Friday 19th of July 2019
खोज

 
livehindustansamachar.com
पंचांग पूरन विवरण  
 Mail to a Friend Print Page   Share This News Rate      
Share This News Save This Listing     Stumble It          
 

  मनुष्य और अन्य जानवरों के बीच वास्तविक अंतर व्यक्तिगत स्तर पर नहीं (Fri, Jul 5th 2019 / 08:06:28)

लाइव हिंदुस्तान समाचार
लाखों साल पहले हमारे पुरखे मामूली जानवर थे। प्रागैतिहासिक इंसानों के बारे में सबसे महत्वपूर्ण बात हम यही जानते हैं कि वे जरा भी महत्वपूर्ण नहीं थे। धरती में उनकी हैसियत एक जैली फिश या जुगनू या कठफोड़वे से ज्यादा नहीं थी। इसके विपरीत, आज हम इस ग्रह पर राज करते हैं। सवाल उठता है: वहां से यहां तक हम कैसे पहुंच गए?
मनुष्य और अन्य सभी जानवरों के बीच वास्तविक अंतर व्यक्तिगत स्तर पर नहीं होता; दरअसल यह अंतर सामूहिक स्तर पर होता है, इंसान पृथ्वी पर इसलिए राज कर पाते हैं, क्योंकि वे अकेले ऐसे जानवर हैं, जो बड़े लचीलेपन से और बहुत बड़ी संख्या में सहयोगपूर्ण व्यवहार कर पाने में सक्षम हैं।
हां, कुछ और जीव भी हैं - जैसे सामाजिक कीट, मधुमक्खियां, चीटियां - ये भी बहुत बड़ी संख्या में सहयोगपूर्ण व्यवहार करते हैं, लेकिन उनके सहयोग में लचीलापन नहीं होता। वे अत्यंत अनम्य तरीके से सहयोग करती हैं। हर कोई ईश्वर पर विश्वास नहीं करता। न ही हर आदमी मानवाधिकारों पर विश्वास करता है। राष्ट्रवाद पर भी हर किसी को यकीन नहीं। लेकिन नोटों की शक्ल में पैसे पर हर कोई यकीन करता है। हम मनुष्य धरती पर इसलिए राज कर पाते हैं, क्योंकि हम दोहरी वास्तविकता में जीते हैं।
शेष सभी जीव वस्तुगत यथार्थ में जीते हैं। उनके यथार्थ में वस्तुगत चीजें शामिल हैं, जैसे- नदी, पेड़, शेर और हाथी। हम इंसान भी वस्तुगत यथार्थ में जीते हैं। हमारी दुनिया में भी नदियां हैं, पेड़ हैं और शेर-हाथी वगैरह हैं। लेकिन सदियों से हमने अपने वस्तुगत यथार्थ के ऊपर मनोगत यथार्थ की एक और परत चढ़ा दी है।
यह यथार्थ कल्पना से उपजी चीजों से बना है, जैसे- राष्ट्र, ईश्वर, पैसा और कॉरपोरेशन। हैरानी की बात है कि जैसे-जैसे इतिहास आगे बढ़ा, मनोगत यथार्थ और मजबूत होता चला गया। आज दुनिया की सबसे बड़ी शक्तियों में यही काल्पनिक वस्तुएं हमारे सामने हैं।

 
livehindustansamachar.com
 
समान पंचांग-पुराण  
livehindustansamachar.com
     
वास्तव में ईश्वर की मूर्ति प्रेम है, जिसका केवल अनुभव किया जा सकता है !

लाइव हिंदुस्तान समाचार
वास्तव में ईश्वर की मूर्ति प्रेम है, पर वह अनिर्वचनीय, परमानंदमय होने के कारण लिखने वा कहने में नहीं आ सकता, केवल अनुभव का विषय है। अत: उसके वर्णन का अधिकार हमको क्या, किसी को भी नहीं है। कह सकते हैं तो इतना ही कह सकते ह

और अधिक पढ़ें..

वास्तव में ईश्वर की मूर्ति प्रेम है, जिसका केवल अनुभव किया जा सकता है !

सिर्फ कहने से कोई सन्यासी या फकीर नहीं हो जाता

.......तो गौतम बुद्ध ने बताया भूख और उपदेश में संबंध !

धर्म-आस्था व पौराणिक मान्यताओं का महापर्व है दीपावली

आधिभौतिक वैज्ञानिकों की उपेक्षा का शिकार है अध्यात्म का वास्तविक ज्ञान

भगवान बहुत देता है, लेकिन हम झोली छोटी कर देते हैं

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह में रात के समय 5 स्थानों पर हो सकेगी इबादत
गुरु पूर्णिमा : गुरु पूर्णिमा ज्ञान के स्रोत के प्रति कृतज्ञता का उत्सव
योग निंद्रा में जाएंगे भगवान विष्णु, चार माह नहीं होंगे मांगलिक कार्य
झलोखर की मां भुवनेश्वरी माता मंदिर मे लगी श्रद्धालुओं की भीड़
वास्तव में ईश्वर की मूर्ति प्रेम है, जिसका केवल अनुभव किया जा सकता है !
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  

दिल्ली की अनधिकृत कॉलोनियां होंगी वैध, 60 लाख की को होगा फायदा

केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग कर रहा केंद्र लेकिन झुकेंगे नहीं : बसपा सुप्रीमो मायावती

कर्नाटक : बागी विधायकों पर सुप्रीम कोर्ट कल सुबह साढ़े 10 बजे सुनाएगा फैसला

मध्य प्रदेश: सड़क हादसे में कांग्रेस नेता पद्मश्री प्रह्लाद टिपानिया घायल, एक की मौत

यूपी: किन्नर ने युवक को बेहोश कर निजी अंग काटा, अस्पताल में भर्ती

महाराष्ट्र : परभणी जिले में सांप्रदायिक झड़प, 400 के खिलाफ मामला दर्ज, सात गिरफ्तार

 
समाचार चैनल  
LOCAL NEWS POLITICS
SPORTS स्वास्थ्य
BUSINESS CRIME
जीवन शैली शिक्षा
String धरोहर
प्रदर्शन शासन
EDITORIAL अंतर्राष्ट्रीय
SOCIAL MEDIA JOB
INTERTAINMENT न्यायालय
घटना अनुसंधान
ARTICLE पुरस्कार
आयोग ELECTION
कार्यक्रम TECHNOLOGY
संगठन मौसम
रिपोर्ट भष्ट्राचार
कृषि कॉन्फ्रेंस
श्रधांजलि सदन
योजना प्रशासन
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | पुरस्कार  | स्वास्थ्य  | POLITICS  | सदन  |  SOCIAL MEDIA  |  LOCAL NEWS  | String  | INTERTAINMENT  | कॉन्फ्रेंस  | प्रशासन  |  TECHNOLOGY  | अनुसंधान  | शासन  | कार्यक्रम  | धरोहर  |  कृषि  | योजना  | आयोग  | JOB  | संगठन  |  BUSINESS  | ELECTION  | भष्ट्राचार  | न्यायालय  | घटना  | अंतर्राष्ट्रीय  | मौसम  | प्रदर्शन  |  EDITORIAL  | शिक्षा  |  SPORTS  | ARTICLE  | जीवन शैली  | CRIME  | रिपोर्ट  | श्रधांजलि  | दादरा और नगर हवेली  | दिल्ली  | जम्मू और कश्मीर  | महाराष्ट्र  | छत्तीसगढ़  | मध्य प्रदेश  | चंडीगढ़  | मेघालय  | सिक्किम  | कर्नाटक  | झारखंड  | मिजोरम  | उत्तर प्रदेश  | गुजरात  | तेलंगाना  | पांडिचेरी  | असम  | आंध्र प्रदेश  | पश्चिम बंगाल  | केरल  | बिहार  | लक्ष्यदीप  | तमिलनाडु  | अरुणाचल प्रदेश  | हरियाणा  | उड़ीसा  | गोवा  | उत्तरांचल  | दमन और दीव  | राजस्थान  | अंडमान एवं निकोबार  | मणिपुर  | नगालैंड  | हिमाचल प्रदेश  | त्रिपुरा  | पंजाब  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Design & Development By MakSoft
 
Hit Counter