Thursday 21st of February 2019
खोज

 
livehindustansamachar.com
पंचांग पूरन विवरण  
 Mail to a Friend Print Page   Share This News Rate      
Share This News Save This Listing     Stumble It          
 

  शुभ मुहूर्त में ही लिखे प्रियजनों को स्नेह निमंत्रण पत्र (Mon, Feb 4th 2019 / 09:02:55)

लाइव हिंदुस्तान समाचार
घर-परिवार में मांगलिक अवसर आने पर प्रियजनों को स्नेह निमंत्रण भेजने की परंपरा और संस्कृति है। कहा जाता है कि यह न्योता होता है जिसमें प्रेम का पुट होता है। मगर कम ही लोग जानते हैं कि निमंत्रण पत्र लिखने में शुभ समय का बहुत महत्व है। शुभ प्रसंग मंगलपूर्वक संपन्न हो इसके लिए अलग-अलग अवसरों के निमंत्रण पत्रों को लिखते हुए कुछ बातें ध्यान में रखना जरूरी हैं। आइए देखें कि किस निमंत्रण पत्र को लिखते हुए किस बात को ध्यान में रखना चाहिए।
यहां सुझाई बातों के साथ ध्यान रहे कि चौघड़िया और गणपति का ध्यान करके ही निमंत्रण पत्र लिखना चाहिए। न्योता लिखने से पहले सामर्थ्य अनुसार संकल्प भी लेना चाहिए, कार्य निर्विघ्न संपन्न होने पर संकल्प पूरा भी करना चाहिए।
चंद्रमा की स्थिति पर गौर करें
चंद्रमा मुहूर्त का आधार है इसलिए निमंत्रण पत्र लिखते हुए चंद्रमा बली होना चाहिए। शुक्ल पक्ष की दशमी से लेकर कृष्ण पक्ष की पंचमी तक चंद्रमा पूर्ण बली होता है। यह समय सर्वथाउपयुक्त माना जाता है। शुक्ल पक्ष की एकम से दशमी तक चंद्रमा मध्यम बली और कृष्ण पक्ष की पंचमी से अमावस्या तक बलहीन होता है।
वार और तिथियों का भी है महत्व
बुधवार, गुरुवार और शुक्रवार निमंत्रण पत्र लेखन के लिए श्रेष्ठ हैं। इनमें भी बुधवार को द्वितीया, सप्तमी और द्वादशी हो, गुरुवार को पंचमी, दशमी या पूर्णिमा हो, शुक्रवार को तृतीया, अष्टमी तथा त्रयोदशी आती हो तो उसे अति उत्तम माना जाता है। जिस वार को कार्य प्रारंभ करें उस वार का ग्रह पाप ग्रहों से युत नहीं होना चाहिए, इसका भी ध्यान रखें। नक्षत्र की स्थिति भी देखें यदि चंद्रमा स्वाति, पुनर्वसु, श्रवण, धनिष्ठा, शतभिषा, अश्विनी और हस्त में हो और पंचम भाव शुभ हो तो उसे उचित माना जाता है।
जब पुत्र विवाह का अवसर हो पत्र देने के समय की लग्न कुंडली में सप्तम भाव, द्वितीय स्थान तथा इनके स्वामी और स्त्री कारण शुक्र शुभ प्रभाव में हो, पाप ग्रहों (शनि, राहु, केतु, सूर्य, मंगल) से युति दृष्टि न बने। पुत्री का विवाह हो तो सप्तम भाव, द्वितीय इनके स्वामी और गुरु (स्त्री के लिए गुरु पति होता है) शुभ ग्रहों से युत या दृष्ट हो तब निमंत्रण पत्र लिखे जाना चाहिए।
गृह प्रवेश व पुत्र जन्म का निमंत्रण
चतुर्थ भाव, इसका स्वामी ग्रह और मंगल शुभ प्रभाव में हो तथा बली हो, तब गृह प्रवेश का निमंत्रण लिखना शुभदायी माना जाता है। पंचम भाव, उसके स्वामी और गुरु पाप प्रभाव में न हों। इन बातों को ध्यान में रखिए काम शुभ होगा।

 
 
समान पंचांग-पुराण  
livehindustansamachar.com
     
मंगल का मेष राशि में प्रवेश, 5 फरवरी को होगा राशि परिवर्तन

शीतल कुमार @ उज्जैन
भूमि पुत्र मंगल 5 फरवरी को रात 11.40 बजे मेष राशि में प्रवेश करेंगे। मेष में मंगल के परिभ्रमण की अवधि 48 दिन की रहेगी। यह समय विभिन्न राशि के जातकों के लिए पराक्रम व प्रतिष्ठा में वृद्धि करने वाला रहेगा।
ज्योतिषियों के अनुसार जो लो

और अधिक पढ़ें..

मंगल का मेष राशि में प्रवेश, 5 फरवरी को होगा राशि परिवर्तन

श्रीयंत्र के सामने आराधना, पूरी होगी मनोकामनाएं

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
माघ पूर्णिमा : स्नान, दान और धर्म - कर्म की पूर्णिमा
42 देशों से आए आदिवासियों ने संगम में लगाई आस्था की डुबकी
सोमवती अमावस्या पर सोमतीर्थ कुंड शिप्रा में हजारों श्रद्धालुओ ने किया स्नान
शुभ मुहूर्त में ही लिखे प्रियजनों को स्नेह निमंत्रण पत्र
मंगल का मेष राशि में प्रवेश, 5 फरवरी को होगा राशि परिवर्तन
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  

लाइव हिंदुस्तान समाचार

 
समाचार चैनल  
स्थानीय राजनीति
खेल स्वास्थ्य
Business अपराध
जीवन शैली शिक्षा
String धरोहर [ऐतिहासिक]
प्रदर्शन [ विरोध ] शासन
सम्पादकीय अंतर्राष्ट्रीय
सोशल मीडिया JOB
मनोरंजन न्यायालय
आपदा [ घटना ] अनुसंधान
आलेख [ब्लॉग] सम्मान [ पुरस्कार ]
आयोग [ बोर्ड ] ELECTION-2019
कार्यक्रम टेक्नोलॉजी
संगठन मौसम
परीक्षा [ टेस्ट ] रिपोर्ट [ सर्वे ]
भष्ट्राचार बागवानी [ कृषि ]
कॉन्फ्रेंस [ विज्ञप्ति ] श्रधांजलि
आम बजट-2019 सदन [ संसदीय ]
योजना रिजल्ट [परिणाम]
प्रशासन जनरल नॉलेज
राष्ट्रीय कार्यक्रम
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | सम्मान [ पुरस्कार ]  | String  | सोशल मीडिया  | जनरल नॉलेज  | आलेख [ब्लॉग]  | स्थानीय  | आपदा [ घटना ]  | Business  | योजना  | संगठन  | भष्ट्राचार  | बागवानी [ कृषि ]  | मौसम  | टेक्नोलॉजी  | अंतर्राष्ट्रीय  | स्वास्थ्य  | प्रदर्शन [ विरोध ]  | JOB  | अनुसंधान  | सम्पादकीय  | खेल  | कॉन्फ्रेंस [ विज्ञप्ति ]  | अपराध  | रिपोर्ट [ सर्वे ]  | न्यायालय  | रिजल्ट [परिणाम]  | परीक्षा [ टेस्ट ]  | धरोहर [ऐतिहासिक]  | शासन  | कार्यक्रम  | जीवन शैली  | राजनीति  | आयोग [ बोर्ड ]  | मनोरंजन  | सदन [ संसदीय ]  | ELECTION-2019  | प्रशासन  | शिक्षा  | राष्ट्रीय कार्यक्रम  | आम बजट-2019  | श्रधांजलि  | बिहार  | गुजरात  | नगालैंड  | उत्तर प्रदेश  | त्रिपुरा  | उत्तरांचल  | महाराष्ट्र  | पश्चिम बंगाल  | अरुणाचल प्रदेश  | पंजाब  | गोवा  | मिजोरम  | राजस्थान  | मणिपुर  | अंडमान एवं निकोबार  | मध्य प्रदेश  | तमिलनाडु  | छत्तीसगढ़  | केरल  | हिमाचल प्रदेश  | चंडीगढ़  | हरियाणा  | उड़ीसा  | पांडिचेरी  | दमन और दीव  | आंध्र प्रदेश  | जम्मू और कश्मीर  | सिक्किम  | झारखंड  | कर्नाटक  | तेलंगाना  | असम  | लक्ष्यदीप  | दादरा और नगर हवेली  | दिल्ली  | मेघालय  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Designed & Developed by : livehindustansamachar.com
 
Hit Counter