Sunday 20th of September 2020
खोज

 
livehindustansamachar.com
समाचार विवरण  
 किसी मित्र को मेल पन्ना छापो   साझा यह समाचार मूल्यांकन करें      
Save This Listing     Stumble It          
 कोविड-19 की वैक्सीन ने चिकित्सा जगत में वैज्ञानिकों के बीच में मचाई हलचल (Wed, Aug 26th 2020 / 10:46:29)

 


लाइव हिंदुस्तान समाचार
कोविड-19 की वैक्सीन ने चिकित्सा जगत से लेकर वैज्ञानिकों के बीच में हलचल मचा रखी है। आईसीएमआर के एडवाइजरी बोर्ड के सदस्य, आईआईटी दिल्ली के वैज्ञानिक प्रोफेसर वी रामगोपाल राव का भी मानना है कि इतनी जल्दी भारत में वैक्सीन निर्माण की कल्पना भी नहीं की जा सकती। वैक्सीन को लेकर एक आश्चर्य आईसीएमआर से हाल में रिटायर हुए डा. रमन गंगाखेड़कर को भी है। वह कहते हैं कि आठ महीने का संक्रमण और 27 वैक्सीन होड़ में हैं। ऐसा जीवन में कभी नहीं सुना। लेकिन फिर भी डा. रमन गंगाखेड़कर कहते हैं कि मार्च 2021 तक भारत में भी कोविड-19 की एक वैक्सीन आने की पूरी उम्मीद है।
डा. रमन गंगाखेड़कर कहते हैं कि ऐसा न हुआ तो मान लीजिएगा कि विज्ञान फेल हो गया। डा. रमनगंगा खेड़कर ने रूस और चीन द्वारा विकसित की गई वैक्सीन पर भी सवाल खड़ा किया? उन्होंने कहा कि इतनी जल्दबाजी ठीक नहीं है। भारत को सोचना होगा कि रूस और चीन की वैक्सीन के साथ जाना चाहिए या नहीं? वहीं क्रिश्चियन मेडिकल कालेज, वेल्लोर के प्रो. गगनदीप कंग कहते हैं कि सात महीने में 30 वैक्सीन का ट्रायल, यह विज्ञान है या मजाक? उन्होंने कहा कि दुनिया में कोविड-19 की 165 पर वैक्सीन पर काम चल रहा है।
प्रभाव जाने बगैर दवा या वैक्सीन का लांच होना गलत
आईआईटी एलुमनाई काउंसिल के चेयरमैन रवि शर्मा का कहना है कि कोविड-19 जैसे वायरस की इतनी जल्दी वैक्सीन संभव ही नहीं है। यह लोगों के जीवन के साथ खिलवाड़ के सिवा कुछ भी नहीं है। रवि शर्मा का कहना है कि वायरस की वैक्सीन निर्माण के लिए एक वैज्ञानिक डाटा की आवश्यकता होती है। प्रयोगशाला में अच्छा खासा समय लगता है।
वायरस की संरचना, जीनोम, खतरनाक प्रोटीन की पहचान, उसके उत्परिवर्तन (म्यूटेशन, बदलाव) को जाने बिना वैक्सीन कैसे लाई जा सकती है। क्वलीनिकल ट्रायल में लंबा समय लगता है। फिर लोगों पर वैक्सीन के दुष्प्रभाव का अध्ययन किए बगैर इसे जारी करना सामान्य आदमी के जीवन के साथ बड़ा खिलवाड़ होगा।
रवि शर्मा का कहना है कि इन्हीं जटिलताओं को देखते हुए आईआईटी एलुमनाई काउंसिल ने वैक्सीन निर्माण से अपने हाथ पीछे खींचे हैं। क्योंकि एलुमनाई काउंसिल वैक्सीन (अरबों डालर का बाजार) के बाजारीकरण की होड़ में नहीं शामिल होना चाहती।
पहले लगते थे दस साल, अब दो साल तो चाहिए- डा. गंगाखेड़कर
डा. रमन गंगाखेड़कर का कहना है कि पहले एक वैक्सीन के विकास में कम से कम 10 साल लगते थे। सैंपल का कलेक्शन, वायरस का अध्ययन, उसके जीनोम, खतरनाक प्रोट्रीन की तलाश यह सब बहुत आसान काम नहीं था। तीन-चार साल तो इसी में लग जाते थे। अब विज्ञान के साथ-साथ बहुत कुछ बदला है।
कई चीजें साथ-साथ चलती रहती हैं। अब वैज्ञानिकों ने अनुसंधान करके वैक्सीन के प्लेटफार्म जैसी अवधारणा पर काम शुरू कर दिया है। कोविड-19 वायरस को लेकर चीन ने पहले उसके जीनोम, प्रोटीन आदि की जानकारी दे दी है। कोविड-19 में पांच प्रोटीन होने की जानकारी मिली है।
वैक्सीन के विकास में लगे वैज्ञानिकों ने प्रीफैब्रिक मैटेरियल को तैयार कर लिया। एडिनो वायरस (सर्दी-जुकाम वाला वायरस) पर काम करके समय को बचाया है। इस तरह से वैज्ञानिकों को पहले की तुलना में काफी सुविधा हुई है।
जानवरों पर ट्रायल, मनुष्यों पर परीक्षण
डा. रमन गंगाखेड़कर का कहना है कि वैक्सीन का पहला ट्रायल तो जानवर पर ही होना है। इसके लिए उपयुक्त जानवर की तलाश, उसमें एंटीबॉडी का बनना, दुष्प्रभाव का अध्ययन सब प्रक्रिया का हिस्सा है। यहां भी सैंपल का साइज जितना बड़ा होगा, उतना ही अच्छा है।
जानवरों के बाद मनुष्यों पर वैक्सीन के ट्रायल की बारी आती है। डा. गंगाखेड़कर कहते हैं कि चाहे जितनी जल्दबाजी कर लीजिए, लेकिन इसके परीक्षण के लिए 6-8 महीने तो जरूरी हैं। आम तौर पर शरीर में एंडी बॉडी बनने में ही एक महीना लग जाता है। प्रभाव या असर का पता लगाने में समय लगता है।
डा. रमन गंगाखेड़कर ने कहा कि वैक्सीन तैयार करने में पूरी दुनिया लगी है। तमाम वैज्ञानिक लगे हैं। सब समय को घटा देना चाहते हैं, लेकिन फिर भी 18 माह से दो साल का समय चाहिए। उन्होंने उम्मीद जताई कि मार्च 2021 तक भारत की प्रयोगशाला में भी एक वैक्सीन तैयार करने में सफलता मिल जानी चाहिए।
100 फीसदी सुरक्षा की गारंटी नहीं दे सकते
आईआईटी एलुमनाई काउंसिल के रवि शर्मा का कहना है कि जो लोग कोविड-19 वैक्सीन के 18-24 महीने तक आ जाने का दावा कर रहे हैं, उनसे वैक्सीन का प्रभाव के बारे में पूछना चाहिए। रवि शर्मा का कहना है कि इतने कम समय में जो भी दवा या वैक्सीन लोगों को दी जाएगी, वह कितनी सुरक्षित है, नहीं कहा जा सकता। इसके काफी बड़े दुष्प्रभाव हो सकते हैं।
डा. रमन गंगाखेड़कर ने भी इसे स्वीकार किया। उन्होंने कहा कि वैक्सीन कितनी सुरक्षित रहेगी, नहीं बताया जा सकता। 100 फीसदी सुरक्षा की भी गारंटी नहीं दी जा सकती। पुरानी वैक्सीन के कई दुष्प्रभाव तो अब पता चल रहे हैं, लेकिन फिर भी थोड़ा जोखिम (रिस्क) तो लेना पड़ेगा।

livehindustansamachar.com
 
समान समाचार  
livehindustansamachar.com
     
वैज्ञानिकों का दावा कि दुनिया के सभी हिस्सों में जीवों का खात्मा होगा !

लाइव हिंदुस्तान समाचार
विभिन्न देशों के वैज्ञानिकों की मिली जुली टीम के की ओर से तैयार की गई नई रिपोर्ट में ऐसा दावा किया गया है कि पूरी पृथ्वी से जीवों के खत्म होने का दौर शुरू होने वाला है। इसे 1.26 लाख साल में जीवों के विलुप

read more..

वैज्ञानिकों का दावा कि दुनिया के सभी हिस्सों में जीवों का खात्मा होगा !

कोविड वैक्सीन: डीसीजीआई ट्रायल पर लगा सकता है अस्थायी रोक !

कोविड-19 को control करेगा नीम, परीक्षण के नतीजे आने का इंतजार !

हवा में कोरोना वायरस:वायरस से 100 गुना ज्यादा होता है उसका RNA !

भारत के पहले मानव अतंरिक्ष मिशन के लिए रूस में पूरा हुआ परीक्षण

ऑक्सफोर्ड वैक्सीन के मानव परीक्षण का ट्रायल,भारत में 5 जगहों का चुनाव

सूर्योदय से पहले 5 ग्रहों को 45 मिनट तक आंखों से देखा जा सकेगा !

धरती से नजर आएगा शुक्र ग्रह, बल्ब की तरह बिखेरेगा रोशनी

कोवाक्सिन कोविड वैक्सीन 15 अगस्त तक लॉन्च कर सकता है IRMR

कोरोना को लेकर नए शोध का दावा, 43 % जनसंख्या पर हर्ड इम्यूनिटी संभव

सीवेज के गंदे पानी में शोधकर्ताओं को मिले सार्स-कोव-2 वायरस के कण

CSIR -CMERI वैज्ञानिकों ने बनाया स्वदेशी मैकेनिकल वेंटिलेटर

DRDO ने बनाई कोरोना की दवा, क्लीनिकल ट्रायल की मिली अनुमति

हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के परीक्षण में अस्थायी रोक ,WHO के खिलाफ भारत में विरोध ,आईसीएमआर के बाद सीएसआईआर ने WHO को लिखा पत्र

Kovid-19 वायरस की माइक्रोस्कोपी तस्वीर भारतीय वैज्ञानिकों ने की खोज

कोरोना वायरस से निपटने के लिए भारतीय वैज्ञानिकों ने झोंकी ताकत

चंद्रयान-2 के सफल प्रक्षेपण के बाद ‘'सूर्य मिशन'’ की योजना पर ISRO

चंद्रग्रहण: 149 साल बाद बना दुर्लभ संयोग, दुनिया भर में दिखा रोमांच

15 जुलाई को पहली बार चांद के दक्षिणी ध्रुव पर उतरेगा चंद्रयान- 2

डीआरडीओ ने आकाश-1एस एयर डिफेंस मिसाइल का किया सफल परीक्षण

मंगल के बाद अब शुक्र की तैयारी में इसरो, अगले 10 साल में लॉन्च होंगे सात वैज्ञानिक मिशन

केरल में खुलेगा देश का पहला ट्रांसजेंडर रिसर्च सेंटर, केरल और गोवा भी सहमत

13 राज्यों में होंगी साइबर फॉरेंसिक लैबोरेट्री और डीएनए जांच की सुविधा

भारत ने किया लंबी मारक क्षमता वाले दो रॉकेट का सफल परीक्षण

रूस से परमाणु संचालित पनडुब्बी लेने जा रहा है भारत,3 अरब डॉलर में सौदा

दुनिया के बेहतरीन लड़ाकू विमानों में शुमार राफेल विमान !

वैज्ञानिकों को मंगल की सतह पर मिले प्राचीन झीलों के भूगर्भीय साक्ष्य

जापान जाएगी केले के छिलके से sanitary pad बनाने वाली होनहार छात्रा रीना

जमीन से हवा में मार करने वाली ''एलआरएसएएम’' मिसाइल का सफल प्रयोग

फॉर द स्टडी ऑफ कफ : खांसी को ठीक करने के लिए सिरप से अच्छी है चॉकलेट

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
श्रद्धालु फिर से कर सकेंगे मां वैष्णो देवी के दर्शन, नियमों के साथ यात्रा की अनुमति
हनुमान होते तो नहीं होता श्रीराम का स्वर्गारोहण, इसलिए किया था ऐसा उपाय
जानिए ,रक्षाबंधन की तिथि, वार, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि सहित कथा !
व्यक्ति की राशि पर भी निर्भर करता है तो उसे कैसे जीवनसाथी मिलेगा
मोक्षदायिनी और पुण्यफल देने वाली देवशयनी एकादशी की पूजाविधि और शुभ मुहूर्त
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  
लाइव हिंदुस्तान समाचार
 
समाचार चैनल  
LOCAL राजनीति
SPORTS जीवन-शैली
BUSINESS अपराध
कार्यक्रम शिक्षा
EDITORIAL अंतर्राष्ट्रीय
SOCIAL MEDIA कैरियर
INTERTAINMENT आपदा
अनुसंधान ब्लॉग
निर्वाचन टेक्नोलॉजी
न्यायालय कृषि
HEALTH शासन
प्रशासन प्राकृतिक/धरोहर
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | कैरियर  | LOCAL  | प्रशासन  | टेक्नोलॉजी  | प्राकृतिक/धरोहर  | जीवन-शैली  |  कृषि  | ब्लॉग  | न्यायालय  | BUSINESS  | अंतर्राष्ट्रीय  | कार्यक्रम  | HEALTH  | शासन  | अपराध  | राजनीति  | SPORTS  | अनुसंधान  | शिक्षा  | SOCIAL MEDIA  | निर्वाचन  | EDITORIAL  | आपदा  | INTERTAINMENT  | पांडिचेरी  | पंजाब  | छत्तीसगढ़  | केरल  | असम  | चंडीगढ़  | राजस्थान  | हिमाचल प्रदेश  | महाराष्ट्र  | हरियाणा  | जम्मू और कश्मीर  | मणिपुर  | मिजोरम  | आंध्र प्रदेश  | दमन और दीव  | दिल्ली  | मध्य प्रदेश  | तमिलनाडु  | नगालैंड  | लद्दाख  | सिक्किम  | गोवा  | पश्चिम बंगाल  | अंडमान एवं निकोबार  | अरुणाचल प्रदेश  | मेघालय  | कर्नाटक  | झारखंड  | दादरा और नगर हवेली  | नई दिल्ली  | उड़ीसा  | लक्ष्यदीप  | बिहार  | उत्तरांचल  | उत्तर प्रदेश  | गुजरात  | तेलंगाना  | त्रिपुरा  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Design & Development By MakSoft
 
Hit Counter