Friday 7th of August 2020
खोज

 
livehindustansamachar.com
पंचांग पूरन विवरण  
 Mail to a Friend Print Page   Share This News Rate      
Share This News Save This Listing     Stumble It          
 

  Nirjala Ekadashi : सभी व्रत, उपवासों में निर्जला एकादशी सर्वश्रेष्ठ (Mon, Jun 1st 2020 / 17:49:28)

चन्द्रिका प्रसाद तिवारी
हिंदू पंचांग के अनुसार साल में 24 एकादशियां आती हैं, लेकिन जिस साल अधिकमास हो तब इनकी संख्या बढ़कर 26 हो जाती है। एकादशी तिथि उपवास रखकर भगवान विष्णु के पूजन का दिन है। मान्यता है कि इस दिन व्रत रखने, पूजा और दान करने से सुख-समृद्धि का भोग करते हुए अंत समय में मोक्ष को प्राप्ति होती है। सभी एकादशियों में एक एकादशी ऐसी भी है जिसमें व्रत रखकर साल भर की एकादशियों जितना पुण्य प्राप्त कमाया जा सकता है। यह है ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि। इसको निर्जला एकादशी कहते हैं।
निर्जला एकादशी की कथा
पौराणिक कथाओं के अनुसार महाभारत में निर्जला एकादशी की कथा मिलती है। कथानुसार पांचों पांडवों को धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष प्राप्ति के लिए महर्षि वेदव्यास ने एकादशी व्रत का संकल्प करवाया था। उस समय माता कुंती और द्रौपदी सहित सभी एकादशी का व्रत रखते लेकिन भीम को काफी मुश्किल थी, जो कि गदा चलाने और भोजन करने के मामले में काफी प्रसिद्ध थे। उन्हें भूख बहुत ज्यादा लगती थी। उनके लिये महीने में दो दिन उपवास करना बहुत कठिन काम था। जब पूरे परिवार का उन पर व्रत करने के लिये दबाव पड़ने लगा तो वे इसका उपाय ढूंढने लगे कि उनको भूखा भी न रहना पड़े और उपवास का पुण्य भी उनको मिल जाए।
अपने उदर पर आए इस संकट का समाधान भी उन्होंने महर्षि वेदव्यास से ही जाना। भीम ने उनसे पूछा की हे पितामह मेरे परिवार के सभी सदस्य एकादशी का व्रत रखते हैं और मुझ पर भी इसके लिए दबाव बनाते हैं। मैं धर्म-कर्म, पूजा-पाठ, दानादि कर सकता हूं लेकिन उपवास रखना मेरे सामर्थ्य में नहीं हैं। तब व्यास जी ने कहा, भीम यदि तुम स्वर्ग और नरक में विश्वास रखते हो तो तुम्हारे लिए भी यह व्रत करना आवश्यक है। इस पर भीम की चिंता और ज्यादा बढ़ गई, उसने व्यास जी कहा, हे महर्षि कोई ऐसा उपवास बताने की कृपा करें जिसको साल में एक बार रखने पर ही मोक्ष की प्राप्ति हो जाए।
इस पर महर्षि वेदव्यास ने गदाधारी भीम को बताया कि हे वत्स यह उपवास है तो बड़ा ही कठिन लेकिन इसको रखने से तुम्हें सभी एकादशियों के उपवास का फल प्राप्त हो जाएगा। उन्होंने बताया कि इस उपवास के पुण्य के बारे में स्वयं भगवान श्री कृष्ण ने मुझे बताया है। तुम ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी का उपवास करो। इसमें आचमन और स्नान के अलावा जल भी ग्रहण नहीं किया जाता है।
इस निर्जला एकादशी की तिथि पर निर्जला उपवास रखकर भगवान श्रीकृष्ण यानी श्री हरि की पूजा करना और अगले दिन स्नानादि से निवृत्त होकर ब्राह्मण को दान-दक्षिणा देकर, भोजन करवाकर फिर स्वयं भोजन करना । इस प्रकार तुम्हें केवल एक दिन के उपवास से ही साल भर के उपवासों जितना पुण्य प्राप्त हो जाएगा। महर्षि वेदव्यास के कहने पर भीम ने यही उपवास रखा और मोक्ष की प्राप्ति की।
भीम द्वारा उपवास रखे जाने की वजह से ही निर्जला एकादशी को भीमसेन एकादशी और चूंकि पांडवों ने भी इस दिन का उपवास रखा तो इस वजह से इसे पांडव एकादशी भी कहा जाता है। इन नामों से भी यह प्रसिद्ध है।
निर्जला एकादशी पूजा विधि
सभी व्रत, उपवासों में निर्जला एकादशी को सर्वश्रेष्ठ माना जाता है इसलिये भक्तिभाव के साथ इस व्रत को करना चाहिए। व्रत करने से पहले भगवान श्रीहरी से प्रार्थना करनी चाहिए कि हे प्रभु आपकी दया दृष्टि मुझ पर बनी रहे, मेरे समस्त पाप नष्ट हों जाएं। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा करना चाहिए। एकादशी के सूर्योदय से लेकर द्वादशी के सूर्योदय तक अन्न और जल का त्याग करना चाहिए। अन्न्, वस्त्र, जूती आदि का अपनी क्षमता के अनुसार दान करना जाहिए। जल से भरे घड़े को भी वस्त्र से ढककर इस तिथि को दान करने का प्रावधान है और साथ में क्षमतानुसार सोना भी दान किया जाता है। ब्राह्मणों अथवा किसी गरीब और जरुरतमंद को मिठाई और दक्षिणा भी देनी चाहिए।
'ॐ नमो भगवते वासुदेवाय' मंत्र का उच्चारण इस तिथि को करना चाहिए। साथ ही निर्जला एकादशी की कथा भी पढ़नी या सुननी चाहिए। द्वादशी के सूर्योदय के पश्चात विधिपूर्वक ब्राह्मण को भोजन करवाकर तत्पश्चात अन्नाऔर जल ग्रहण करना चाहिए।

 
livehindustansamachar.com
 
समान पंचांग-पुराण  
livehindustansamachar.com
     
आमलकी एकादशी : व्रत से मिलता है सुख और होती है मोक्ष की प्राप्ति
लाइव हिंदुस्तान समाचार
वैदिक संस्कृति के प्रमुख उपवास में एकादशी का व्रत माना जाता है। एकादशी के व्रत का पुराणों में बहुत महत्व बताया गया है। शास्त्रोक्त मान्यता है कि इस व्रत के करने के पापों का नाश होता है और इहलोक में सभी सुखों को भोगने के बाद परलोक में ë
और अधिक पढ़ें..

आमलकी एकादशी : व्रत से मिलता है सुख और होती है मोक्ष की प्राप्ति

नवरात्रि में नौ कन्या का महत्व : नवरात्रि में कन्या और देवी पूजन एक समान

Chaitra Navratri : अष्टमी-नवमी तिथि और जानें पूजा-पारण का शुभ मुहूर्त

आठ दिन की होगी चैत्र नवरात्रि, महाअष्टमी एवं महानवमी का पूजन एक ही दिन

Chaitra Navratri 2019ः घटस्थापना के शुभ मुहूर्त, जानिए कब है श्रेष्ठ समय

सौभाग्य और लंबी आयु देता है यह व्रत, संकष्टी चतुर्थी व्रत की विधि एवं कथा

गायत्री मंत्र के 24 अक्षरों में 24 देवता, मंत्र जाप से मिलती है सिद्धियां !

छठ महापर्व :डूबते सूर्य को दिया जाएगा अर्घ्य, 36 घंटे का निर्जला उपवास

राशि के अनुसार दीपावली में महालक्ष्मी पूजन का शुभ मुहूर्त

पति की दीर्घायु और स्वस्थ रहने के लिए सुहागिन स्त्री करती है करवा चौथ का ब्रत

नवरात्र : शक्ति स्वरूपा देवी की आराधना का महापर्व

माता पार्वती ने भगवान शिव के लिए रखा था हरतालिका तीज का व्रत

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 2018 : व्रत और पूजा का शुभ मुहूर्त

बरुथनी एकादशी व्रत : करोड़ों सालों की तपस्या का देता है फल

अंगारकी चतुर्थी व्रत से मिलती है मंगल और सिद्धि

यमघट योग, हस्त नक्षत्र में मनाई जाएगी हनुमान जयंती

अकस्मात धन प्राप्ति के लिए करें यह उपाय, बरसेगी समृद्धि

दो दिन मनाया जाएगा शिव आराधना का महापर्व

उपवास है महाशिवरात्रि की मुख्य उपासना

शुक्रवार को करें ये तीन काम, ज्योतिष कहता है- बदल जाएगी जिंदगी

शनि अमावस्या पर 30 साल बाद बना यह खास योग

एकादशी के दिन नहीं खानी चाहिए ये चीजें, जानें क्या है कारण

पति की लंबी उम्र के लिए सूर्योदय से चंद्रोदय तक करवा चौथ का व्रत

सुहाग की अखंडता के लिए सुहागिनो का हरतालिका तीज

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
हनुमान होते तो नहीं होता श्रीराम का स्वर्गारोहण, इसलिए किया था ऐसा उपाय
जानिए ,रक्षाबंधन की तिथि, वार, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि सहित कथा !
व्यक्ति की राशि पर भी निर्भर करता है तो उसे कैसे जीवनसाथी मिलेगा
मोक्षदायिनी और पुण्यफल देने वाली देवशयनी एकादशी की पूजाविधि और शुभ मुहूर्त
कांवड़ यात्रा की अनुमति देने से झारखंड सरकार ने किया इन्कार
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  
लाइव हिंदुस्तान समाचार फेसबुक ,ट्वविटर ,इंस्ट्राग्राम , लिंक्डइन से जुड़ने के लिए फॉलो करे या विजिट करे : www.livehindustansamachar.com
 
समाचार चैनल  
स्थानीय राजनीति
खेल COVID-19
बिज़नेस अपराध
जीवन-शैली शिक्षा
राष्ट्रीय सम्पादकीय
अंतर्राष्ट्रीय सोशल मीडिया
कैरियर मनोरंजन
न्यायालय आपदा
अनुसंधान ब्लॉग
निर्वाचन मौसम
भष्ट्राचार कृषि
HEALTH शासन
योजना प्रशासन
कविता/कहानी लाइव हिंदुस्तान समाचार [विशेष]
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | COVID-19  | भष्ट्राचार  | शासन  | आपदा  | योजना  | ब्लॉग  | मौसम  | स्थानीय  | कविता/कहानी  | लाइव हिंदुस्तान समाचार [विशेष]  | प्रशासन  | निर्वाचन  | राष्ट्रीय  | न्यायालय  | खेल  |  कृषि  | अनुसंधान  | बिज़नेस  | HEALTH  | कैरियर  | मनोरंजन  | अपराध  | शिक्षा  | जीवन-शैली  | सम्पादकीय  | सोशल मीडिया  | अंतर्राष्ट्रीय  | राजनीति  | जम्मू और कश्मीर  | राजस्थान  | मिजोरम  | झारखंड  | तमिलनाडु  | पंजाब  | दमन और दीव  | पश्चिम बंगाल  | पांडिचेरी  | गोवा  | नगालैंड  | उत्तर प्रदेश  | लक्ष्यदीप  | असम  | छत्तीसगढ़  | लद्दाख  | हिमाचल प्रदेश  | कर्नाटक  | उत्तरांचल  | तेलंगाना  | मेघालय  | केरल  | अरुणाचल प्रदेश  | उड़ीसा  | चंडीगढ़  | दादरा और नगर हवेली  | बिहार  | गुजरात  | दिल्ली  | मध्य प्रदेश  | अंडमान एवं निकोबार  | आंध्र प्रदेश  | महाराष्ट्र  | सिक्किम  | हरियाणा  | त्रिपुरा  | मणिपुर  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Design & Development By MakSoft
 
Hit Counter