Friday 14th of August 2020
खोज

 
livehindustansamachar.com
समाचार विवरण  
 किसी मित्र को मेल पन्ना छापो   साझा यह समाचार मूल्यांकन करें      
Save This Listing     Stumble It          
 पुलिस बिना वारंट के असंज्ञेय अपराध में गिरफ्तार नहीं कर सकती ! (Sun, Mar 1st 2020 / 13:26:51)

 


चन्द्रिका प्रसाद तिवारी @ रीवा
देश का कानून नागरिकों को सुरक्षा प्रदान करता है। मजबूत सामाजिक व्यवस्था बनाए रखने के लिए कानून व्यवस्था का सक्षम और सशक्त होना अति आवश्यक है। इसलिए बेहद जरूरी हो जाता है अपने अधिकारों को समझना और उनके उपयोग को जानना। पुलिस थाना और पुलिस को लेकर डरने की आवश्यकता नहीं बल्कि समझदारी से अपने अधिकारों के प्रति जागरूक होने की जरूरत है। अगर गिरफ्तारी की नौबत आए तो जान लेना चाहिए अपने अधिकारों के बारे में, आइए जानते हैं उन अधिकारों के बारे में जो गिरफ्तारी के वक्त जानना जरूरी है-
क्या है गिरफ्तारी
कानून के तहत इन अनुच्छेदों में मिलता है विशेष अधिकार
अनुच्छेद 22: गिरफ्तारी या हिरासत में लिए जाने पर उसके विरुद्ध संरक्षण का अधिकार।
    'अनुच्छेद 22 में आपको यह अधिकार प्राप्त होता है कि आप यह जान सकते हैं कि हिरासत के विरुद्ध आपका संरक्षण का अधिकार क्या है '
    सुभाष चंद्र दुबे, आईपीएस अधिकारी
अनुच्छेद 22 (1) यह अनुच्छेद गिरफ्तार हुए और हिरासत में लिए गए व्यक्ति को विशेष अधिकार प्रदान करता है। विशेष रूप से गिरफ्तारी का आधार सूचित किया जाना कि किस वजह से हिरासत में लिया जा रहा है।
अपनी पसंद और सहूलियत के एक वकील से सलाह करने का अधिकार आपको देता है।
आप यह जान सकते हैं कि किस आधार पर कौन सी धारा लगा कर आपको हिरासत में लिया गया है।
    ' जब भी गिरफ्तारी की नौबत आती है और आपको किसी वजह से पुलिस स्टेशन जाना पड़ता है तो आप अधिकारी से अपने अधिकारों को लेकर बोल सकते हैं और उनका उपयोग कर सकते हैं।'
    जीतेन्द्र राणा, आईपीएस अधिकारी
अनुच्छेद 22 (2) गिरफ्तारी के 24 घंटे के अंदर एक मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किए जाने का अधिकार है।
मजिस्ट्रेट के आदेश के बिना तय अवधि से अधिक समय तक हिरासत में नहीं रखे जाने का अधिकार प्रदान करता है।
आप अपनी बात मजिस्ट्रेट के आगे रख सकते हैं।
    'आपको कानून अधिकार देता है कि आप अपनी गिरफ्तारी के विषय में जान सकते हैं। आपको अपने अधिकारों के प्रति आवश्यक तौर पर जागरूक होना चाहिए। कानून आपका दोस्त होता है और पुलिस भी आपकी मदद के लिए होती है। '
    दीपक वर्णवाल, आईपीएस अधिकारी
गिरफ्तारी: पहला अधिकार
सीआरपीसी की धारा 50 (1) के तहत पुलिस अगर किसी व्यक्ति को गिरफ्तार करती है तो गिरफ्तार किए गए व्यक्ति को उसका कारण बताना होगा। यह जानना उसका अधिकार है।
गिरफ्तारी: दूसरा अधिकार 
    जब पुलिस गिरफ्तारी के लिए आए तो उसे यूनिफॉर्म में होना चाहिए।
    वर्दी पर नेमप्लेट लगी होनी चाहिए, उस पर नाम स्पष्ट लिखा होना चाहिए।
    अगर महिला की गिरफ्तारी है तो महिला पुलिस साथ होनी चाहिए। 
गिरफ्तारी: तीसरा अधिकार
    सीआरपीसी की धारा 41 (बी) के अनुसार पुलिस को अरेस्ट मेमो यानी गिरफ्तारी का विवरण तैयार करना होगा
    जिसमें गिरफ्तार करने वाले पुलिस अधिकारी की रैंक
    गिरफ्तार करने का समय क्या है
     पुलिस अधिकारी के अतिरिक्त जो प्रत्यक्षदर्शी (eyewitness) के हस्ताक्षर भी शामिल होंगे।
गिरफ्तारी:चौथा अधिकार
जो अरेस्ट मेमो होता है उसमें गिरफ्तार किए गए व्यक्ति से भी हस्ताक्षर करवाना जरूरी होता है। उस हस्ताक्षर के बिना वह अधूरा माना जायेगा।
गिरफ्तारी: पांचवा अधिकार
    जिस व्यक्ति को गिरफ्तार किया जाता है उसकी हर 48 घंटे के अंदर मेडिकल जांच जरूर होनी चाहिए। उसकी मेडिकल जांच की रिपोर्ट पूरी होनी चाहिए।
    सीआरपीसी की धारा 54 के मुताबिक अगर गिरफ्तार किया गया व्यक्ति अपनी मेडिकल जांच कराने की मांग करता है, तो पुलिस को उसकी मेडिकल जांच करानी होगी।
 गिरफ्तारी: छठवां अधिकार
    सीआरपीसी की धारा 50(A) के मुताबिक गिरफ्तार किए गए व्यक्ति के अधिकार,
    अपनी गिरफ्तारी की जानकारी वह अपने परिवार या रिश्तेदार को दे सकता है।
    अगर उसको अपना अधिकार पता नहीं है तो यह पुलिस अधिकारी का कर्तव्य है कि वह इसकी जानकारी उसके परिवार और उसको दें।
गिरफ्तारी: सातवां अधिकार
सीआरपीसी की धारा 41D के अनुसार हिरासत में लिए गए व्यक्ति को यह अधिकार प्राप्त है कि वह पुलिस जांच के दौरान कभी भी अपने वकील से मिल सकता है और बात कर सकता है। अपने परिजनों से भी मुलाकात कर सकता है और बातचीत कर सकता है।
गिरफ्तारी: आठवां अधिकार
    असंज्ञेय अपराधों के मामले में जिस व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है उसको वारंट देखने का अधिकार होता है।
    मगर असंज्ञेय अपराधों के मामले में पुलिस बिना वारंट दिखाए भी गिरफ्तार कर सकती है।
गिरफ्तारी: नौवां अधिकार
महिलाओं की गिरफ्तारी के संबंध में,
    सीआरपीसी की धारा 46(4) अनुसार किसी भी महिला को सूरज ढलने के बाद और सूरज निकलने से पहले गिरफ्तार नहीं किया जा सकता है।
    सीआरपीसी की धारा 46 के अनुसार महिला को सिर्फ महिला पुलिसकर्मी ही गिरफ्तार कर सकती है। किसी भी महिला को पुरुष पुलिसकर्मी गिरफ्तार नहीं कर सकता है।
गिरफ्तारी: दसवां अधिकार
सीआरपीसी की धारा 55 (1) के अनुसार जिस व्यक्ति को  गिरफ्तार किया जायेगा उसकी सुरक्षा और स्वास्थ्य का ध्यान पुलिस की जिम्मेदारी होगी।
     'सीआरपीसी की धारा 57 के तहत पुलिस किसी व्यक्ति को 24 घंटे से ज्यादा हिरासत में नहीं रख सकती है, अगर पुलिस किसी को 24 घंटे से ज्यादा हिरासत में रखना चाहती है तो उसको मजिस्ट्रेट से ही इजाजत लेनी होगी और मजिस्ट्रेट इस संबंध में इजाजत किस आधार पर दे रहा है उसका विवरण कारण सहित भी बताएगा'
    सुरेंद्र चौधरी, आईपीएस अधिकारी
अपराध क्या होता है
    समाज के विरोध में किया गया कोई भी कार्य अपराध है।
    जो अपराध करता है उसे अपराधी कहा जाता है।
    किसी भी व्यक्ति के मौलिक अधिकारों के उल्लंघन को अपराध कहते हैं।
    अपराधियों को ही समाज विरोधी तत्व भी कहा जाता है।
    अपराधी, अपराध और उसके स्वभाव, उसके सुधार का अध्ययन जिसके तहत किया जाता है उसको अपराध शास्त्र कहा जाता है।
अपराध दो प्रकार के होते हैं -
संज्ञेय अपराध (Cognisable offence) और असंज्ञेय अपराध (Non Cognisable offence)
संज्ञेय अपराध (Cognisable offence)- क्रिमिनल प्रोसिजर कोड (CrPC 1973) में संज्ञेय और असंज्ञेय अपराध की परिभाषा  दी गई है।
    क्रिमिनल प्रोसिजर कोड की धारा 2 (सी) और 2 (एल) में विस्तृत रूप से दी गई है।
    इस अधिनियम की धारा 2 (सी) के अनुसार, संज्ञेय अपराध वह है जिसमें पुलिस किसी व्यक्ति को बिना किसी वारंट के गिरफ्तार कर सकती है।
    पुलिस के पास संज्ञेय अपराधों में बिना वारंट गिरफ्तार करने के अधिकार होता है।
संज्ञेय अपराध के अंतर्गत आते हैं-
क्रिमिनल प्रोसिजर कोड (CRPC 1973) के शेड्यूल 1 के अनुसार, संज्ञेय अपराध के अंतर्गत,
मुख्यतः अपराध इस प्रकार हैं -
    दंगा,
    अपहरण,
    चोरी, डकैती, लूट,
    बलात्कार,
    हत्या
असंज्ञेय अपराध क्या है-
क्रिमिनल प्रोसिजर कोड (CRPC 1973) की धारा 2 (एल) के अनुसार ऐसे अपराध जिनमें पुलिस को बिना वारंट के गिरफ्तार करने का अधिकार प्राप्त नहीं है, वे सभी अपराध असंज्ञेय अपराध कहलाते हैं। भारतीय दंड संहिता की धारा 298 के अनुसार पुलिस बिना वारंट के असंज्ञेय अपराध में गिरफ्तार नहीं कर सकती है। 
असंज्ञेय अपराध की श्रेणी में ये सब आता हैं-
    जालसाजी, धोखाधड़ी
    झूठे सबूत देना
    मानहानि
    'संज्ञेय अपराध पर पुलिस सीधे कार्रवाई कर सकती है और असंज्ञेय अपराध पर कोर्ट के आदेश के बाद पुलिस कार्रवाई करती है। गैर जमानती मामलों में पुलिस अपराधी को 24 घंटे तक हिरासत में रख सकती है। '
    हरि नारायण मिश्र, आईपीएस अधिकारी
भारत में अपराध और आपराधिक परीक्षण से निपटने वाले कानून निम्नलिखित हैं-
    भारतीय दंड संहिता, 1860
    आपराधिक प्रक्रिया संहिता, 1973
    भारतीय साक्ष्य अधिनियम, 1872
हर अपराध के पीछे कुछ मुख्य कारण होते हैं जिसमें से कुछ प्रमुख कारण निम्नलिखित हैं-
    आर्थिक कारण
    मनोवैज्ञानिक कारण
    शारीरिक विकार
    मनोविज्ञानिक कारण
    रंजिश
Bibliography and reference-
Expert Reactions.
LAW COMMISSION OF INDIA: CONSULTATION PAPER ON LAW RELATING TO ARREST
http://lawcommissionofindia.nic.in/reports/177rptp2.pdf
Criminal Procedure - R.V. Kelkar's Criminal Procedure
by R.V. Kelkar's
Lectures on Criminal Procedure [Cr. P.C]
by K. N. Chandrasekharan R. V. Kelka

livehindustansamachar.com
 
समान समाचार  
livehindustansamachar.com
     
दूसरों के साथ अच्छा करोगे तो.. आपके साथ भी अच्छा होगा ..!

लाइव हिंदुस्तान समाचार & सिरमौर
दिल को छू लेने वाला मार्मिक व प्रेरक वाक्या लेखक के निजी विचारो व भावनात्मक तथ्यों पर आधारित है | जो हमें सिखाता है की इंसान को असहाय व जरूरतमंद की सेवा न

read more..

दूसरों के साथ अच्छा करोगे तो.. आपके साथ भी अच्छा होगा ..!

महाराष्ट्र में लगा राष्ट्रपति शासन, जानें इन राज्यों में कब-कब लगा राष्ट्रपति शासन

इतिहास: दादा ने बनवाई बाबरी मस्जिद, तो पोते ने चलवाया श्रीराम का सिक्का

बेहद लचीला है भारतीय संविधान, 70 साल में हुए 103 संशोधन

अंग्रेजी शासन की स्थापना के साथ ही शुरू हुआ था संवैधानिक विकास

कितना जानते हैं आप अपने देश के बारे में ?

1906 में फहराया गया था पहला तिरंगा, राष्ट्र ध्वज के रूप में लहराएगा छठा स्वरुप

आइंसटाइन से लेकर स्वामी जी तक...महान विचारकों की राय में महान है भारत

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
हनुमान होते तो नहीं होता श्रीराम का स्वर्गारोहण, इसलिए किया था ऐसा उपाय
जानिए ,रक्षाबंधन की तिथि, वार, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि सहित कथा !
व्यक्ति की राशि पर भी निर्भर करता है तो उसे कैसे जीवनसाथी मिलेगा
मोक्षदायिनी और पुण्यफल देने वाली देवशयनी एकादशी की पूजाविधि और शुभ मुहूर्त
कांवड़ यात्रा की अनुमति देने से झारखंड सरकार ने किया इन्कार
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  
लाइव हिंदुस्तान समाचार फेसबुक ,ट्वविटर ,इंस्ट्राग्राम , लिंक्डइन से जुड़ने के लिए फॉलो करे या विजिट करे : www.livehindustansamachar.com
 
समाचार चैनल  
स्थानीय राजनीति
खेल COVID-19
बिज़नेस अपराध
जीवन-शैली शिक्षा
राष्ट्रीय सम्पादकीय
अंतर्राष्ट्रीय सोशल मीडिया
कैरियर मनोरंजन
न्यायालय आपदा
अनुसंधान ब्लॉग
निर्वाचन मौसम
भष्ट्राचार कृषि
HEALTH शासन
योजना प्रशासन
कविता/कहानी स्वतंत्रता दिवस
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | जीवन-शैली  |  कृषि  | खेल  | कविता/कहानी  | शिक्षा  | भष्ट्राचार  | COVID-19  | सम्पादकीय  | योजना  | निर्वाचन  | आपदा  | अनुसंधान  | अपराध  | स्वतंत्रता दिवस  | शासन  | राजनीति  | मनोरंजन  | बिज़नेस  | मौसम  | ब्लॉग  | सोशल मीडिया  | HEALTH  | राष्ट्रीय  | न्यायालय  | स्थानीय  | प्रशासन  | अंतर्राष्ट्रीय  | कैरियर  | बिहार  | त्रिपुरा  | महाराष्ट्र  | छत्तीसगढ़  | लक्ष्यदीप  | दादरा और नगर हवेली  | मणिपुर  | उड़ीसा  | मिजोरम  | केरल  | पश्चिम बंगाल  | सिक्किम  | तेलंगाना  | तमिलनाडु  | राजस्थान  | कर्नाटक  | अरुणाचल प्रदेश  | आंध्र प्रदेश  | उत्तरांचल  | दमन और दीव  | गुजरात  | चंडीगढ़  | मध्य प्रदेश  | असम  | पांडिचेरी  | हिमाचल प्रदेश  | दिल्ली  | मेघालय  | नगालैंड  | गोवा  | अंडमान एवं निकोबार  | जम्मू और कश्मीर  | पंजाब  | लद्दाख  | हरियाणा  | उत्तर प्रदेश  | झारखंड  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Design & Development By MakSoft
 
Hit Counter