952 में परिसीमन आयोग का गठन किया गया था। इसके बाद 1963,1973 और 2002 में परिसीमन आयोग गठित किए जा चुके हैं। 2002 के बाद परिसीमन आयोग गठन नहीं हुआ। भारत के उच्चतम न्यायालय के अवकाश प्राप्त न्यायाधीश न्यायमूर्ति कुलदीप सिंह की अध्यक्षता में 12 जुलाई 2002 को परिसीमन आयोग का गठन किया गया था। आयोग ने वर्ष 2001 की जनगणना के आधार पर निर्वाचन क्षेत्रों का परिसीमन किया।

livehindustansamachar.com
 
समान समाचार  
livehindustansamachar.com
     
31 जुलाई तक प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अन्तर्गत होगा फसलों का बीमा

लाइव हिंदुस्तान समाचार & रीवा
प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अन्तर्गत खरीफ 2020 ने बोई जाने वाली फसलो का कृषक 31 जुलाई तक बीमा करायें। योजना के अन्तर्गत प्राकृतिक आपदाओं से फसल क्षति होने पर बीमित कृषकों क

read more..

31 जुलाई तक प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अन्तर्गत होगा फसलों का बीमा

रीवा शहर में चल रहे निर्माण कार्यों की रीवा विधायक ने की समीक्षा

PM स्वनिधि योजनान्तर्गत विधायक राजेन्द्र शुक्ल ने पथ विक्रेताओं को बांटा ऋण

प्रवासी श्रमिकों को गरीब कल्याण रोजगार अभियान में मिलेगा काम : सीडीओ

रीवा को सफेद बाघ की तरह नई पहचान दे रहा है सोलर प्लांट : प्रधानमंत्री

मप्र में लंबे समय से राशन नहीं लेने वाले उपभोक्ताओं की होगी समीक्षा

छत्तीसगढ़ के कुम्हार होंगे हाइटेक, बांटे जाएंगे मुफ्त 1100 इलेक्ट्रिक चाक

जौनपुर में मनाया गया वृक्षारोपण पर्व, लगाए गए 4127092 पौधे

स्वसहायता समूहों की भागीदारी से रही महिलाएँ आर्थिक रूप से हो रही सशक्त

रीवा को झुग्गी मुक्त व आवास युक्त शहर बनाना प्राथमिकता : पूर्व मंत्री राजेन्द्र शुक्ल

नगर पालिक निगम एवं नगरीय निकाय आवासों के निर्माण में गंभीर नहीं : सांसद

वन स्टॉप सेंटर पर 24 घंटे सेवाएं देगा पैरामेडिकल स्टॉफ

एटीएम कार्ड धारक की दुर्घटना में मृत्यु होने पर मिलेगी बीमा दावा की राशि

बेसहारा गौवंश पालने वालो को मिलेगा भरण पोषण भत्ता : पशु चिकित्साधिकारी

NLIU भोपाल के छात्र जरूरतमंदों को मुफ्त देंगे कानूनी सलाह

10 हार्स पावर तक प्रति हार्स पावर 700 रूपये वार्षिक लगेगा बिजली बिल

world में सबसे पुराना है भारत का टिड्डी नियंत्रण कार्यक्रम, एलडब्ल्यू की स्थापना

महाराष्ट्र में 5,000 करोड़ के प्रोजेक्ट पर चीन से समझौतों पर रोक

Ujjawala Yojana में फ्री LPG Cylinder बांटने की नीति में बदलाव

रीवा जिले में पथ पर विक्रय करने वाले 3251 मजदूरों पोर्टल पर पंजीयन

32 लाख तेंदू पत्ता संग्रहकों को 183 करोड़ 94 लाख रूपये की मिलेगी प्रोत्साहन राशि

संबल योजना : पहले चरण में 3000 मजदूर योजना के लिए चिन्हित

खाते में रुपए आए, फिर भी 80000 लोगों ने नहीं कराई सिलेंडर की रिफिलिंग

मध्य प्रदेश में ग्रीन और ऑरेंज जोन में शुरू होगा PM आवास का निर्माण

तरुण चेतना द्वारा बेला में महिला कृषक संसाधन केंद्र का शुभारंभ

विश्व महिला दिवस : बैतूल और गुना में महिला डाकघर का शुभारंभ

मध्यप्रदेश में पांच औद्योगिक क्षेत्रों में लगाए जाएंगे सीएनजी प्लांट

CM Helpline - ऋण माफी पोर्टल पर आवेदकों को मिलेगी स्टेटस रिपोर्ट

डभौरा में आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम 29 फरवरी को आयोजित

महाराष्ट्र सरकार उपलब्ध कराएगी गरीबों को 10 रुपए में भरपेट भोजन

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
मोक्षदायिनी और पुण्यफल देने वाली देवशयनी एकादशी की पूजाविधि और शुभ मुहूर्त
कांवड़ यात्रा की अनुमति देने से झारखंड सरकार ने किया इन्कार
30 दिन के अंतर में 3 ग्रहणों का संयोग ,खुशियां लेकर आ रहा है सूर्य ग्रहण
Nirjala Ekadashi : सभी व्रत, उपवासों में निर्जला एकादशी सर्वश्रेष्ठ
आमलकी एकादशी : व्रत से मिलता है सुख और होती है मोक्ष की प्राप्ति
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  
लाइव हिंदुस्तान समाचार
 
समाचार चैनल  
स्थानीय राजनीति
खेल COVID-19
बिज़नेस अपराध
व्यायाम जीवन शैली
शिक्षा कार्यक्रम
राष्ट्रीय सम्पादकीय
अंतर्राष्ट्रीय सोशल मीडिया
कैरियर मनोरंजन
न्यायालय आपदा
अनुसंधान ब्लॉग
पुरस्कार निर्वाचन
टेक्नोलॉजी मौसम
रिपोर्ट भष्ट्राचार
कॉन्फ्रेंस सदन
योजना रिजल्ट
प्रशासन लाइव हिंदुस्तान समाचार
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | मनोरंजन  | आपदा  | पुरस्कार  | प्रशासन  | जीवन शैली  | अंतर्राष्ट्रीय  | अनुसंधान  | रिजल्ट  | शिक्षा  | बिज़नेस  | कॉन्फ्रेंस  | टेक्नोलॉजी  | राजनीति  | अपराध  | व्यायाम  | कार्यक्रम  | सदन  | न्यायालय  | मौसम  | योजना  | सम्पादकीय  | राष्ट्रीय  | खेल  | स्थानीय  | रिपोर्ट  | सोशल मीडिया  | लाइव हिंदुस्तान समाचार  | ब्लॉग  | कैरियर  | COVID-19  | निर्वाचन  | भष्ट्राचार  | उत्तर प्रदेश  | लक्ष्यदीप  | तमिलनाडु  | लद्दाख  | हिमाचल प्रदेश  | असम  | केरल  | सिक्किम  | हरियाणा  | मणिपुर  | कर्नाटक  | राजस्थान  | गुजरात  | नगालैंड  | पंजाब  | गोवा  | पांडिचेरी  | दिल्ली  | आंध्र प्रदेश  | छत्तीसगढ़  | अरुणाचल प्रदेश  | तेलंगाना  | मिजोरम  | उत्तरांचल  | अंडमान एवं निकोबार  | झारखंड  | दादरा और नगर हवेली  | उड़ीसा  | दमन और दीव  | महाराष्ट्र  | मध्य प्रदेश  | मेघालय  | त्रिपुरा  | चंडीगढ़  | पश्चिम बंगाल  | बिहार  | जम्मू और कश्मीर  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Design & Development By MakSoft
 
Hit Counter