Thursday 12th of December 2019
खोज

 
livehindustansamachar.com
समाचार विवरण  
 किसी मित्र को मेल पन्ना छापो   साझा यह समाचार मूल्यांकन करें      
Save This Listing     Stumble It          
 सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, RTI कानून के दायरे में होगा CJI का दफ्तर (Wed, Nov 13th 2019 / 19:26:45)

 


चन्द्रिका प्रसाद तिवारी
भारत के मुख्य न्यायाधीश का दफ्तर भी सूचना के अधिकार कानून (आरटीआई) के दायरे में आ गया है। सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को ऐतिहासिक फैसले में कहा कि मुख्य न्यायाधीश (सीजीआई) का दफ्तर सार्वजनिक कार्यालय है, इसलिए यह आरटीआई के दायरे में आएगा।
चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने दिल्ली हाई कोर्ट के 2010 के निर्णय को सही ठहराते हुए इसके खिलाफ हाई कोर्ट के सेक्रेटरी जनरल और शीर्ष अदालत के केंद्रीय सार्वजनिक सूचना अधिकारी की अपील खारिज कर दी।
संविधान पीठ ने आगाह किया कि सूचना के अधिकार कानून का इस्तेमाल निगरानी रखने के हथियार के रूप में नहीं किया जा सकता है और पारदर्शिता के मुद्दे पर विचार करते समय न्यायपालिका की स्वतंत्रता को ध्यान में रखना चाहिए। यह निर्णय सुनाने वाली संविधान पीठ के बाकी सदस्यों में न्यायमूर्ति एन वी रमण, न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़, न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता और न्यायमूति संजीव खन्ना शामिल थे।
संविधान पीठ ने कहा कि कॉलेजियम द्वारा न्यायाधीश पद पर नियुक्ति के लिए की गई सिफारिश में सिर्फ न्यायाधीशों के नामों की जानकारी दी जा सकती है लेकिन इसके कारणों की नहीं। प्रधान न्यायाधीश, न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता और न्यायमूर्ति संजीव खन्ना ने एक फैसला लिखा जबकि न्यायमूर्ति एन वी रमण और न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ ने अलग निर्णय लिखे।
न्यायालय ने कहा कि निजता का अधिकार एक महत्वपूर्ण पहलू है और प्रधान न्यायाधीश के कार्यालय से जानकारी देने के बारे में निर्णय लेते समय इसमें और पारदर्शिता के बीच संतुलन कायम करना होगा। न्यायमूर्ति खन्ना ने कहा कि न्यायिक स्वतंत्रता और पारदर्शिता को साथ-साथ चलना है। न्यायमूर्ति रमण ने न्यायमूर्ति खन्ना से सहमति व्यक्त करते हुए कहा कि निजता के अधिकार और पारदर्शिता के अधिकार और न्यायपालिका की स्वतंत्रता के बीच संतुलन के फार्मूले को उल्लंघन से संरक्षण प्रदान करना चाहिए।
क्या कहा था दिल्ली हाईकोर्ट ने ?
दिल्ली हाईकोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि सीजेआई का दफ्तर एक सार्वजनिक प्राधिकरण है और इसे सूचना के अधिकार कानून के अंतर्गत लाया जाना चाहिए। पीठ ने इस साल अप्रैल में इस याचिका पर फैसला सुरक्षित रख लिया था।
सीजेआई रंजन गोगोई ने पहले यह कहा था कि पारदर्शिता के नाम पर एक संस्था को नुकसान नहीं पहुंचाया जाना चाहिए। नवंबर 2007 में आरटीआई कार्यकर्ता सुभाष चंद्र अग्रवाल ने आरटीआई याचिका दाखिल कर सुप्रीम कोर्ट से जजों की संपत्ति के बारे में जानकारी मांगी थी जो उन्हें देने से इनकार कर दिया गया।
अग्रवाल इसके बाद सीआईसी के पास पहुंचे और सीआईसी ने सुप्रीम कोर्ट से इस आधार पर सूचना देने को कहा कि सीजेआई का दफ्तर भी कानून के अंतर्गत आता है। इसके बाद जनवरी 2009 में सीआईसी के आदेश को दिल्ली हाईकोर्ट में चुनौती दी गई हालांकि वहां भी सीजेआई के आदेश को कायम रखा गया।

livehindustansamachar.com
 
समान समाचार  
livehindustansamachar.com
     
प्लास्टिक मानव जीवन के विकास में सबसे बड़ी बाधा जिला एवं सत्र न्यायाधीश

रीवा ब्यूरो
मानव जीवन को उन्नतशील बनाने के लिए स्वच्छता अभियान और पर्यावरण के विकास का जनजागृति अभियान प्रारंभ किया गया है। मनगवां तहसील में न्यायालय के नवनिर्मित भवन के प्रांगण में प्लास्टिक हटाओ, पर्यावरण बचाओ के अभ

read more..

प्लास्टिक मानव जीवन के विकास में सबसे बड़ी बाधा जिला एवं सत्र न्यायाधीश

पासपोर्ट में लिंग परिवर्तन के सवाल पर मद्रास हाईकोर्ट ने केंद्र से मांगा जवाब

अयोध्या फैसले के लिए SC के जजों ने की CJI गोगोई की जमकर तारीफ

जस्टिस एसए बोबडे बोले, अयोध्या पर फैसले का मुझे और सभी को इंतजार

अयोध्या मामला : कोर्टरूम ड्रामा, मुस्लिम पक्ष के वकील ने फाड़ा नक्शा

वीआरएस कंप्लीट पैकेज, इससे ज्यादा लाभ की मांग बेमानी : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने एससी-एसटी कानून हल्का करने संबंधी पुराना फैसला लिया वापस

रिश्वत लेने वाले गुना के तत्कालीन जिला विपणन अधिकारी को चार साल की सजा

जो न्याय तक नहीं पहुंच पाये उन्हें राज्य कानूनी सहायता देगा : विशेष न्यायाधीश

फर्जी खबरों से हो रहे नुकसान की जिम्मेदारी से बच नहीं सकतीं सोशल मीडिया !

आरक्षित और अनारक्षित वर्ग के लिए अलग साक्षात्कार गैरकानूनी: सुप्रीम कोर्ट

नाबालिग से दुष्कर्म करने वाले को न्यायालय ने सुनाई 14 साल की सश्रम सजा

देश में प्रेस की स्वतंत्रता वनवे ट्रैफिक नहीं हो सकती : सुप्रीम कोर्ट

ED केस में चिदंबरम को राहत, सिब्बल का हाईकोर्ट पर गंभीर आरोप !

शिकायतकर्ता की गैरहाजिरी में खारिज नहीं होगा मुकदमा : इलाहाबाद हाईकोर्ट

अदालतों में बढ़ रहे अमर्यादित आचरण के मामले, सुनिश्चित हो न्यायपालिका की गरिमा : सीजेआई

दुष्कर्म पीड़िताओं की मांग, अंगुलियों से परीक्षण पर डॉक्टरों का लाइसेंस हो रद्द

क्या UN भारत के संविधान संशोधन पर रोक लगा सकता है ? : सुप्रीम कोर्ट

जे&के में व्यभिचार को अपराध बताने वाला कानून असांविधानिक : सुप्रीम कोर्ट

हाई कोर्ट की फुल बेंच ने शिक्षाकर्मियों को हेड मास्टर बनाने पर स्टे रखा यथावत

दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस से पूछा, एफआईआर में उर्दू-फारसी शब्द क्यों ?

सुप्रीम कोर्ट में बढ़ाई जाएगी जजों की संख्या, विधेयक को संसद से मिली मंजूरी

सुप्रीम कोर्ट का फैसला- चाहे पद खाली रह जाएं, पूरी मेरिट नहीं तो भर्ती नहीं

अयोध्या भूमि विवाद : 33 दिनों में फैसला सुना सकता है सुप्रीम कोर्ट !

उन्नाव दुष्कर्म कांड : देश में जो हो रहा है परेशान करने वाला है : सुप्रीम कोर्ट

राजा सिर्फ नाम के,यह ऐसी ''गद्दी'’ है जिसका न कोई साम्राज्य है न प्रजा : कोर्ट

मध्यप्रदेश में 5 साल की बच्ची से दुष्कर्म और हत्या के दोषी को फांसी की सजा

अदालत ने माना, नाबालिग की सहमति से संबंध बनाना भी अपराध ही है

मप्र की जेलों में बंदियों का नियमित रूप से मेडिकल चेकअप किया जाए: हाईकोर्ट

चुनाव याचिका में बदनावर विधायक दत्तीगांव को इंदौर हाईकोर्ट का नोटिस

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
शारदीय नवरात्र 2019 : उज्जैन में कलेक्टर ने लगाया माता को मदिरा का भोग
नवरात्रि में नौ कन्या का महत्व : नवरात्रि में कन्या और देवी पूजन एक समान
''नम: शिवाय'' शिव पंचाक्षरी मंत्र के जाप से हो जाता है असाध्य रोगों का नाश
बकरीद के चांद के हुए दीदार, 12 अगस्त को मनेगी ईद उल अजहा
भगवान शिव के मंदिर में हुआ चमत्कार, नंदी और गणेश की प्रतिमा पीने लगी दूध
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  
लाइव हिंदुस्तान समाचार
 
समाचार चैनल  
स्थानीय खेल
स्वास्थ्य बिज़नेस
अपराध जीवन शैली
शिक्षा सम्पादकीय
अंतर्राष्ट्रीय सोशल मीडिया
जॉब मनोरंजन
न्यायालय आपदा
अनुसंधान निर्वाचन
कार्यक्रम टेक्नोलॉजी
रिपोर्ट कॉन्फ्रेंस
सदन प्रशासन
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | जीवन शैली  | जॉब  | बिज़नेस  | सोशल मीडिया  | मनोरंजन  | शिक्षा  | न्यायालय  | रिपोर्ट  | खेल  | सम्पादकीय  | निर्वाचन  | टेक्नोलॉजी  | स्वास्थ्य  | स्थानीय  | सदन  | अंतर्राष्ट्रीय  | आपदा  | प्रशासन  | कार्यक्रम  | अपराध  | कॉन्फ्रेंस  | अनुसंधान  | हरियाणा  | मेघालय  | केरल  | महाराष्ट्र  | हिमाचल प्रदेश  | दादरा और नगर हवेली  | तमिलनाडु  | झारखंड  | दमन और दीव  | मणिपुर  | आंध्र प्रदेश  | पांडिचेरी  | मिजोरम  | तेलंगाना  | सिक्किम  | बिहार  | छत्तीसगढ़  | लक्ष्यदीप  | गुजरात  | चंडीगढ़  | दिल्ली  | उत्तरांचल  | जम्मू और कश्मीर  | अरुणाचल प्रदेश  | गोवा  | असम  | पंजाब  | मध्य प्रदेश  | नगालैंड  | उत्तर प्रदेश  | त्रिपुरा  | राजस्थान  | कर्नाटक  | अंडमान एवं निकोबार  | उड़ीसा  | पश्चिम बंगाल  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Design & Development By MakSoft
 
Hit Counter