Thursday 23rd of September 2021
खोज

 
livehindustansamachar.com
समाचार विवरण  
 किसी मित्र को मेल पन्ना छापो   साझा यह समाचार मूल्यांकन करें      
Save This Listing     Stumble It          
 भारत की क्या है , International border ,LoC and LAC ! (Sat, Jun 20th 2020 / 14:39:11)

 


लाइव हिंदुस्तान समाचार
गलवान घाटी, अक्साई चीन, कालापानी, लिपुलेख, नियंत्रण रेखा और वास्तविक नियंत्रण रेखा ये वो शब्द हैं जिनका जिक्र अमूमन भारत-चीन, भारत-नेपाल या फिर भारत-पाकिस्तान सीमा विवाद के साथ अक्सर होता है। पिछले दिनों लिपुलेख और कालापानी को लेकर नेपाल के साथ जारी सीमा विवाद थमा भी नहीं था कि चीन सीमा पर दोनों देशों के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हो गई।

जिस जगह पर ये झड़प हुई, उसे भारत और चीन के बीच की वास्तविक नियंत्रण रेखा के नाम से भी जाना जाता है। तो भारत की अंतरराष्ट्रीय सीमा, नियंत्रण रेखा और वास्तविक नियंत्रण रेखा - ये तीनों आखिर हैं क्या?

  • भारत की सीमा

भारत की थल सीमा (लैंड बॉर्डर) की कुल लंबाई 15,106.7 किलोमीटर है जो कुल सात देशों से लगती है। इसके अलावा 7516.6 किलोमीटर लंबी समुद्री सीमा है।
भारत सरकार के मुताबिक ये सात देश हैं, बांग्लादेश (4,096.7 किमी), चीन (3,488 किमी), पाकिस्तान (3,323 किमी), नेपाल (1,751 किमी), म्यांमार (1,643 किमी), भूटान (699 किमी) और अफगानिस्तान (106 किमी)।

  • भारत-चीन वास्तविक नियंत्रण रेखा

सबसे पहले तो ये जान लीजिए कि भारत चीन के साथ 3,488 किलोमीटर लंबी सीमा साझा करता है। ये सीमा जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश से होकर गुजरती है।
ये तीन सेक्टरों में बंटी हुई है - पश्चिमी सेक्टर यानी जम्मू-कश्मीर, मिडिल सेक्टर यानी हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड और पूर्वी सेक्टर यानी सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश।
हालांकि दोनों देशों के बीच अब तक पूरी तरह से सीमांकन नहीं हुआ है। क्योंकि कई इलाकों को लेकर दोनों के बीच सीमा विवाद है। भारत पश्चिमी सेक्टर में अक्साई चीन पर अपना दावा करता है, जो फिलहाल चीन के नियंत्रण में है। भारत के साथ 1962 के युद्ध के दौरान चीन ने इस पूरे इलाके पर कब्जा कर लिया था।
वहीं पूर्वी सेक्टर में चीन अरुणाचल प्रदेश पर अपना दावा करता है। चीन कहता है कि ये दक्षिणी तिब्बत का हिस्सा है। चीन तिब्बत और अरुणाचल प्रदेश के बीच की मैकमोहन रेखा को भी नहीं मानता है। वो अक्साई चीन पर भारत के दावे को भी ख़ारिज करता है।
इन विवादों की वजह से दोनों देशों के बीच कभी सीमा निर्धारण नहीं हो सका। हालांकि यथास्थिति बनाए रखने के लिए लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल यानी एलएसी टर्म का इस्तेमाल किया जाने लगा। हालांकि अभी ये भी स्पष्ट नहीं है। दोनों देश अपनी अलग-अलग लाइन ऑफ़ एक्चुअल कंट्रोल बताते हैं।
इस लाइन ऑफ एक्चुएल कंट्रोल पर कई ग्लेशियर, बर्फ़ के रेगिस्तान, पहाड़ और नदियां पड़ते हैं। एलएसी के साथ लगने वाले कई ऐसे इलाके हैं जहां अक्सर भारत और चीन के सैनिकों के बीच तनाव की खबरें आती रहती हैं।

  • भारत-पाकिस्तान नियंत्रण रेखा

सात दशकों से भी ज्यादा वक्त गुजर चुका है, लेकिन जम्मू और कश्मीर भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव का मुख्य मुद्दा बना हुआ है। ये क्षेत्र इस समय एक नियंत्रण रेखा से बँटा हुआ, जिसके एक तरफ का हिस्सा भारत के पास है और दूसरा पाकिस्तान के पास।
1947-48 में भारत और पाकिस्तान के बीच जम्मू और कश्मीर के मुद्दे पर पहला युद्ध हुआ था जिसके बाद संयुक्त राष्ट्र की निगरानी में युद्धविराम समझौता हुआ। इसके तहत एक युद्धविराम सीमा रेखा तय हुई, जिसके मुताबिक़ जम्मू और कश्मीर का लगभग एक तिहाई हिस्सा पाकिस्तान के पास रहा जिसे पाकिस्तान 'आज़ाद कश्मीर' कहता है।
लगभग दो तिहाई हिस्सा भारत के पास है जिसमें जम्मू, कश्मीर घाटी और लद्दाख शामिल हैं। 1972 के युद्ध के बाद शिमला समझौता हुआ जिसके तहत युद्धविराम रेखा को 'नियंत्रण रेखा' का नाम दिया गया। भारत और पाकिस्तान के बीच ये नियंत्रण रेखा 740 किलोमीटर लंबी है।
यह पर्वतों और रिहाइश के लिए प्रतिकूल इलाकों से गुजरती है। कुछ जगह पर यह गाँवों को दो हिस्सों में बाँटती है तो कहीं पर्वतों को। वहाँ तैनात भारत और पाकिस्तान के सैनिकों के बीच कुछ जगहों पर दूरी सिर्फ सौ मीटर है तो कुछ जगहों पर यह पाँच किलोमीटर भी है। दोनों देशों के बीच नियंत्रण रेखा पिछले पचास साल से विवाद का विषय बनी हुई है।
मौजूदा नियंत्रण रेखा, भारत और पाकिस्तान के बीच 1947 में हुए युद्ध के वक़्त जैसी मानी गई थी, करीब-करीब वैसी ही है। उस वक्त कश्मीर के कई इलाकों में लड़ाई हुई थी।
उत्तरी हिस्से में भारतीय सेना ने पाकिस्तानी सैनिकों को करगिल शहर से पीछे और श्रीनगर से लेह राजमार्ग तक धकेल दिया था। 1965 में फिर युद्ध छिड़ा। लेकिन तब लड़ाई में बने गतिरोध की वजह से यथास्थिति 1971 तक बहाल रही। 1971 में एक बार फिर युद्ध हुआ।
1971 के युद्ध में पूर्वी पाकिस्तान टूट कर बांग्लादेश बन गया। उस वक्त कश्मीर में कई जगहों पर लड़ाई हुई और नियंत्रण रेखा पर दोनों देशों ने एक-दूसरे की चौकियों पर नियंत्रण किया। भारत को करीब तीन सौ वर्ग मील जमीन मिली। यह नियंत्रण रेखा के उत्तरी हिस्से में लद्दाख इलाक़े में थी।
1972 के शिमला समझौते और शांति बातचीत के बात नियंत्रण रेखा दोबारा स्थापित हुई। दोनो पक्षों ने ये माना कि जब तक आपसी बातचीत से मसला न सुलझ जाए तब तक यथास्थिति बहाल रखी जाए। यह प्रक्रिया लंबी खिंची। फील्ड कमांडरों ने पांच महीनों में करीब बीस नक्शे एक-दूसरे को दिए। आखिरकार समझौता हुआ।इसके अलावा भारत पाकिस्तान की अंतरराष्ट्रीय सीमा राजस्थान, गुजरात, जम्मू और गुजरात से लगती है।

  • सियाचिन ग्लेशियरः एक्चुअल ग्राउंड पोजिशन लाइन

सियाचिन ग्लेशियर के इलाके में भारत-पाकिस्तान की स्थिति 'एक्चुअल ग्राउंड पोजिशन लाइन' से तय होती है। 126.2 किलोमीटर लंबी 'एक्चुअल ग्राउंड पोजिशन लाइन' की रखवाली भारतीय सेना करती है।
80 के दशक से सबसे भीषण संघर्ष सियाचीन ग्लेशियर में चल रहा है। शिमला समझौते के समय न तो भारत ने और न ही पाकिस्तान ने ग्लेशियर की सीमाएँ तय करने के लिए आग्रह किया।कुछ विश्लेषकों का कहना है कि शायद इसकी वजह यह थी कि दोनो ही देशों ने इस भयानक इलाके को अपने नियंत्रण लेने की जरूरत नहीं समझी। कुछ यह भी कहते हैं कि इसका मतलब यह होता कि कश्मीर के एक हिस्से पर रेखाएँ खींचना जो चीन प्रशासित है मगर भारत उन पर दावा करता है।

  • भारत-भूटान सीमा

भूटान के साथ लगने वाली भारत की अंतरराष्ट्रीय सीमा 699 किलोमीटर लंबी है। सशस्त्र सीमा बल इसकी सुरक्षा करता है। भारत के सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, असम और पश्चिम बंगाल राज्य की सीमा भूटान से लगती है।

  • भारत-नेपाल सीमा

उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल और सिक्किम की सीमाएं नेपाल के साथ लगती है। भारत-नेपाल अंतरराष्ट्रीय सीमा की लंबाई 1751 किलोमीटर है और इसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी भी सशस्त्र सीमा बल के पास ही है। दोनों देशों की सरहद ज्यादातर खुली हुई और आड़ी-तिरछी भी है।
हालांकि अब सीमा पर चौकसी के लिए सुरक्षा बलों की तैनाती बढ़ी है। मुश्किल इस बात को लेकर ज्यादा है कि दोनों देशों की सीमाओं का निर्धारण पूरी तरह से नहीं हो पाया है। महाकाली (शारदा) और गंडक (नारायणी) जैसी नदियां जिन इलाक़ों में सीमांकन तय करती है, वहां मॉनसून के दिनों में आने वाली बाढ़ से तस्वीर बदल जाती है।
नदियों का रुख भी साल दर साल बदलता रहता है। कई जगहों पर तो सीमा तय करने वाले पुराने खंभे अभी भी खड़े हैं लेकिन स्थानीय लोग भी उनकी कद्र नहीं करते हैं।

  • भारत-म्यांमार सीमा

म्यांमार के साथ भारत की 1643 किलोमीटर लंबी अंतरराष्ट्रीय सीमा लगती है। इसमें 171 किलोमीटर लंबी सीमा की हदबंदी का काम नहीं हुआ है। म्यांमार सीमा की सुरक्षा का जिम्मा असम राइफल्स के पास है।

  • भारत-बांग्लादेश सीमा

4096.7 किलोमीटर लंबी भारत-बांग्लादेश सीमा पहाड़ों, मैदानों, जंगलों और नदियों से होकर गुजरती है। ये सरहदी इलाके सघन आबादी वाले हैं और इसकी सुरक्षा का जिम्मा सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ़) के पास है।
भारत-बांग्लादेश सीमा पर अंतरराष्ट्रीय सीमा के अंदर केवल एक किलोमीटर तक के इलाके में बीएसएफ अपनी कार्रवाई कर सकता है। इसके बाद स्थानीय पुलिस का अधिकार क्षेत्र शुरू हो जाता है।

 
समान समाचार  
livehindustansamachar.com
     
आर्थिक विकास दर की गिरावट केंद्र सरकार के लिए एक बड़ी चुनौती

चन्द्रिका प्रसाद तिवारी
कोरोना काल का सबसे बड़ा आर्थिक दुष्प्रभाव अब देश के सामने है। जब सरकार के आपने आकलन के मुताबिक इस वर्ष अप्रैल से जून के तिमाही के दौरान भारत की आर्थिक विकास दर घट कर शून्य से भी नीचे

read more..

आर्थिक विकास दर की गिरावट केंद्र सरकार के लिए एक बड़ी चुनौती

....................................... ...तो हिंदुस्तान महाशक्ति होता !

हिंदुस्तान का ''दुश्मन नंबर एक'' पाकिस्तान नहीं चीन बन गया

चीन ने इतिहास दोहराया है लेकिन भारत में ही बदलाव नहीं !

चीन से सीख लेकर ही पाया जा सकता है वैश्विक महामारी Corona पर काबू !

संपादकीय : भीड़ की भयावह हिंसा

संपादकीय : नकारात्मक राजनीति

संपादकीय : देश की जनता को लंबे चुनाव प्रचार से मुक्ति

संपादकीय : बेनकाब होता पाकिस्तान का असली चेहरा

पाकिस्तान का असभ्य, अभद्र और भड़काऊ चेहरा उजागर !

भारतीय राजनीति में भाषा की मर्यादा का उल्लंघन

सबसे दुखद है किसी अच्छे प्रयास का पराजित हो जाना !

नेपाल-पाकिस्तान के बहाने भारत को घेर रहा चीन !

सम्पादकीय : संविधान की सत्ता का सवाल ?

राष्ट्रीय प्रेस दिवस : लोकतंत्र में प्रेस की भूमिका संदेस्पद

नाम नहीं सिस्टम बदलें माननीय !

डिजिटल इंडिया में विकास निधि तक नहीं खर्च पाए सांसद !

71 का देश, 70 का रुपया और बचकाना नेतृत्व

दुराचार रोकने को कानून वस नहीं संस्कार भी जरूरी !

वायदे पर खरा नहीं उतरते तो देश में होगा नकदी का संकट

किसानों ने जीती जंग, मुंबई ने जीता दिल

अर्थव्यवस्था के मोर्चे से दोहरी राहत

जीत का परचम : शून्य से शिखर तक का सफर

स्थापना दिवस : मैं हूं मध्य प्रदेश... : जन्म से उत्थान तक

संपादकीय : आधार योजना पर उठे संवैधानिक सवाल

संपादकीय : जातीय गोलबंदी का मिसाल फ़िलहाल गुजरात !

गुजरात चुनाव : परियोजनाओं के लॉलीपॉप के भरोसे बीजेपी !

संपादकीय : गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में त्रासदी नहीं, जन-संहार है

संपादकीय : चाह कर भी कुछ न कर पाए !

संपादकीय : बसपा सुप्रीमो का राजनितिक स्टंट

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
मकर संक्रांति : नौकरी-व्यापार में वृद्धि तथा संतान सुख, मोक्ष की प्राप्ति के लिए करे दान !
भगवान आशुतोष के द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक केदारनाथ धाम के कपाट
करवा चौथ : कल्याणकारी है कार्तिक मास, जानिए इसका महत्व
करवा चौथ : जानिए व्रत विधि, पूजन सामग्री, पूजा विधि, शुभ मुहूर्त
शारदीय नवरात्र : अष्टमी और नवमी पर करें कन्या पूजन, होगी मां की कृपा !
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल नवरात्रि [ स्पेशल ]
आस्था सुविचार
प्रेरक प्रसंग प्रवचन [कथा ]
व्रत [उपवास ]
 
लाइव अपडेट  
लाइव हिंदुस्तान समाचार
 
समाचार चैनल  
LOCAL राजनीति
SPORTS जीवन-शैली
BUSINESS CRIME
सर्वे/ आडिट EDUCATION
EDITORIAL अंतर्राष्ट्रीय
SOCIAL MEDIA JOB
INTERTAINMENT आपदा
अनुसंधान ब्लॉग
निर्वाचन-2021 टेक्नोलॉजी
COURT कृषि
HEALTH राष्ट्रीय
प्रशासन कार्यक्रम
भ्रष्टाचार
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | EDUCATION  | JOB  | निर्वाचन-2021  | भ्रष्टाचार  | SPORTS  | राष्ट्रीय  | कार्यक्रम  | जीवन-शैली  | INTERTAINMENT  | आपदा  | सर्वे/ आडिट  | HEALTH  | EDITORIAL  | प्रशासन  | SOCIAL MEDIA  | टेक्नोलॉजी  |  कृषि  | अंतर्राष्ट्रीय  | राजनीति  | BUSINESS  | अनुसंधान  | COURT  | LOCAL  | ब्लॉग  | CRIME  | दिल्ली  | सिक्किम  | हिमाचल प्रदेश  | पश्चिम बंगाल  | तेलंगाना  | उड़ीसा  | नई दिल्ली  | मणिपुर  | केरल  | दादरा और नगर हवेली  | जम्मू और कश्मीर  | दमन और दीव  | उत्तरांचल  | महाराष्ट्र  | त्रिपुरा  | पंजाब  | नगालैंड  | असम  | अंडमान एवं निकोबार  | अरुणाचल प्रदेश  | राजस्थान  | लक्ष्यदीप  | मध्य प्रदेश  | गोवा  | उत्तर प्रदेश  | छत्तीसगढ़  | झारखंड  | गुजरात  | चंडीगढ़  | आंध्र प्रदेश  | मिजोरम  | बिहार  | लद्दाख  | तमिलनाडु  | हरियाणा  | मेघालय  | कर्नाटक  | पांडिचेरी  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Design & Development By MakSoft
 
Hit Counter