Friday 14th of August 2020
खोज

 
livehindustansamachar.com
पंचांग पूरन विवरण  
 Mail to a Friend Print Page   Share This News Rate      
Share This News Save This Listing     Stumble It          
 

  हनुमान होते तो नहीं होता श्रीराम का स्वर्गारोहण, इसलिए किया था ऐसा उपाय (Wed, Jul 29th 2020 / 14:44:47)

लाइव हिंदुस्तान समाचार
भगवान श्रीराम भगवान श्रीहरी के अवतार थे और धरती पर उनका अवतरण दुष्टों को दंड देने और अपने भक्तों की रक्षा के लिए हुआ था। भगवान श्रीराम के साथ वनवास से लेकर और उसके बाद कई प्रमुख पात्र जुड़ते रहे और उनकी जिंदगी का अहम हिस्सा बन गए। रामायण के एस ऐसे ही प्रमुख पात्र हनुमान थे, जो श्रीराम के अनन्य भक्त और उनकी परछाई के समान थे।श्रीराम से जुड़ने के बाद हनुमानजी ने उनका हर कदम पर साथ दिया और उनके साथ साए की तरह रहे थे।
श्रीराम ने अंगुठी के बहाने हनुमान को किया दूर
श्रीराम और हनुमान से जुड़ी एक कथा भगवान श्रीराम के स्वर्गारोहण की है। मान्यता है कि बजरंगबली को यदि इस बात का जरा भी अहसास हो जाता कि कालदेव विष्णु लोक से श्री राम को लेने के लिए अयोध्या आने वाले हैं तो वह उनको अयोध्या की सीमा में आने भी नहीं देते। क्योंकि श्रीराम और देवी सीता की रक्षा का जिम्मा उन्होंने संभाल रखा था। श्रीराम को कालदेव के अयोध्या आने की जानकारी थी।
इसलिए उन्होंने हनुमानजी को मुख्य द्वार से दूर रखने का एक तरीका निकाला। प्रभु श्रीराम ने अपनी एक अंगूठी महल के फर्श में आई एक दरार में डाल दी और हनुमान को उसको बाहर निकालने का आदेश दिया। हनुमानजी ने श्रीराम की आज्ञा का पालन करते हुए तुरंत लघु रूप धारण किया और दरार में अंगूठी को खोजने के लिए प्रवेश कर गए।
हनुमानजी पहुंचे नागलोक
जैसे ही हनुमानजी ने उस दरार के अंदर प्रवेश किया तब उनको पता चला कि यह कोई सामान्य दरार नहीं बल्कि एक विशाल सुरंग है। वह उस सुरंग में जाकर नागों के राजा वासुकि से मिले। राजा वासुकि हनुमानजी को नाग-लोक के मध्य क्षेत्र में ले गए और वहां पर अंगूठियों से भरा एक विशाल पहाड़ दिखाते हुए बोले कि यहां आपको आपकी अंगूठी मिल जाएगी। उस अंगुठियों के पर्वत को देख हनुमानजी परेशान हो गए और सोचने लगे कि इस विशाल पहाड़ में से श्री राम की अंगूठी खोजना तो कूड़े के ढेर से सूई खोजने के समान है।
लेकिन जैसे ही बजरंगबली ने पहली अंगूठी उठाई तो वह श्री राम की ही थी। लेकिन उनको आश्चर्य तब हुआ जब उन्होंने दूसरी अंगूठी उठाई, क्योंकि वह भी भगवान श्रीराम की ही थी। यह देख हनुमानजी को समझ नही आया कि उनके साथ .यह क्या हो रहा है। हनुमानजी की दुविधा देखकर वासुकि मुस्कुराए और उन्हें कुछ समझाने लगे।
राजा वासुकि ने दिया हनुमानजी को ज्ञान
वासुकी बोले कि पृथ्वी लोक एक ऐसा लोक है जहां जो भी आता है उसको एक दिन वापस लौटना ही पड़ता है। उसके इस लोक से वापस जाने का साधन कुछ भी हो सकता है। ठीक इसी तरह भगवान श्रीराम भी पृथ्वी लोक को छोड़ एक दिन विष्णु लोक वापस आवश्य जाएंगे। वासुकि की यह बात सुनकर भगवान हनुमान को यह समझने में देर नहीं लगी कि उनका अंगूठी ढूंढ़ने के लिए आना और उसके बाद नाग-लोक पहुंचना, यह सब श्री राम का ही सोचा-समझा निर्णय था।
बजरंगबली को इस बात का अहसास हो गया कि अंगुठी के बहाने उनको नागलोक भेजना उनको कर्तव्य से भटकाना था। जिससे कि कालदेव अयोध्या में प्रवेश कर सके और श्रीराम को उनके पृथ्वी पर जीवन की समाप्ति की सूचना दे सके। हनुमान को यह भी अहसास हो गया कि जब वो अयोध्या लौटेंगे तो श्रीराम नहीं होंगे।

 
livehindustansamachar.com
 
समान पंचांग-पुराण  
livehindustansamachar.com
     
महर्षि वेदव्यास और अप्सरा घृताची से हुआ शुक्राचार्य का जन्म
लाइव हिंदुस्तान समाचार
जब कभी रुप लावण्यता, सौंदर्य और अपनी लुभावनी अदाओं से तपस्वी और सन्यासियों तक की तपस्या भंग करने वाली सुंदरियों की बात होती है ,तो अपस्राओं का नाम जेहन में आता है। स्वर्ग की इन अप्सराओं की मोहक अदाओं से कोई नहीं बच पाया। ऐसी ही एक अपनी 
और अधिक पढ़ें..

महर्षि वेदव्यास और अप्सरा घृताची से हुआ शुक्राचार्य का जन्म

बहुत झूठ बोलते हैं इन तीन राशि के जातक,ऐसे लोगों से ना करें दोस्ती

वास्तव में ईश्वर की मूर्ति प्रेम है, जिसका केवल अनुभव किया जा सकता है !

मनुष्य और अन्य जानवरों के बीच वास्तविक अंतर व्यक्तिगत स्तर पर नहीं

सिर्फ कहने से कोई सन्यासी या फकीर नहीं हो जाता

.......तो गौतम बुद्ध ने बताया भूख और उपदेश में संबंध !

धर्म-आस्था व पौराणिक मान्यताओं का महापर्व है दीपावली

आधिभौतिक वैज्ञानिकों की उपेक्षा का शिकार है अध्यात्म का वास्तविक ज्ञान

भगवान बहुत देता है, लेकिन हम झोली छोटी कर देते हैं

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
हनुमान होते तो नहीं होता श्रीराम का स्वर्गारोहण, इसलिए किया था ऐसा उपाय
जानिए ,रक्षाबंधन की तिथि, वार, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि सहित कथा !
व्यक्ति की राशि पर भी निर्भर करता है तो उसे कैसे जीवनसाथी मिलेगा
मोक्षदायिनी और पुण्यफल देने वाली देवशयनी एकादशी की पूजाविधि और शुभ मुहूर्त
कांवड़ यात्रा की अनुमति देने से झारखंड सरकार ने किया इन्कार
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल अंक राशि
शुभ पंचांग कुम्भ [ महाकुम्भ ]
आस्था प्रवचन
हस्तरेखा वास्तु
रत्न फेंग शुई
कुंडली विशेष दिवस
सुविचार व्रत -उपवास
प्रेरक प्रसंग
 
लाइव अपडेट  
लाइव हिंदुस्तान समाचार फेसबुक ,ट्वविटर ,इंस्ट्राग्राम , लिंक्डइन से जुड़ने के लिए फॉलो करे या विजिट करे : www.livehindustansamachar.com
 
समाचार चैनल  
स्थानीय राजनीति
खेल COVID-19
बिज़नेस अपराध
जीवन-शैली शिक्षा
राष्ट्रीय सम्पादकीय
अंतर्राष्ट्रीय सोशल मीडिया
कैरियर मनोरंजन
न्यायालय आपदा
अनुसंधान ब्लॉग
निर्वाचन मौसम
भष्ट्राचार कृषि
HEALTH शासन
योजना प्रशासन
कविता/कहानी स्वतंत्रता दिवस
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | अपराध  | कविता/कहानी  | कैरियर  | प्रशासन  |  कृषि  | COVID-19  | स्वतंत्रता दिवस  | आपदा  | मौसम  | HEALTH  | राष्ट्रीय  | शासन  | योजना  | शिक्षा  | निर्वाचन  | खेल  | राजनीति  | न्यायालय  | जीवन-शैली  | भष्ट्राचार  | मनोरंजन  | ब्लॉग  | सम्पादकीय  | अनुसंधान  | बिज़नेस  | अंतर्राष्ट्रीय  | स्थानीय  | सोशल मीडिया  | दमन और दीव  | झारखंड  | मणिपुर  | तेलंगाना  | नगालैंड  | केरल  | दिल्ली  | त्रिपुरा  | लक्ष्यदीप  | अरुणाचल प्रदेश  | लद्दाख  | चंडीगढ़  | मिजोरम  | उड़ीसा  | मध्य प्रदेश  | हरियाणा  | गोवा  | महाराष्ट्र  | कर्नाटक  | सिक्किम  | राजस्थान  | पांडिचेरी  | पश्चिम बंगाल  | पंजाब  | छत्तीसगढ़  | गुजरात  | असम  | अंडमान एवं निकोबार  | बिहार  | उत्तरांचल  | हिमाचल प्रदेश  | उत्तर प्रदेश  | आंध्र प्रदेश  | मेघालय  | तमिलनाडु  | जम्मू और कश्मीर  | दादरा और नगर हवेली  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Design & Development By MakSoft
 
Hit Counter