Friday 14th of August 2020
खोज

 
livehindustansamachar.com
पंचांग पूरन विवरण  
 Mail to a Friend Print Page   Share This News Rate      
Share This News Save This Listing     Stumble It          
 

  जानिए ,रक्षाबंधन की तिथि, वार, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि सहित कथा ! (Wed, Jul 29th 2020 / 13:50:33)

लाइव हिंदुस्तान समाचार
राखी का त्‍योहार कोरोना काल में आ रहा है। इसके चलते बाजारों में हमेशा की तरह चहल-पहल तो नज़र नहीं आएगी लेकिन घरों में भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक यह पर्व पारंपरिक उत्‍साह और उमंग के साथ मनाया जाएगा। राखी 3 अगस्‍त, सोमवार को है। इस बार राखी पर दुर्लभ एवं शुभ संयोगों की श्रृंखला भी बन रही है जो कि लाभदाय‍क साबित होगी। रक्षाबंधन पर सोमवार व पूर्णिमा के कारण इस वर्ष आनंद योग, सवार्थ सिद्धि योग एवं श्रावण नक्षत्र एक साथ पड़ रहे हैं। यह योग वर्ष 1991 के बाद अब बना है। यह शुभ संयोग करीब तीन दशक बाद सामने आ रहा है। इस बार 3 अगस्‍त को रक्षाबंधन पर भद्रायोग सुबह 9.30 बजे समाप्‍त हो रहा है। इससे इस साल रक्षाबंधन पर भद्रा का साया नहीं रहेगा। भद्रा समाप्ति के बाद ही राखी बंधवाना शुभ रहता है। श्रावणी उपाकर्म भी इसी दिन किए जाएंगे। मौजूदा वर्ष में प्रात: 9.30 बजे से शाम तक राखी बंधवाने के कई मुहूर्त रहेंगे। मध्‍य प्रदेश के सीहोर निवासी ज्योतिषाचार्य पं. गणेश शर्मा ने बताया कि वैसे मुख्‍य रूप से वृश्चिक, कुंभ व सिंह लग्‍न में राखी बंधवाना सबसे शुभ माना जाता है। यह शुभ संयोग शाम को गोधूलि बेला तक जारी रहेगा। इस योग में यह त्‍योहार शुभता में वृद्धि करेगा एवं महामारी को सितंबर तक नियंत्रण करने में भी सहायक साबित होगा।
दीर्घायु, समृद्धि,सुख, सौभाग्य से परिपूर्ण योग
श्रावण पूर्णिमा को सावन का पांचवां सोमवार है। सुबह 6 बजकर 37 मिनट के बाद 28 योगों में सर्वश्रेष्ठ आयुष्मान योग इस समय विद्यमान रहेगा। सुबह 7 बजकर 18 मिनट के बाद पश्चात श्रवण नक्षत्र आ जाएगा, जो सिद्धि योग का निर्माण करेगा। सुबह 9 बजकर 28 मिनट पर भद्रा भी समाप्त हो जाएगी। इस साल पर्व पर सिद्धि और आयुष्मान योग बन रहे हैं। इन शुभ योग में रक्षाबंधन का पर्व भाई और बहनों की दीर्घायु, समृद्धि,सुख, सौभाग्य से परिपूर्ण रहेगा।
राखी बांधने से पहले बहनें रखें इस बात का ध्‍यान
अपने भाई को राखी बांधने से पहले बहनों को कुछ बातों का विशेष रूप से ध्‍यान रखना चाहिये। बहनें इस दिन अपने भाई को नारियल का सूखा गोला ना देते हुए पानी वाला श्रीफल दें। यही शुभ माना जाता है। राखी के दूसरे दिन भुजरियां पर्व मनाया जाता है और परिवार के लोग आपस में भुजरियां देकर मिलते हैं और बड़ों का आशीर्वाद लेते हैं।
ब्राह्मणों के लिए श्रावणी उपाकर्म आवश्‍यक
इस दिन श्रावणी उपाकर्म होता है जो केवल ब्राह्मणों के लिए जरूरी होता है ब्राह्मण नदी में हेमाद्रि स्नान करने के बाद नवीन जनेऊ धारण करते हैं। हेमाद्रि स्नान में गोमूत्र, गोबर मिट्टी, दूध, दही पञ्च गव अबीर, गुलाल कास आदि से स्नान किया जाता है। यह अनोखा कार्यक्रम वर्ष में एक बार हर ब्राह्मण को करना आवश्यक है।
राखी बंधवाने का शुभ मुहूर्त
3 अगस्त को भद्रा सुबह 9 बजकर 29 मिनट तक है। राखी का त्योहार सुबह 9 बजकर 30 मिनट से आरंभ हो जाएगा। दोपहर को 1 बजकर 35 मिनट से लेकर शाम 4 बजकर 35 मिनट तक बहुत ही अच्छा व शुभ समय है। इसके बाद शाम को 7 बजकर 30 मिनट से लेकर रात 9.30 के बीच में बहुत अच्छा मुहूर्त है।
यह है समय
सुबह - 9.30 बजे से 10.30 बजे तक
दोपहर - 1.30 बजे से शाम 7.30 बजे तक
शाम - 7.30 बजे से रात 10.30 बजे तक
रात 10.30 बजे से रात 12.00 बजे तक
राखी बांधते समय पढ़ें यह मंत्र
राखी बांधते समय बहनों को यह मंत्र पढ़ना चाहिए ताकि इसका शुभ परिणाम मिल सके। यह रक्षा सूत्र: अगर राखी बांधते समय बहनें रक्षा सूत्र पढ़ती हैं तो यह बेहद ही शुभ होता है। इस रक्षा सूत्र का वर्णन महाभारत में भी आता है।
ॐ येन बद्धो बली राजा दानवेन्द्रो महाबल:।
तेन त्वामपि बध्नामि रक्षे मा चल मा चल।।
अर्थात् राजा बली ने भी अपनी रक्षा के लिए हनुमान जी को रक्षा सूत्र बांधकर अपना भाई बनाया था। रक्षा की प्रार्थना की थी। इसी प्रकार हे हनुमान, मेरे भाई की समस्‍त संकटों से रक्षा कीजिये।
यह है रक्षाबंधन पर्व कथा और महत्‍व
हमारे देश में सदियों से रक्षा सूत्र बांधने की परम्परा रही है। इसके लिए एक पौराणिक कथा भी प्रचलित है। कथा यह है एक बार जब देवताओं और असुरो में युद्ध आरंभ हो गया था तब देवताओं की स्थिति पराजय की हो गई थी। पराजय के डर से देवगण जब देवराज इंद्र के पास पहुंचे तो देवताओं को भयभीत देख इन्द्राणी ने देवताओं के हाथ में रक्षा कवच के तौर पर रक्षासूत्र बांध दिया। इसके बाद माना जाता है कि देवताओं ने असुरों पर विजय प्राप्त की और अपना खोया हुआ राजपाट पुन: प्राप्‍त कर लिया। यह रक्षा विधान श्रावण मास की पूर्णिमा तिथि पर ही शुरू किया गया था।
रक्षाबंधन की प्रचलित कथा यह भी
राखी को लेकर प्रचलित एक अन्य कथा के अनुसार उस समय ऋषि मुनि भी अपने राजाओं को रक्षा सूत्र बांधते थे। इस क्रम में रानी कर्णावती ने अपनी रक्षा हेतु बादशाह हुमायुंं को राखी भेजी थी। ऐसा माना जाता है कि हुमायुंं को कर्णावती ने अपना भाई माना था। ऐसे में यह स्पष्ट है कि प्राचीन काल से ही रक्षा बंधन का प्रचलन चला आ रहा है।
यह है रक्षाबंधन की पूजा विधि
रक्षाबंधन के पवित्र पर्व के दिन आप सुबह स्नान आदि से निवृत हो जाएं। इसे बाद आरती एवं पूजा की थाली सजाएं जिसमें राखी के साथ रोली, चंदन, अक्षत, मिष्ठान और पुष्प रखें। इस थाली में घी का एक दीपक भी जलाएं। इस थाल को अब आप अपने पूजा स्थान पर रख दें। सभी देवी देवातओं का स्मरण करें। धूप जलाएं और पूजा करें। फिर भगवान का आर्शीवाद लें। भाई की आरती कर उसकी कलाई में राखी बांधें।
भद्रा रहित काल में राखी बांधना श्रेष्‍ठ
शास्त्रीय विधान की मान्‍यताओं के अनुसार रक्षाबंधन का पवित्र पर्व भद्रा रहित काल में ही मनाया जाना चाहिए। ऐसा कहा जाता है कि- भद्रायां द्वे न कर्त्तव्ये श्रावणी फाल्गुनी। अतः हिन्दू धर्म शास्त्र के अनुसार यह पर्व 3 अगस्त 2020 को भद्रा रहित काल में ही मनाया जाएगा। परंतु किसी कारण के चलते भद्रा काल में यह कार्य करना हो तो भद्रा मुख को छोड़कर भद्रा पुच्छ काल में यह पर्व मनाया जाना ही श्रेष्‍ठ होगा।

 
livehindustansamachar.com
 
समान पंचांग-पुराण  
livehindustansamachar.com
     
30 दिन के अंतर में 3 ग्रहणों का संयोग ,खुशियां लेकर आ रहा है सूर्य ग्रहण
लाइव हिंदुस्तान समाचार
21 जून, रविवार को सूर्य ग्रहण लग रहा है। इस खगोलीय घटना को लेकर सभी के मन में जिज्ञासा है। ज्‍योतिष गणना के अनुसार यह ग्रहण देश व दुनिया के लिए कई अर्थों में निर्णायक साबित हो सकता है। सूर्य ग्रहण से 16 दिन पहले चंद्र ग्रहण था और 14 दिन बाद भी च&
और अधिक पढ़ें..

30 दिन के अंतर में 3 ग्रहणों का संयोग ,खुशियां लेकर आ रहा है सूर्य ग्रहण

HOLI 2020: हर रंग कुछ कहता है, जानिए रंगों का जीवन में कैसा है महत्व

HOLI 2020: होलिका दहन की लपटों से मिलते हैं भविष्य के संकेत !

HOLI 2020: गर्लफ्रेंड या पत्नी का पसंदीदा कलर बताता है उनकी खूबियां

गुरु पूर्णिमा : गुरु पूर्णिमा ज्ञान के स्रोत के प्रति कृतज्ञता का उत्सव

रोहिणी नक्षत्र में 25 मई से 3 जून तक रहेगा नौतपा, सूरज के तेवर होंगे प्रचंड

Hanuman Jayanti: हनुमान चालीसा का पाठ करने से होता है संकटों का नाश

हिंदू नववर्ष के आगमन पर उगते सूर्य का मंत्रोच्चारण के साथ पूजन

मकर संक्रांति : धनु को छोड़कर मकर राशि में प्रवेश करेंगे सूर्यदेव

जन्माष्टमी : रस, दर्शन और जीवन के प्रतीक हैं भगवान श्रीकृष्ण

भाई की कलाई पर राशि- रंग के अनुसार मुहूर्त में राखी

रक्षाबंधन विशेष : कई उत्सवों का एक दिन श्रावण पूर्णिमा

ईद-उल-अजहा की ईदगाह और मस्जिदों में पढ़ी गई नमाज

इतिहास : 14 अगस्त को भारत से अलग हुआ था पाकिस्तान

फ्रेंडशिप डे : दिन से नहीं दिल से मनाएं Friendship Day

104 सालों बाद गुरु पूर्णिमा पर खग्रास चंद्रग्रहण

सूरदास जयंती : बिना आंखों के सूरदास ने किए श्रीकृष्ण के दर्शन

जयंती : असाधारण प्रतिभा के धनी आदिशंकराचार्य

हनुमान जयंती : जानें क्यों रामभक्त को चढ़ता है सिंदूर, जनेऊ

विश्व मौसम विज्ञान दिवस 2018 : जानिए क्या है महत्त्व ?

चन्द्रग्रहण के दौरान किया गया पुण्यकर्मकरोड़ गुना फलदायी : ज्योतिषाचार्य

ऋतुराज में सरस्वती पूजन का पर्व है वसंत पंचमी

आज का गुडलक करेगा पापों से मुक्त और समस्त इच्छाओं को पूर्ण

जन्मदिन विशेष : आयरन लेडी को था मौत का अंदेशा, आखिरी भाषण में कही थी यह बात

जयंती पर विशेष : गांवों में आज भी उदास है प्रेमचंद का होरी

जयकारों से गूंजा मां विन्ध्यावासिनी धाम

नवरात्र : मैहर में मां शारदा के दर्शन को भक्तों की भीड़

हाथ में नारियल व सिर पर चुनरी बांध लगा रहे विन्ध्यधाम में जयकारा

मॉ विन्ध्यवासिनी के दर्शन के लिए उमड़ा आस्थावानों का सैलाब

दो लाख भक्तों ने मॉ के दरबार में लगाई हाजिरी , घंटा व घड़ियालों से गुंजायमान रहा विन्ध्य क्षेत्र

शारदीय नवरात्र : लाखों श्रद्धालुओं के जयकारे से गुजांयमान रहा मां विन्ध्यवासिनी धाम

नवरात्रि विशेष : क्यों जलाते हैं नौ दिनों तक मां के नाम की अखंड ज्योति

विंध्य क्षेत्र की तपोभूमि भूमि है विंध्याचल

विवेकानंद के 125 साल पहले भाषण को दुनिया ने माना लोहा

बहुला चतुर्थी : गणपति ,शेर के साथ गाय-बछड़े की प्रतिमा की पूजा

सुहागिनों और कुंवारी कन्याओं द्वारा क्यों और कैसे मनाया जाता है सातुड़ी तीज त्यौहार !

भाई और बहन के प्यार का त्योहार है रक्षाबंधन

भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक 'रक्षाबंधन'

बुद्ध पूर्णिमा पर बुधादित्य योग का महासंयोग

हनुमान जयंती पर विशेष : मंगल को जन्मे, मंगल ही करते

विक्रम संवत् 2074 में ऐश्वर्य के साथ देश की अर्थव्यवस्था होगी प्रबल

वसंत पंचमी विशेष : शुभारंभ का दिन है वसंत पंचमी

जानें, 2017 में कब और कितने लगेंगे ग्रहण

Saturday को जेब या पर्स में रखें बस 1 वस्तु, शाम तक जरूर देखेंगे लाभ

विजय दिवस : आज के दिन भारतीय सेना के सामने 93000 पाक सैनिकों ने टेके थे घुटने

बकरीद विशेष : अल्लाह को मनाओ खुदा तुम्हें खुश कर देगा

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
हनुमान होते तो नहीं होता श्रीराम का स्वर्गारोहण, इसलिए किया था ऐसा उपाय
जानिए ,रक्षाबंधन की तिथि, वार, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि सहित कथा !
व्यक्ति की राशि पर भी निर्भर करता है तो उसे कैसे जीवनसाथी मिलेगा
मोक्षदायिनी और पुण्यफल देने वाली देवशयनी एकादशी की पूजाविधि और शुभ मुहूर्त
कांवड़ यात्रा की अनुमति देने से झारखंड सरकार ने किया इन्कार
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  
लाइव हिंदुस्तान समाचार फेसबुक ,ट्वविटर ,इंस्ट्राग्राम , लिंक्डइन से जुड़ने के लिए फॉलो करे या विजिट करे : www.livehindustansamachar.com
 
समाचार चैनल  
स्थानीय राजनीति
खेल COVID-19
बिज़नेस अपराध
जीवन-शैली शिक्षा
राष्ट्रीय सम्पादकीय
अंतर्राष्ट्रीय सोशल मीडिया
कैरियर मनोरंजन
न्यायालय आपदा
अनुसंधान ब्लॉग
निर्वाचन मौसम
भष्ट्राचार कृषि
HEALTH शासन
योजना प्रशासन
कविता/कहानी लाइव हिंदुस्तान समाचार [विशेष]
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | COVID-19  | राष्ट्रीय  | न्यायालय  | खेल  | ब्लॉग  | प्रशासन  | लाइव हिंदुस्तान समाचार [विशेष]  | शिक्षा  | निर्वाचन  | योजना  | अनुसंधान  | शासन  | मनोरंजन  | अंतर्राष्ट्रीय  | भष्ट्राचार  | स्थानीय  | HEALTH  | कविता/कहानी  | कैरियर  | सम्पादकीय  | राजनीति  | अपराध  |  कृषि  | मौसम  | जीवन-शैली  | आपदा  | बिज़नेस  | सोशल मीडिया  | मेघालय  | नगालैंड  | उत्तरांचल  | केरल  | त्रिपुरा  | राजस्थान  | मिजोरम  | आंध्र प्रदेश  | छत्तीसगढ़  | हरियाणा  | चंडीगढ़  | गोवा  | कर्नाटक  | लद्दाख  | जम्मू और कश्मीर  | तमिलनाडु  | बिहार  | अंडमान एवं निकोबार  | झारखंड  | उत्तर प्रदेश  | उड़ीसा  | मणिपुर  | पंजाब  | तेलंगाना  | पांडिचेरी  | लक्ष्यदीप  | महाराष्ट्र  | अरुणाचल प्रदेश  | असम  | दमन और दीव  | गुजरात  | हिमाचल प्रदेश  | दिल्ली  | दादरा और नगर हवेली  | पश्चिम बंगाल  | मध्य प्रदेश  | सिक्किम  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Design & Development By MakSoft
 
Hit Counter