Thursday 26th of November 2020
खोज

 
livehindustansamachar.com
पंचांग पूरन विवरण  
 Mail to a Friend Print Page   Share This News Rate      
Share This News Save This Listing     Stumble It          
 

  नवरात्र दूसरा दिन : मां ब्रह्मचारिणी की पूजा , बुद्धि और ज्ञान की देवी (Sun, Oct 18th 2020 / 14:15:44)

लाइव हिंदुस्तान समाचार
नवरात्र के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा होती है। यह भी मां दुर्गा का अवतार हैं, जिन्हें ब्रह्मचारिणी के नाम से पूजा जाता है। शास्त्रों ने लिखा हैकि ब्रह्मचारिणी का अर्थ है तप का आचरण करने वाली देवी । देवी मां के दायं हाथ में जप की माला है और बाएं हाथ में कमण्डल धारण किए रहतीं हैं। पूर्वजन्म में देवी ने हिमालय के घर पुत्री रूप में जन्म लिया था और भगवान शंकर को पति रूप में प्राप्त करने के लिए घोर तपस्या की थी। इसलिए इनका नाम शास्त्रों में ब्रह्मचारिणी कहा गया है। मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करने वाले भक्त हमेशा उज्जवलता और ऐश्वर्य का सुख भोगते हैं। मां को बुद्धि और ज्ञान की देवी भी कहा गया है। देवी ब्रह्मचारिणी की जो भक्त भाव से पूजा करते है उसे मां हमेशा खुशी रहने का आशीर्वाद देती हैं। वह व्यक्ति अपनी जिंदगी में हमेशा संयम, विश्वास रखता है। वह नैतिकता की शिक्षा देती हैं। जीवन में कई चुनौतियां है,जिन्हें मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करने से दूर किया जा सकता है।
माता ब्रह्मचारिणी की पूजा से मनुष्य में तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार, संयम की वृद्धि होती है। जीवन के कठिन संघर्षों में भी उसका मन कर्तव्य-पथ से विचलित नहीं होता और वह अपने कार्य में लगा रहता है और माता ब्रह्मचारिणी के भक्त को माता की कृपा से कठिनाइयों से बावजूद सफलता मिलती है।
Maa Brahmacharini पूजन विधि
कंडे (गाय के गोबर के उपले) जलाकर उसमें घी, हवन सामग्री, बताशा, लौंग का जोड़ा, पान, सुपारी, कपूर, गूगल, इलायची, किसमिस, कमलगट्टा अर्पित करें। नवरात्र के दूसरे दिन हवन में मां ब्रह्मचारिणी की इन मंत्रों के उच्‍चारण के साथ पूजा करें। दूसरे दिन हवन में मां ब्रह्मचारिणी के इस मंत्र का उच्‍चारण करें - ऊँ ब्रां ब्रीं ब्रूं ब्रह्मचारिण्‍यै नम:।।
Maa Brahmacharini का भोग
नवरात्र के दूसरे दिन माता को शक्कर का भोग लगाएं तथा उसका दान करें। इससे साधक को लंबी उम्र प्राप्त होती है। योग शास्त्र के अनुसार, यह शक्ति स्वाधिष्ठान चक्र में स्थित होती है। अत: स्वाधिष्ठान चक्र में ध्‍यान लगाने से यह शक्ति बलवान होती है एवं सर्वत्र सिद्धि व विजय प्राप्त होती है।
Maa Brahmacharini का स्वरूप
मां का स्वरूप दिव्य है। वे श्वेत वस्त्र पहन कर कन्या के रूप में हैं, जिनके एक हाथ में अष्टदल की माला और दूसरे हाथ में कमंडल है। वे अक्षय माला और कमंडलधारिणी,शास्त्रों के ज्ञान और निगमागम तंत्र-मंत्र आदि से संयुक्त है। अपने भक्तों को वे अपनी सर्वज्ञ सम्पन्न विद्या देकर विजयी बनाती हैं।
Maa Brahmacharini की कहानी
जब मां ब्रह्मचारिणी देवी ने हिमालय के घर जन्म लिया था, तब नारदजी के उपदेश से मिलने के बाद उन्होंने भगवान शिव को पति रूप में प्राप्त करने के लिए घोर तपस्या की। इस कठिन तपस्या के कारण इन्हें तपश्चारिणी अर्थात्‌ ब्रह्मचारिणी नाम से अभिहित किया गया। मां ब्रह्मचारिणी देवी ने तीन हजार वर्षों तक टूटे हुए बिल्व पत्र खाए और भगवान शंकर की आराधना करती रहीं। इसके बाद तो उन्होंने बिल्व पत्र खाना भी छोड़ दिए और कई हजार वर्षों तक निर्जल व निराहार रह कर तपस्या करती रहीं। पत्तों को खाना छोड़ देने के कारण ही इनका नाम अपर्णा पड़ गया। कठिन तपस्या के कारण देवी का शरीर एकदम क्षीर्ण हो गया। देवता, ऋषि, सिद्धगण, मुनि सभी ने ब्रह्मचारिणी की तपस्या को अभूतपूर्व पुण्य कृत्य बताकर सराहना की। उन्होंने कहा, हे देवी आपकी इस आराधना से आपकी मनोकामना जरूर पूर्ण होगी। मां ब्रह्मचारिणी देवी की कृपा से सर्वसिद्धि प्राप्त होती है। मां की आराधना करने वाले व्यक्ति का कठिन संघर्षों के समय में भी मन विचलित नहीं होता है।

 
livehindustansamachar.com
 
समान पंचांग-पुराण  
livehindustansamachar.com
     
नवरात्र स्पेशल : मां दुर्गा के प्रतिदिन जपे 108 नाम, हर मनोकामना होगी पूर्ण
चन्द्रिका प्रसाद तिवारी
शक्ति की आराधना का पर्व नवरात्र जारी है। भक्त मां की आराधना में लीन हैं। इन नौ दिनों में मां दुर्गा के अलग अलग स्वरूपों की पूजा की जाती है। मां दुर्गा के 108 नाम नवरात्र के दौरान दिन में एक बार पाठ करने से मनचाहा फल मिलता है। पूजा-अर्चना, आ
और अधिक पढ़ें..

नवरात्र स्पेशल : मां दुर्गा के प्रतिदिन जपे 108 नाम, हर मनोकामना होगी पूर्ण

शक्ति आराधना का पर्व Navratri 2020: 9 देवियों की उत्पत्ति की कहानी

नवरात्र प्रथम दिन : मां शैलपुत्री की पूजा, जानिए पूजा विधि, मंत्र और भोग

महाशिवरात्रि : पुलिस ने रोका रास्ता, किन्नर अखाड़ा ने नहीं किया अमरत्व स्नान

कुंभ 2019 : महाशिवरात्रि पर त्रिवेणी में स्नान के लिए उमड़े श्रद्धालु, मंदिरों में जुटे भक्त

पीएम ने संगम में लगाई डुबकी, सफाई और सुरक्षा कर्मियों को किया सम्मानित

42 देशों से आए आदिवासियों ने संगम में लगाई आस्था की डुबकी

अभी तक दिखा रहे थे कागजी भीड़, मौनी अमावस्या पर खुली ब्यवस्था की पोल

प्रयागराज कुंभ मेले में श्रद्धालुओं के बीच काला चावल की डिमांड बढ़ी

कुंभ मेले में कहां हो रहा है भंडारा, मिल रही गूगल पर सूचना

मॉरीशस के प्रधानमंत्री ने सपत्नी किया कुम्भ दर्शन ,भारत के आध्यात्मिकता किया प्रशंसा

प्रयागराज में हर साल लगता है मिनी कुंभ, कायाकल्प के लिए कल्पवास

कुंभ 2019: तेज आंधी से कुंभ मेला क्षेत्र में अफरातफरी, कई तंबू उखड़े

पौष पूर्णिमा में संगम में 1 करोड़ 7 लाख श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी

स्नान पर्व यानि पौष पूर्णिमा : मिलेगा सौ हजार गायों के दान के बराबर फल

विहंगम संगम में कुंभ का वैभव देख अभिभूत हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

कुंभ 2019: मकर संक्रांति पर स्नान का पूर्वजों को भी मिलता है लाभ

कुंभ 2019 : जूना अखाड़ा के साथ किन्नर अखाड़ा ने संगम तट पर लगाई डुबकी

कुंभ मेला 2019: शाही स्नान से पहले श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी

मकर संक्रांति पर आस्था की डुबकी लगाने एक करोड़ से अधिक श्रद्धालु पहुंचे संगम तट

प्रयागराज कुंभ 2019 :पीएम ने दी शुभकामनाएं, स्मृति ईरानी ने किया संगम तट पर स्नान

कुंभ 2019: रात 2.19 बजे से शुरू होगा मकर संक्रांति का पुण्य काल

कुंभ में प्रथम शाही स्नान के लिए अखाड़ों का समय निर्धारित, तीन किमी लंबा होगा रूट

सूर्य के मकर राशि में प्रवेश के साथ ही होगा देवों का प्रयाग आगमन

उस व्यक्ति को आलोचना करने का अधिकार है, जो सहायता करने की भावना रखता हैं : अब्राहम लिंकन

कैसे लोगों को मिलती है सुंदर पत्नी !

वो 5 उपाय जो दिला सकते है घर में मानसिक शांति

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
भगवान आशुतोष के द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक केदारनाथ धाम के कपाट
करवा चौथ : कल्याणकारी है कार्तिक मास, जानिए इसका महत्व
करवा चौथ : जानिए व्रत विधि, पूजन सामग्री, पूजा विधि, शुभ मुहूर्त
शारदीय नवरात्र : अष्टमी और नवमी पर करें कन्या पूजन, होगी मां की कृपा !
नवरात्र स्पेशल : मां दुर्गा के प्रतिदिन जपे 108 नाम, हर मनोकामना होगी पूर्ण
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल नवरात्रि [ स्पेशल ]
आस्था सुविचार
प्रेरक प्रसंग प्रवचन [कथा ]
व्रत [उपवास ]
 
लाइव अपडेट  
लाइव हिंदुस्तान समाचार वेब न्यूज़ पोर्टल LIVEHINDUSTANSAMACHAR.COM [Editorial Contact for news, business, complaints [ALL INDIA] Sirmaur, District Rewa, Madhya Pradesh HEAD OFFICE Nagar Sirmaur, Tehsil Sirmaur District Rewa [MP] India Zip Code-486448 MAIL ID-AT@ LIVEHINDUSTANSAMACHAR.COM Mob- +919425330281,+919893112422
 
समाचार चैनल  
LOCAL राजनीति
SPORTS जीवन-शैली
BUSINESS CRIME
सर्वे/ आडिट EDUCATION
EDITORIAL अंतर्राष्ट्रीय
SOCIAL MEDIA JOB
INTERTAINMENT आपदा
अनुसंधान ब्लॉग
निर्वाचन-2020 टेक्नोलॉजी
COURT कृषि
HEALTH राष्ट्रीय
प्रशासन कार्यक्रम
भ्रष्टाचार
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | भ्रष्टाचार  | सर्वे/ आडिट  | JOB  |  कृषि  | EDITORIAL  | SPORTS  | कार्यक्रम  | CRIME  | ब्लॉग  | INTERTAINMENT  | आपदा  | SOCIAL MEDIA  | राष्ट्रीय  | EDUCATION  | जीवन-शैली  | निर्वाचन-2020  | अंतर्राष्ट्रीय  | अनुसंधान  | LOCAL  | प्रशासन  | BUSINESS  | HEALTH  | राजनीति  | टेक्नोलॉजी  | COURT  | दिल्ली  | हिमाचल प्रदेश  | महाराष्ट्र  | नई दिल्ली  | जम्मू और कश्मीर  | अरुणाचल प्रदेश  | गुजरात  | मिजोरम  | मेघालय  | छत्तीसगढ़  | आंध्र प्रदेश  | झारखंड  | कर्नाटक  | दादरा और नगर हवेली  | लक्ष्यदीप  | उत्तर प्रदेश  | बिहार  | चंडीगढ़  | तेलंगाना  | राजस्थान  | अंडमान एवं निकोबार  | असम  | उड़ीसा  | त्रिपुरा  | गोवा  | सिक्किम  | मणिपुर  | केरल  | हरियाणा  | दमन और दीव  | मध्य प्रदेश  | पंजाब  | लद्दाख  | पश्चिम बंगाल  | तमिलनाडु  | पांडिचेरी  | नगालैंड  | उत्तरांचल  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Design & Development By MakSoft
 
Hit Counter