Tuesday 26th of March 2019
खोज

 
livehindustansamachar.com
पंचांग पूरन विवरण  
 Mail to a Friend Print Page   Share This News Rate      
Share This News Save This Listing     Stumble It          
 

  महाशिवरात्रि : शिव के वैराट्य का उत्सव है महाशिवरात्रि (Mon, Mar 4th 2019 / 23:17:41)

चन्द्रिका प्रसाद तिवारी
शिव यानी कल्याणकारी, शिव अर्थात बाबा भोलेनाथ, शिव मतलब शिवशंकर, शिवशम्भू, शिवजी, नीलकंठ, रूद्र आदि। हिंदू देवी-देवताओं में भगवान शिव शंकर सबसे लोकप्रिय देवता हैं, वे देवों के देव महादेव हैं तो असुरों के राजा भी उनके उपासक रहे। आज भी दुनिया भर में हिंदू धर्म के मानने वालों के लिये भगवान शिव पूज्य हैं।
इनकी लोकप्रियता का कारण है इनकी सरलता। इनकी पूजा आराधना की विधि बहुत सरल मानी जाती है। माना जाता है कि शिव को यदि सच्चे मन से याद कर लिया जाये तो शिव प्रसन्ना हो जाते हैं। उनकी पूजा में भी ज्यादा ताम-झाम की जरूरत नहीं होती। ये केवल जलाभिषेक, बिल्वपत्रों को चढ़ाने और जागरण करने मात्र से मेहरबान हो जाते हैं।
कहते हैं कि महाशिवरात्रि में किसी भी प्रहर अगर भोले बाबा की आराधना की जाए, तो मां पार्वती और भोले त्रिपुरारी दिल खोलकर कर भक्तों की कामनाएं पूरी करते हैं। महाशिवरात्रि हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। यह भगवान शिव के पूजन का सबसे बड़ा पर्व भी है। फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को महाशिवरात्रि पर्व मनाया जाता है। माना जाता है कि सृष्टि के प्रारंभ में इसी दिन मध्यरात्रि को भगवान शंकर का ब्रह्मा से रुद्र के रूप में अवतरण हुआ था।
प्रलय की बेला में इसी दिन प्रदोष के समय भगवान शिव तांडव करते हुए ब्रह्मांड को तीसरे नेत्र की ज्वाला से समाप्त कर देते हैं, इसीलिए इसे महाशिवरात्रि अथवा कालरात्रि कहा गया। विश्वास किया जाता है कि तीनों लोकों की अपार सुंदरी तथा शीलवती गौरी को अर्धांगिनी बनाने वाले शिव प्रेतों और पिशाचों से घिरे रहते हैं।
उनका रूप बड़ा अजीब है। शरीर पर मसानों की भस्म, गले में सर्पों का हार, कंठ में विष, जटाओं में जगत-तारिणी पावन गंगा तथा माथे में प्रलयंकार ज्वाला उनकी पहचान है। बैल को वाहन के रूप में स्वीकार करने वाले शिव अमंगल रूप होने पर भी भक्तों का मंगल करते हैं और श्री-संपत्ति प्रदान करते हैं। यह दिन जीव मात्र के लिए महान उपलब्धि प्राप्त करने का दिन भी है।
शिव की महत्ता को 'शिवसागर' में और विस्तृत रूप में देखा जा सकता है। शिवसागर में बताया गया है कि विविध शक्तियां, विष्णु व ब्रह्मा, जिसके कारण देवी और देवता के रूप में विराजमान हैं, जिसके कारण जगत का अस्तित्व है, जो यंत्र हैं, मंत्र हैं, ऐसे तंत्र के रूप में विराजमान भगवान शिव को नमस्कार है।
पौराणिक कथा है कि एक बार पार्वतीजी ने भगवान शिवशंकर से पूछा, 'ऐसा कौन-सा श्रेष्ठ तथा सरल व्रत-पूजन है, जिससे मृत्युलोक के प्राणी आपकी कृपा सहज ही प्राप्त कर लेते हैं?' उत्तर में शिवजी ने पार्वती को 'शिवरात्रि' के व्रत का उपाय बताया। चतुर्दशी तिथि के स्वामी शिव हैं।
अत: ज्योतिष शास्त्रों में इसे परम शुभफलदायी कहा गया है। वैसे तो शिवरात्रि हर महीने में आती है। परंतु फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को ही महाशिवरात्रि कहा गया है। ज्योतिषीय गणना के अनुसार सूर्य देव भी इस समय तक उत्तरायण में आ चुके होते हैं तथा ऋतु परिवर्तन का यह समय अत्यन्त शुभ कहा गया है।
ज्योतिषीय गणित के अनुसार चतुर्दशी तिथि को चंद्रमा अपनी क्षीणस्थ अवस्था में पहुंच जाते हैं, जिस कारण बलहीन चंद्रमा सृष्टि को ऊर्जा देने में असमर्थ हो जाते हैं। चंद्रमा का सीधा संबंध मन से कहा गया है. अब मन कमजोर होने पर भौतिक संताप प्राणी को घेर लेते हैं तथा विषाद की स्थिति उत्पन्ना होती है, जिससे कष्टों का सामना करना पड़ता है. चंद्रमा शिव के मस्तक पर सुशोभित है। इसलिए चंद्रदेव की कृपा प्राप्त करने के लिए भगवान शिव का आश्रय लिया जाता है।
एक कथा यह भी है कि महाशिवरात्रि शिव की प्रिय तिथि है, इसलिए प्राय: ज्योतिषी शिवरात्रि को शिव अराधना कर कष्टों से मुक्ति पाने का सुझाव देते हैं। शिव आदि-अनादि है। सृष्टि के विनाश और पुन:स्थापन के बीच की कड़ी हैं। ज्योतिष में शिव को सुखों का आधार मान कर महाशिवरात्रि पर अनेक प्रकार के अनुष्ठान करने की महत्ता कही गई है।
शिवरात्रि से जुड़ी कथाएं
महाशिवरात्रि के विषय में भिन्न-भिन्न मत हैं, कुछ मान्यताओँ के अनुसार आज के ही दिन शिवजी और माता पार्वती विवाह-सूत्र में बंधे थे जबकि अन्य कुछ मतों के अनुसार आज के ही दिन शिवजी ने 'कालकूट" नाम का विष पिया था जो सागरमंथन के समय समुद्र से निकला था ।
एक शिकारी की कथा भी इस त्यौहार के साथ जुड़ी हुई है कि कैसे उसके अनजाने में की गई पूजा से प्रसन्ना होकर भगवान शिव ने उस पर अपनी असीम कृपा की थी। यह कथा शिव पुराण में भी संकलित है।
कथा के अनुसार प्राचीन काल में, किसी जंगल में एक गुरुद्रुह नाम का एक शिकारी रहता था जो जंगली जानवरों का शिकार करता तथा अपने परिवार का भरण-पोषण किया करता था। एक बार शिवरात्रि के दिन जब वह शिकार के लिए निकला, पर संयोगवश पूरे दिन खोजने के बाद भी उसे कोई शिकार न मिला, उसके बच्चों, पत्नी एवं माता-पिता को भूखा रहना पड़ेगा।
इस बात से वह चिंतित हो गया, सूर्यास्त होने पर वह एक जलाशय के समीप गया और वहां एक घाट के किनारे एक पेड़ पर थोड़ा सा जल पीने के लिए लेकर, चढ़ गया क्योंकि उसे पूरी उम्मीद थी कि कोई न कोई जानवर अपनी प्यास बुझाने के लिए यहां जरूर आएगा।वह पेड़ बेलपत्र का था और उसी पेड़ के नीचे शिवलिंग भी था जो सूखे बेलपत्रों से ढंके होने के कारण दिखाई नहीं दे रहा था।
रात का पहला प्रहर बीतने से पहले एक हिरणी वहां पर पानी पीने के लिए आई। उसे देखते ही शिकारी ने अपने धनुष पर बाण साधा । ऐसा करने में, उसके हाथ के धक्के से कुछ पत्ते एवं जल की कुछ बूंदे नीचे बने शिवलिंग पर गिरीं और अनजाने में ही शिकारी की पहले प्रहर की पूजा हो गयी। हिरणी ने जब पत्तों की खड़खड़ाहट सुनी, तो घबरा कर ऊपर की ओर देखा और भयभीत हो कर, शिकारी से, कांपते हुए स्वर में बोली- 'मुझे मत मारो" शिकारी ने कहा कि वह और उसका परिवार भूखा है इसलिए वह उसे नहीं छोड़ सकता। हिरणी ने वादा किया कि वह अपने बच्चों को अपने स्वामी को सौंप कर लौट आयेगी। तब वह उसका शिकार कर ले। शिकारी को उसकी बात का विश्वास नहीं हो रहा था।उसने फिर से शिकारी को यह कहते हुए अपनी बात का भरोसा करवाया कि जैसे सत्य पर ही धरती टिकी है, समुद्र मर्यादा में रहता है और झरनों से जलधाराएं गिरा करती हैं वैसे ही वह भी सत्य बोल रही है। क्रूर होने के बावजूद शिकारी को उस पर दया आ गयी और उसने 'जल्दी लौटना" कहकर उस हिरनी को जाने दिया।
थोड़ी ही देर बाद एक और हिरनी वहां पानी पीने आई, शिकारी सावधान हो गया, तीर सांधने लगा और ऐसा करते हुए, उसके हाथ के धक्के से फिर पहले की ही तरह थोडा जल और कुछ बेल पत्र नीचे शिवलिंग पर जा गिरे और अनायास ही शिकारी की दूसरे प्रहर की पूजा भी हो गयी। इस हिरनी ने भी भयभीत हो कर, शिकारी से जीवनदान की याचना की लेकिन उसके अस्वीकार कर देने पर, हिरनी ने उसे लौट आने का वचन, यह कहते हुए दिया कि उसे ज्ञात है कि जो वचन दे कर पलट जाता है, उसका अपने जीवन में संचित पुण्य नष्ट हो जाया करता है। उस शिकारी ने पहले की तरह, इस हिरनी के वचन का भी भरोसा कर उसे जाने दिया।
अब तो वह इसी चिंता से व्याकुल हो रहा था कि उन में से शायद ही कोई हिरनी लौट के आये और अब उसके परिवार का क्या होगा? इतने में ही उसने जल की ओर आते हुए एक हिरण को देखा, उसे देखकर शिकारी बड़ा प्रसन्ना हुआ, अब फिर धनुष पर बाण चढ़ाने से उसकी तीसरे प्रहर की पूजा भी स्वत: ही संपन्ना हो गयी लेकिन पत्तों के गिरने की आवाज से वह हिरन सावधान हो गया। उसने शिकारी को देखा और पूछा 'तुम क्या करना चाहते हो?"
वह बोला -अपने कुटुंब को भोजन देने के लिए तुम्हारा वध करूंगा।" वह मृग प्रसन्ना हो कर कहने लगा 'मैं धन्य हूं कि मेरा यह शरीर किसी के काम आएगा, परोपकार से मेरा जीवन सफल हो जायेगा पर कृपया कर अभी मुझे जाने दो ताकि मैं अपने बच्चों को उनकी माता के हाथ में सौंप कर और उन सबको धीरज बंधा कर यहां लौट आऊं।" शिकारी का ह्रदय, उसके पापपुंज नष्ट हो जाने से अब तक शुद्ध हो गया था इसलिए वह विनयपूर्वक बोला। जो-जो यहां आए,सभी बातें बनाकर चले गये और अभी तक नहीं लौटे, यदि तुम भी झूठ बोलकर चले जाओगे, तो मेरे परिजनों का क्या होगा?
अब हिरन ने यह कहते हुए उसे अपने सत्य बोलने का भरोसा दिलवाया कि यदि वह लौटकर न आये, तो उसे वह पाप लगे जो उसे लगा करता है जो सामर्थ्य रहते हुए भी दूसरे का उपकार नहीं करता। शिकारी ने उसे भी यह कहकर जाने दिया कि 'शीघ्र लौट आना।"
रात्रि का अंतिम प्रहर शुरू होते ही उस शिकारी के हर्ष की सीमा न थी क्योंकि उसने उन सब हिरन-हिरनियों को अपने बच्चों सहित एकसाथ आते देख लिया था। उन्हें देखते ही उसने अपने धनुष पर बाण रखा और पहले की ही तरह उसकी चौथे प्रहर की भी शिवपूजा संपन्ना हो गयी। अब उस शिकारी के शिव कृपा से सभी पाप भस्म हो गए इसलिए वह सोचने लगा 'ओह, ये पशु धन्य हैं जो ज्ञानहीन हो कर भी अपने शरीर से परोपकार करना चाहते हैं लेकिन धिक्कार है मेरे जीवन को कि मैं अनेक प्रकार के कुकृत्यों से अपने परिवार का पालन करता रहा।" अब उसने अपना बाण रोक लिया तथा मृगों से कहा कि वे सब धन्य है तथा उन्हें वापिस जाने दिया। उसके ऐसा करने पर भगवान शंकर ने प्रसन्ना हो कर तत्काल उसे अपने दिव्य स्वरूप का दर्शन करवाया तथा उसे सुख-समृद्धि का वरदान देकर 'गुह" नाम प्रदान किया। जो आगे चलकर राम के मित्र बने।
शिव और शक्ति का सम्मिलित स्वरूप हमारी संस्कृति के विभिन्ना आयामों का प्रदर्शक है। हमारे अधिकांश पर्व शिवपार्वती को समर्पित हैं। शिव औघड़दानी हैं और दूसरों पर सहज कृपा करना उनका सहज स्वभाव है। 'शिव' शब्द का अर्थ है 'कल्याण करने वाला"। शिव ही शंकर हैं। शिव के 'शं' का अर्थ है कल्याण और 'कर' का अर्थ है करने वाला। शिव, अद्वैत, कल्याण- ये सारे शब्द एक ही अर्थ के बोधक हैं। शिव ही ब्रह्मा हैं, ब्रह्मा ही शिव हैं, ब्रह्मा जगत के जन्मादि के कारण हैं।
सृष्टि से तमोगुण तक के संहारक सदाशिव की आराधना से लौकिक और पारलौकिक दोनों फलों की उपलब्धता संभव है। तमोगुण की अधिकता दिन की तुलना में रात्रि में अधिक होने से भगवान शिव ने अपने लिंग के प्रादुर्भाव के लिए मध्यरात्रि को स्वीकार किया। यह रात्रि फाल्गुन कृष्ण में उनकी प्रिय तिथि चतुर्दशी में निहित है। वर्ष की तीन प्रमुख रात्रि में शिवरात्रि एक है। इस दिन व्रत करके रात्रि में पांच बार शिवजी के दर्शन-पूजन-वंदन से व्यक्ति अपने समस्त फल को सुगमता से पा सकता है।

 
livehindustansamachar.com
 
समान पंचांग-पुराण  
livehindustansamachar.com
     
स्फटिक शिवलिंग की पूजा से धन और सोने के शिवलिंग से मिलता है ऐश्वर्य

चन्द्रिका प्रसाद तिवारी
शिव आदि है अनादि है। अजन्मे है और साकार और निरंकार दोनों स्वरुपों में विद्यमान है। ब्रह्मांड में देव, मानव, यक्ष, किन्नर, दानव, राक्षस, गंधर्व सभी उनकी आराधना कर सुख और सफलता की कामना करते हैं। शिवपूजा में श

और अधिक पढ़ें..

स्फटिक शिवलिंग की पूजा से धन और सोने के शिवलिंग से मिलता है ऐश्वर्य

भगवान परशुराम शिव और विष्णु के संयुक्त अवतार

माघ पूर्णिमा : स्नान, दान और धर्म - कर्म की पूर्णिमा

सोमवती अमावस्या पर सोमतीर्थ कुंड शिप्रा में हजारों श्रद्धालुओ ने किया स्नान

प्रेम के महीने फरवरी में हिंदुओं के सबसे ज्यादा व्रत और त्यौहार

4 हजार वर्गफीट में संगमरमर से बन रहा भव्य मंदिर, 15 मूर्तियां होंगी स्थापित

मंत्री ने कहा जल्दी पूजा करवायें, ताकि आम जनता को असुविधा न हो

प्रभारी मंत्री ने गर्भगृह के बाहर से किये भगवान महाकालेश्वर के दर्शन

तिल चतुर्थी का उल्लास, मंदिरों में श्रद्धालुओं का उमड़ा सैलाब

छतरपुर में अनोखा है मां अंजनी और पवनपुत्र का मंदिर

मेहरम के बिना हज पर जाएंगी 2340 महिलाएं, मिलेंगी विशेष सुविधाएं

Lohri 2019 : लो आ गई लोहिड़ी, जानें इस पर्व का महत्व और इतिहास

ब्रह्मा, विष्णु, महेश के संयुक्त अवतार हैं दत्तात्रेय

कार्तिक पूर्णिमा के पर्व पर श्रद्धालुओं ने किया स्नान-दान,मेले का हुआ आयोजन

खडग पुस्तक हुई बंद, मंगलवार को बंद होंगे बदरीनाथ के कपाट

राम की नगरी अयोध्या में ऐतिहासिक होगी 24 घंटे में 14 कोसी परिक्रमा

पौराणिक मान्यताओं के आधार पर महापर्व छठ की महत्ता

देवभूमि में ताकत से नहीं सिर्फ एक उंगली से हिलती है विशाल चट्‌टान

सबरीमला में कवरेज के लिए न आएं युवा महिला पत्रकार :हिंदू संगठन

साई बाबा ट्रस्ट के शताब्दी समारोह में मिलेगी चांदी के सिक्कों की सौगात

500 सालों से रहस्यमय है बीहड़ के मंदिर में हनुमान जी की जीवित मूर्ति

संगम तट पर लेटे हनुमान को मां गंगा ने कराया स्नान

धार्मिक ही नहीं, सांस्कृतिक भी है गणेश उत्सव

नज़र नहीं आया चांद, अब बुधवार को होगी मोहर्रम की पहली तारीख

चित्रकूट भदई अमावस्या मे उमड़ा श्र्धालुओ का जन सैलाब

कैलाश मानसरोवर यात्रा पर राहुल गाँधी , नेपाल में खाने को लेकर विवाद

श्रीराम आश्रम पर धूमधाम से मनाई जा रही श्रीकृष्ण जन्माष्टमी

अध्यात्म में रंगों की भूमिका और उनका महत्व !

अमरनाथ यात्रा : 137 श्रद्धालुओं का अंतिम जत्था रवाना

श्रद्धालुओं की संख्या हुई कम, अमरनाथ यात्रा स्थगित

श्रावण मास : जलाभिषेक के साथ ''बोल-बम'' बोल से शिवालय गुंजायमान

रामेश्वर ही नहीं नर्मदा तट भी किया था श्रीराम ने शिवलिंग का निर्माण

राठ मे गुरू पूर्णमा के दिन मां श्यामला देवी मंदिर मे उमड़ी भीड़

संगमनगरी इलाहाबाद में अमित शाह ने लेटे हनुमान जी के दर्शन कर किया पूजन

गुरु पूर्णिमा के अवसर पर आश्रमों में उमड़ेगा आस्था का सैलाब

हर-हर ,बम-बम महादेव के जयघोष से गुंजायमान चंदौली

अमरनाथ यात्रा की अवधि अगले वर्ष हो सकती है कम

18 साल बाद होगा अद्भुत संयोग, गुरुपूर्णिमा और चंद्रग्रहण एक साथ

कुंभ 2019 : दिव्य व भव्य बनाने प्राशासन ने 30 गांवों से मागा सहयोग

भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा में शामिल हुए शाह-रूपाणी

अमरनाथ यात्रा के लिये 4,956 श्रद्धालुओं का जत्था रवाना

तिरुपति मंदिर में श्रद्धालु ने दिया एक करोड़ का दान

महाकाल मंदिर : नायब तहसीलदार संभालेंगे दर्शन, भस्मारती व्यवस्था

महाकाल के आंगन में दलाली का खेल, भस्मारती के नाम पर लूट

वैष्णो देवी का बैटरी कार मार्ग श्रद्धालुओं के लिए बंद

धर्म - कर्म को समझने की शक्ति देती है भागवत कथा

गंगा घाट पर श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी

शनि जयंती के साथ अमावस्या का शुभ संयोग

महालक्ष्मी कमलासन पर हो विराजमान करे पूजा , होगी ऋण मुक्ति

15 कुंडों में कंडों की अग्नि प्रज्वलित कर संत की अग्नि तपस्या

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
महाशिवरात्रि : पुलिस ने रोका रास्ता, किन्नर अखाड़ा ने नहीं किया अमरत्व स्नान
स्फटिक शिवलिंग की पूजा से धन और सोने के शिवलिंग से मिलता है ऐश्वर्य
महाशिवरात्रि : शिव के वैराट्य का उत्सव है महाशिवरात्रि
कुंभ 2019 : महाशिवरात्रि पर त्रिवेणी में स्नान के लिए उमड़े श्रद्धालु, मंदिरों में जुटे भक्त
पीएम ने संगम में लगाई डुबकी, सफाई और सुरक्षा कर्मियों को किया सम्मानित
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  

लाइव हिंदुस्तान समाचार

 
समाचार चैनल  
स्थानीय राजनीति
खेल स्वास्थ्य
Business अपराध
जीवन शैली शिक्षा
String धरोहर [ऐतिहासिक]
प्रदर्शन [ विरोध ] शासन
सम्पादकीय अंतर्राष्ट्रीय
सोशल मीडिया JOB
मनोरंजन न्यायालय
आपदा [ घटना ] अनुसंधान
आलेख [ब्लॉग] सम्मान [ पुरस्कार ]
आयोग [ बोर्ड ] ELECTION-2019
कार्यक्रम टेक्नोलॉजी
संगठन मौसम
परीक्षा [ टेस्ट ] रिपोर्ट [ सर्वे ]
भष्ट्राचार बागवानी [ कृषि ]
कॉन्फ्रेंस [ विज्ञप्ति ] श्रधांजलि
आम बजट-2019 सदन [ संसदीय ]
योजना रिजल्ट [परिणाम]
प्रशासन जनरल नॉलेज
होली [स्पेशल ]
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | श्रधांजलि  | सदन [ संसदीय ]  | प्रदर्शन [ विरोध ]  | अंतर्राष्ट्रीय  | जनरल नॉलेज  | स्वास्थ्य  | धरोहर [ऐतिहासिक]  | भष्ट्राचार  | रिजल्ट [परिणाम]  | सम्पादकीय  | रिपोर्ट [ सर्वे ]  | अपराध  | बागवानी [ कृषि ]  | मौसम  | आपदा [ घटना ]  | आयोग [ बोर्ड ]  | आलेख [ब्लॉग]  | Business  | सोशल मीडिया  | संगठन  | परीक्षा [ टेस्ट ]  | योजना  | न्यायालय  | शासन  | अनुसंधान  | जीवन शैली  | होली [स्पेशल ]  | JOB  | कॉन्फ्रेंस [ विज्ञप्ति ]  | शिक्षा  | आम बजट-2019  | सम्मान [ पुरस्कार ]  | टेक्नोलॉजी  | String  | प्रशासन  | स्थानीय  | राजनीति  | मनोरंजन  | कार्यक्रम  | ELECTION-2019  | खेल  | हिमाचल प्रदेश  | गोवा  | राजस्थान  | हरियाणा  | मणिपुर  | दादरा और नगर हवेली  | मध्य प्रदेश  | छत्तीसगढ़  | दमन और दीव  | सिक्किम  | उत्तरांचल  | अंडमान एवं निकोबार  | तमिलनाडु  | मेघालय  | आंध्र प्रदेश  | कर्नाटक  | नगालैंड  | तेलंगाना  | मिजोरम  | उड़ीसा  | पंजाब  | पांडिचेरी  | लक्ष्यदीप  | महाराष्ट्र  | पश्चिम बंगाल  | झारखंड  | चंडीगढ़  | दिल्ली  | जम्मू और कश्मीर  | असम  | केरल  | त्रिपुरा  | गुजरात  | बिहार  | उत्तर प्रदेश  | अरुणाचल प्रदेश  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Designed & Developed by : livehindustansamachar.com
 
Hit Counter