Friday 7th of August 2020
खोज

 
livehindustansamachar.com
समाचार विवरण  
 किसी मित्र को मेल पन्ना छापो   साझा यह समाचार मूल्यांकन करें      
Save This Listing     Stumble It          
 राजनीतिक जीवन में सबसे कठिन मोड़ पर सियासत का जादूगर ? (Fri, Jul 31st 2020 / 11:17:58)

 


चन्द्रिका प्रसाद तिवारी
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत विज्ञान में स्नातक, अर्थशास्त्र में परास्नातक और कानून के छात्र रहे हैं। 69 वर्षीय गहलोत कहीं जगन्नाथ पहाड़िया तो कहीं मोहन लाल सुखाड़िया जैसे दिग्गज कांग्रेस के नेताओं से सीख लेने के बाद भाजपा के संस्थापक नेताओं में रहे भैरोंसिंह शेखावत की तरह राजनीति
में सियासत के जादूगर माने जाते हैं।
लेकिन माना जा रहा है कि पार्टी के हर गुट पैठ और भाजपा नेता वसुंधरा राजे से संतुलित रिश्ता रखने वाले गहलोत की कूटनीति की अग्नि परीक्षा शुरू हो गई है। गहलोत अब विधानसभा में विश्वासमत पाकर भाजपा और विरोधियों का मुंह बंद कर देने वाली 14 अगस्त वाली पारी खेल रहे हैं।

  • सचिन पायलट की खामोशी बढ़ा रही है क्लाइमैक्स

कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की टीम में शुमार रहने वाले बागी नेता सचिन पायलट ने गहलोत की मुश्किल बढ़ा दी है। सचिन पायलट कांग्रेस में ही हैं। उनके साथ कांग्रेस पार्टी के 18 विधायक स्पष्ट तौर पर हैं। खामोश रहकर, खुद को कांग्रेसी बताकर सचिन पायलट कम से कम 30 विधायकों के समर्थन का दावा कर रहे हैं।
पायलट ने खम ठोककर अशोक गहलोत की सरकार को अल्पमत में बताया है। विधायकों की सदस्यता बचाने के लिए कानूनी से लेकर राजनीतिक दांव चल रहे हैं, लेकिन पार्टी के व्हिप का उल्लंघन भी कर रहे हैं। दिलचस्प बात यह है कि कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता सचिन पायलट की गतिविधियों को पार्टी विरोधी मानते हुए बागी करार देते हैं, लेकिन पार्टी में लौट आने, भाजपा के खिलाफ विचारधारा की लड़ाई लड़ने का अभी भी आमंत्रण दे रहे हैं।
कांग्रेस पार्टी के अशोक गहलोत के अलावा दूसरे धड़े के भी तमाम नेताओं का मानना है कि सचिन पायलट अपने मित्र ज्योतिरादित्य सिंधिया के इशारे पर भाजपा की गोद में खेल रहे हैं। अखिल भारतीय महिला कांग्रेस की अध्यक्ष सुष्मिता देव कहती हैं कि उनमें पोटेंशियल है, लेकिन यदि भाजपा के षड्यंत्र में राजस्थान की सरकार गिर गई तो लोकतंत्र के लिए बहुत खराब दिन होगा। कुल मिलाकर सचिन पायलट की चुप्पी क्लाइमैक्स बढ़ा रही है।

  • हर रोज गहलोत को देना पड़ रहा है बयान

आम तौर पर नाप-तौलकर बोलने वाले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को इन दिनों लगभग हर दिन न केवल राजनीतिक अभियान चलाना पड़ रहा है, बल्कि बोलना पड़ रहा है। दिलचस्प है कि पार्टी गहलोत के साथ खड़ी है, लेकिन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी समेत तमाम वरिष्ठ नेता अभी इस मसले पर खुलकर कुछ भी नहीं बोल रहे हैं।
पार्टी के संगठन महासचिव वेणुगोपाल से लेकर राहुल गांधी के टीम की निगाह जयपुर में हर रोज बदलने वाले घटनाक्रम पर लगी है। हालांकि पार्टी के एक वरिष्ठ महासचिव मान चुके हैं कि कांग्रेस के पास समझौते के केवल दो रास्ते हैं। पहला अशोक गहलोत को राजस्थान के मुख्यमंत्री पद से हटाकर इसका पटाक्षेप करे।
सूत्र का कहना है कि यह जटिल और नामुमकिन सा निर्णय होगा। दूसरा रास्ता बिना सचिन पायलट और उनके सहयोगियों के 103 विधायकों की संख्या बनाए रखने का है। यह भी किसी चुनौती से कम नहीं है।

  • एक नजर में अशोक गहलोत

बिना धार के हथियार से दुश्मन को राजनीतिक कौशल के सहारे पटखनी देने में सियासत के जादूगर मुख्यमंत्री गहलोत का कोई जवाब नहीं है। पार्टी के भीतर कुछ लोग उन्हें मीठी छुरी कहते हैं। एक वर्ग ऐसा भी है जो मिट्ठू तोता की संज्ञा देता है। एक समय था जब गहलोत एआईसीसी में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ कार्यालय का कमरा शेयर करते थे। पिछले दिनों पर जाएं तो गहलोत 1971 से ही राजनीति, समाजसेवा के क्षेत्र में सक्रिय हैं।

  • 70 का दशक

अशोक गहलोत ने 1971 में भारत-पाकिस्तान के युद्ध के बाद पश्चिम बंगाल में 24 परगना समेत अन्य जिलों में शरणार्थी शिविरों में जाकर काम किया। तब वह कांग्रेस के छात्र संगठन एनएसयूआई से जुड़े थे। 1973-79 में वह एनएसयूआई राजस्थान के अध्यक्ष रहे। 1979 में गहलोत जोधपुर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष बन गए थे। इस पद पर वह 1982 तक रहे।

  • संसदीय राजनीति और फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा

इंदिरा, राजीव से लेकर नरसिंह राव मंत्रिमंडल तक : अशोक गहलोत के संसदीय राजनीतिक जीवन की शुरुआत 1980 में हुई। वह जोधपुर की लोकसभा सीट से चुनाव जीत गए। 2 सितंबर 1982 को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने उन्हें अपने मंत्रिमंडल में पर्यटन और नागरिक उड्डयन मंत्रालय में उपमंत्री बनाया। 184 में खेल उपमंत्री बनाए गए।
31 दिसंबर 1984 को तत्कालीन प्रधानमंत्री ने उन्हें नागरिक उड्डयन मंत्रालय का प्रभार सौंपते हुए केंद्रीय मंत्री बनाया। बाद में कपड़ा मंत्री बनाया गया। जून 1989 में अशोक गहलोत राजस्थान सरकार में गृह तथा जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के मंत्री बनाए गए।
1991 में अशोक गहलोत फिर केंद्रीय मंत्री बने। 1993 तक उनके पास कपड़ा मंत्रालय का प्रभार रहा। इस तरह से गहलोत ने जोधपुर लोकसभा का 1980-84, 1984-89, 1991-96, 1996-98, 1998-1999 में प्रतिनिधित्व किया।

  • राजस्थान में मंत्री और मुख्यमंत्री की पारी

अशोक गहलोत राजस्थान सरकार में 1989 में कुछ महीने के लिए मंत्री बन गए थे। फिर केंद्रीय राजनीति में लौट आए। लेकिन इसके बाद 1999 में गहलोत का फिर से राजस्थान की राजनीति में लौटना हुआ। 1999 के विधानसभा चुनाव में जोधपुर की सरदारपुरा विधानसभा से चुने गए।यहां से वह लगातार हर विधानसभा चुनाव में जीतते रहे।
पहली दिसंबर 1998 को उन्होंने राजस्थान के मुख्यमंत्री का कार्यभार संभाला और पांच साल का कार्यकाल पूरा किया। 2008 में फिर राजस्थान के मुख्यमंत्री बने। पांच साल का कार्यकाल पूरा किया। 2018 में फिर वह तीसरी बार राज्य के मुख्यमंत्री बने। परंतु इस बार ताजा सियासी संकट ने उनकी राह में कांटा बो दिया है।

  • 34 साल में गहलोत भी बने थे राजस्थान प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष

सचिन पायलट को अशोक गहलोत कम उम्र में बड़ी जिम्मेदारी का चाहे जितना बड़ा ताना मारें, लेकिन वह भी 34 साल की उम्र में ही राजस्थान के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बन गए थे। 3 मई 1951 को पैदा हुए गहलोत 29 साल में सांसद, 31 साल में केंद्र सरकार में मंत्री बन गए थे। 34 साल की उम्र (1985) में ही उन्हें केंद्र सरकार में पूर्ण कालिक केंद्रीय मंत्री बनाया गया था।
47 साल की उम्र में तीन बार केंद्रीय मंत्री, पांच बार सांसद बनने के बाद मुख्यमंत्री बनने का अवसर मिल गया था। साल 1998 से आज तक जब भी कांग्रेस राजस्थान में सरकार बनाने की स्थिति में आई, मुख्यमंत्री का ताज अशोक गहलोत के सिर रहा। केंद्रीय और राज्य पार्टी संगठन में लगातार महत्वपूर्ण पद पर रहे, जिम्मेदारी निभाई।

  • राजनीतिक जीवन का सबसे जटिल कांटा

अशोक गहलोत के 69 साल के राजनीतिक जीवन का यह सबसे कठिन दौर है। उनसे जूनियर राजेश पायलट के पुत्र, पूर्व केंद्रीय मंत्री सचिन पायलट उनके गले में मछली के कांटे की तरह अटक गए हैं। सचिन पायलट 2018 में भी खुद को मुख्यमंत्री पद का प्रबल दावेदार मान रहे थे।
राहुल गांधी और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने सचिन को उपमुख्यमंत्री पद के लिए मनाकर गहलोत को यह दायित्व सौंपा था, लेकिन दोनों नेताओं में नहीं बनी। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अंतत: सचिन पायलट को कटी पतंग बनाने की ठान ली और इसके सामानांतर सचिन पायलट ने भी अपना राजनीतिक किला बनाते हुए चुनौती दे दी है।
सचिन पायलट कहते हैं कि मैं कांग्रेसी हूं। भाजपा में नहीं जाऊंगा। अशोक गहलोत की सरकार के पास बहुमत नहीं है। हमें 30 विधायकों का समर्थन है। पायलट इतना कहकर चुप हैं। अशोक गहलोत लगातार हमलावर हैं। साख दांव पर है। अब दोनों ही विश्वास और संशय में हर दिन व्यतीत करते हुए 14 अगस्त के आने की पारी खेल रहे हैं।

livehindustansamachar.com
 
समान समाचार  
livehindustansamachar.com
     
28 साल पहले कार्यकर्ता के रूप में पहुंचे थे अब PM बनकर किया भूमिपूजन

रीता अश्वनी तिवारी
पांच अगस्त 2020 की तारीख अब इतिहास में दर्ज हो गई है। 492 वर्ष बाद दोबारा राम मंदिर आकार लेगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या जाकर राम मंदिर के निर्माण के लिए भूमिपूजन किया है। इसी के स

read more..

28 साल पहले कार्यकर्ता के रूप में पहुंचे थे अब PM बनकर किया भूमिपूजन

प्रधानमंत्री की माता हीराबेन ने टीवी पर देखा राम मंदिर का भूमि पूजन

हांगकांग के रास्ते अयोध्या पहुंची पीओके स्थिति पवित्र तीर्थ शारदा पीठ की मिट्टी

हिंदुस्तान की नीति है, जितने ताकतवर होंगे, उतनी ही शांति होगी : PM

राम-मंदिर निर्माण के शुभारंभ पर सभी को बधाई :राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद

भव्य राम मंदिर निर्माण का भूमि पूजन :शताब्दियों बाद पूरा हुआ सपना: योगी

रामजन्मभूमी में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर की PM ने रखी आधारशिला

श्रीराम जन्मभूमि परिसर में पीएम मोदी ने लगाया दिव्य पारिजात का पौधा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हनुमानगढ़ी में की पूजा, रामजन्मभूमि के लिए रवाना

अयोध्या में भूमि पूजन के लिए पीएम मोदी ने पहना पहना धोती-कुर्ता

भूमि पूजन से पहले अयोध्या में तीन चक्र की सुरक्षा, हर गली-चौराहे पर कड़ा पहरा

राम जन्म भूमि : अभूतपूर्व क्षण के लिए अयोध्या तैयार,पीएम करेंगे भूमि पूजन

भारतवर्ष का अहम व्यापारिक केंद्र थी प्रभु श्रीराम की अयोध्या नगरी

राम जन्मभूमि : विवाद से लेकर समाधान तक अय़ोध्या इतिहास में दर्ज

भूमिपूजन :22-23 दिसंबर 1949 को रखी थी राम मंदिर मुद्दे की नींव

राजनीति का मुख्य रंग समाजवाद ,धर्मनिरपेक्षता नहीं ''हिंदुत्व'' हो गया !

अयोध्या की लड़ाई लड़ने वाले ही रहेंगे राम मंदिर भूमि पूजन समारोह से दूर !

राम मंदिर आंदोलन में चर्चित : सियासत में किनारे या अनंत में विलीन

अभिनेता सुशांत सिंह केस की जांच, सुर्खियों में हैं पटना एसपी सिटी विनय तिवारी

दुनिया में नशे के कारण प्रतिवर्ष लगभग 40 लाख लोगों की जाती है जान !

रामजन्मभूमि, देव नगरी, मोक्षदायिनी है भगवान राम की नगरी अयोध्या

भारतीय स्मार्टफोन बाजार में विदेशी स्मार्टफोन निर्माण कंपनियों का कब्जा !

मुखर्जी चौक में पांच अगस्त को लहराएगा 110 फीट ऊंचा तिरंगा

सर्पदंश की घटना में ओझा, गुनिया केअंधविश्वास में समय व्यर्थ न करें परिजन ,स्वास्थ्य केंद्र में उपचार कराये : CMHO

पेंच नेशनल पार्क के रेस्कयू दल ने फार्म हाउस में किया भालू का रेस्कयू

सेना के जवान ने निभाई गांव की माटी की सौगंध, मातृशक्ति संगठन ने किया सम्मान

सोमालिया से भारत आ सकता है टिड्डियों का दल , 6 राज्यों में हाई अलर्ट

रामपुर बाजार सड़क की हालत दयनीय ,स्थानीय लोगो ने की मरम्मत कराने की मांग

लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारतीय सेना ने तैनात किए टी-90 भीष्म टैंक

कलेक्टर व डीएफओ सुन लें, कोई पात्र आदिवासी न रहे पट्टे से वंचित :मुख्यमंत्री

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
हनुमान होते तो नहीं होता श्रीराम का स्वर्गारोहण, इसलिए किया था ऐसा उपाय
जानिए ,रक्षाबंधन की तिथि, वार, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि सहित कथा !
व्यक्ति की राशि पर भी निर्भर करता है तो उसे कैसे जीवनसाथी मिलेगा
मोक्षदायिनी और पुण्यफल देने वाली देवशयनी एकादशी की पूजाविधि और शुभ मुहूर्त
कांवड़ यात्रा की अनुमति देने से झारखंड सरकार ने किया इन्कार
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  
लाइव हिंदुस्तान समाचार फेसबुक ,ट्वविटर ,इंस्ट्राग्राम , लिंक्डइन से जुड़ने के लिए फॉलो करे या विजिट करे : www.livehindustansamachar.com
 
समाचार चैनल  
स्थानीय राजनीति
खेल COVID-19
बिज़नेस अपराध
जीवन-शैली शिक्षा
राष्ट्रीय सम्पादकीय
अंतर्राष्ट्रीय सोशल मीडिया
कैरियर मनोरंजन
न्यायालय आपदा
अनुसंधान ब्लॉग
निर्वाचन मौसम
भष्ट्राचार कृषि
HEALTH शासन
योजना प्रशासन
कविता/कहानी लाइव हिंदुस्तान समाचार [विशेष]
 
Submit Your News
 
 
 | होम  |  कृषि  | अनुसंधान  | निर्वाचन  | शासन  | सोशल मीडिया  | HEALTH  | प्रशासन  | शिक्षा  | मनोरंजन  | राष्ट्रीय  | अंतर्राष्ट्रीय  | स्थानीय  | लाइव हिंदुस्तान समाचार [विशेष]  | कैरियर  | जीवन-शैली  | ब्लॉग  | न्यायालय  | राजनीति  | योजना  | COVID-19  | अपराध  | बिज़नेस  | आपदा  | भष्ट्राचार  | खेल  | कविता/कहानी  | सम्पादकीय  | मौसम  | पश्चिम बंगाल  | केरल  | मणिपुर  | झारखंड  | हिमाचल प्रदेश  | उड़ीसा  | महाराष्ट्र  | उत्तर प्रदेश  | मिजोरम  | राजस्थान  | बिहार  | गुजरात  | मध्य प्रदेश  | चंडीगढ़  | असम  | मेघालय  | दिल्ली  | पंजाब  | दादरा और नगर हवेली  | सिक्किम  | अंडमान एवं निकोबार  | दमन और दीव  | तेलंगाना  | त्रिपुरा  | तमिलनाडु  | नगालैंड  | आंध्र प्रदेश  | अरुणाचल प्रदेश  | लक्ष्यदीप  | छत्तीसगढ़  | उत्तरांचल  | पांडिचेरी  | गोवा  | लद्दाख  | कर्नाटक  | जम्मू और कश्मीर  | हरियाणा  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Design & Development By MakSoft
 
Hit Counter