Tuesday 18th of May 2021
खोज

 
livehindustansamachar.com
समाचार विवरण  
 किसी मित्र को मेल पन्ना छापो   साझा यह समाचार मूल्यांकन करें      
Save This Listing     Stumble It          
 देशभर में पांच नवंबर को चक्का जाम, 26-27 को दिल्ली में डेरा डालेंगे किसान (Tue, Oct 27th 2020 / 15:51:23)

 


लाइव हिंदुस्तान समाचार
नए कृषि कानूनों को पूरी तरह वापस कराने के लिए किसानों ने बड़े आंदोलन की रणनीति बनाई है। इसके अंतर्गत पांच नवंबर को पूरे देश में 12 बजे से शाम चार बजे तक चक्का जाम किया जाएगा। 26-27 नवंबर को पूरे देश से किसान दिल्ली आएंगे और संसद का घेराव करेंगे। इस मुद्दे पर देश के बाकी किसान संगठनों को साथ लाने के लिए पांच सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया है।
देशभर के किसान संगठनों की मंगलवार को दिल्ली में हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया है कि तीनों कानूनों को वापस कराने के लिए सरकार से वार्ता की प्रक्रिया भी जारी रखी जाएगी, जिससे इस मुद्दे का शांतिपूर्ण हल निकाला जा सके। लेकिन मुद्दे पर कोई हल न निकलने की स्थिति में सरकार का विरोध जारी रखा जाएगा। बैठक में 150 से ज्यादा किसान संगठनों के भाग लेने का दावा किया गया है।
किसानों की बैठक में स्वराज इंडिया के योगेंद्र यादव, सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर, मध्यप्रदेश के किसान नेता सुनीलम, पंजाब के प्रमुख किसान नेता दर्शन सिंह शामिल थे। बैठक में कुछ किसान संगठनों के भाग न लेने का मुद्दा भी छाया रहा। विशेषकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश के एक बड़े किसान संगठन के किसी प्रतिनिधि के बैठक में शामिल न होने को लेकर भी सवाल खड़े हुए, लेकिन किसान नेताओं ने कहा कि वे सबसे बात कर सबको साथ लाने की कोशिश करेंगे।

  • क्या कुछ कम पर सहमत हैं किसान

किसान संगठन सरकार से पूरे कानून को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। क्या सरकार इसके लिए तैयार होगी? या किसान संगठन न्यूनतम समर्थन मूल्य और एपीएमसी मंडियों को खत्म न करने की बात पर सहमत हो जाएंगेे? इस पर मध्यप्रदेश के किसान नेता सुनीलम ने कहा कि तीनों कानून एक दूसरे से संबद्ध हैं। ऐसे में अगर किसी एक को भी रहने दिया जाएगा तो इससे वही असर पड़ेगा जिसके तीनों कानूनों के रहने से असर पड़ने की संभावना है। ऐसे में सभी कानूनों को पूरी तरह वापस लेने से कम पर सहमति बनाने का कोई अर्थ नहीं है।
किसान नेता सुनीलम ने कहा कि एपीएमसी मंडियों में अनाज बेचने पर टैक्स देना पड़ता है। खुले बाजार में अनाज बेचने पर टैक्स नहीं देना पड़ेगा जिससे ज्यादा लाभ के लिए व्यापारी खुले बाजार में ही खरीद को प्रमुखता देंगे। इससे धीरे-धीरे एपीएमसी व्यवस्था कमजोर होगी और बाद में काम के अभाव का बहाना दिखाकर इसे खत्म कर दिया जाएगा। यही कारण है कि केवल एपीएमसी मंडियों को बनाए रखने का आश्वासन देना काफी नहीं है, जरूरी है कि दोनों प्रकार की व्यवस्था में एकसमानता लाई जाए जिससे एपीएमसी के खत्म होने की संभावना ही खत्म हो जाए।
छत्तीसगढ़ के किसान नेता तेजराम विद्रोही ने कहा कि उनके यहां राज्य सरकार ने धान की फसल पर केंद्र से आगे बढ़कर न्यूनतम समर्थन मूल्य देने की शुरुआत की थी। छत्तीसगढ़ के किसानों को धान की कीमत 2500 रुपये प्रति क्विंटल मिलने लगी थी। लेकिन केंद्र ने सीमा से ज्यादा धान की खरीद करने से इंकार कर दिया। इससे राज्य सरकार मजबूरन ज्यादा न्यूनतम समर्थन मूल्य नहीं दे पा रही है।

  • एमएसपी भी नहीं मिल रहा

हरियाणा के किसान नेता सुमित दलाल ने कहा कि न्यूनतम समर्थन मूल्य को बड़ा मुद्दा बनाकर दिखाया जाता है, लेकिन सच्चाई यह है कि किसानों को अभी भी एमएसपी का लाभ नहीं मिल पा रहा है। मंडियों में पहुंचने पर खरीदार धान में नमी होने की बात कहकर उन्हें एमएसपी देने से इंकार कर देते हैं। ज्यादातर खरीद केंद्र अभी भी काम नहीं कर रहे हैं, लेकिन किसानों को अगली फसल की बुवाई के लिए पैसे की जरूरत है। लोगों को मजबूरी में धान के न्यूनतम समर्थन मूल्य से 200 रुपये प्रति क्विंटल कम पर फसल बेचनी पड़ रही है।
पंजाब और हरियाणा में तो किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य का लाभ मिल भी जाता है, लेकिन देश के अन्य राज्यों में उन्हें यह लाभ भी नहीं मिल पाता। फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया के आंकड़े बताते हैं कि न्यूनतम समर्थन मूल्य का लाभ भी देश के 14 करोड़ किसानों में से एक करोड़ किसान परिवारों को भी नहीं मिल पाता। इसलिए इस योजना को व्यापक स्वरूप देना आवश्यक है, जिससे सभी किसानों को इसका लाभ मिल सके।

 
समान समाचार  
livehindustansamachar.com
     
गेंहू उपार्जन के लिए एमपी किसान एप पर भी किसान करा सकते हैं पंजीयन

लाइव हिंदुस्तान समाचार  & रीवा
किसानों को उनके उपज का अधिकतम मूल्य देने के लिए समर्थन मूल्य पर गेंहू की खरीद सहकारी समितियों के माध्यम से दी जायेगी। इसके लिए किसानों का पंजीयन 25 फरवरी तक किया जा रहा है। किसान अपने नजदीकी केन्द्र में जाकर आ

read more..

गेंहू उपार्जन के लिए एमपी किसान एप पर भी किसान करा सकते हैं पंजीयन

मध्यप्रदेश की कृषि मंडी में किसानों के दो गुटों के बीच भिड़ंत, फायरिंग

खेत में जाकर फसल का भौतिक सत्यापन 3 दिवस में पंचनामा के साथ प्रतिवेदन जमा करे अधिकारी :कलेक्टर

हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश में पराली जलाने से दिल्ली में छा जाता है धुंध

कृषि विधेयक पर किसानों का प्रदर्शन : दिल्ली सीमा में पुलिकर्मी तैनात

435 कृषकों के खाते में 21 लाख 24 हजार बीमा दावे की राशि अंतरित

औषधीय युक्त चावल उगा रहीं महिलाएं,सिवनी में जैविक खेती से बढ़ा उत्पादन

20 साल से पसहर चावल दान कर रही दादी, एक एकड़ में नहीं लेती कोई फसल

देश में खेती के साथ व्यापार भी कर सकेंगे किसान, बनेंगे 10 हजार किसान संगठन

जबलपुर के फूलों पर महाराष्ट्र और तेंदूपत्ता पर उत्तरप्रदेश-छत्तीसगढ़ फिदा

अमरकंटक में रुद्राक्ष और खंडवा में शीशम उगाएगी मध्‍यप्रदेश सरकार

मानसून ने कवर किया बोनी लायक कोटा ,मौसम खुलने का इंतजार

खेत में फसल के डंठल जलाने पर 2500 से 15000 रुपये तक भरना होगा जुर्माना : डीएम

छत्तीसगढ़ में अब होगी एप्पल बेर, खजूर सहित छह फलों की खेती

रीवा संभाग में फूड प्रोसेसिंग यूनिट के लिए नहीं रीवा से आवेदन नहीं

पिथौरागढ़ में स्थापित होगा देश का दूसरा ट्यूलिप गार्डन

तकनीक : चार किलो पैरा में होगा एक किलो मशरूम

कृषक के खेत पर मनाया गया चना प्रक्षेत्र दिवस

तकनीकी खेती अपनाएं किसान, आय होगी दुगुनी : डीएम

पिछड़ेपन से उबारने की पहल : शुगर फ्री ''ब्लैक राइस'' की खेती

तटवर्ती खेतों की बर्बादी कारण बन रहे जंगली बबूल

शहर को सुन्दर बनाने हेतु व्यापारियों ने किया पौधा रोपण

अंतिम चरण में नवम्बर : अब तक नहीं हो सकी 45 फीसदी रकबे में भी बोवनी

हिमपात से कश्मीर में 15 लाख सेब के पेड़ों को नुकसान

हैदराबाद के कृषि वैज्ञानिकों ने देखा मूॅग, उडद का प्रर्दशन प्रक्षेत्र

मध्यप्रदेश में पैदा होगा विश्व का दूसरा मंहगा मसाला

विभाग की उदासीनता से सूखने लगे नव रोपित पौधे

2030 में खिलेगा अद्भुत नीले बैंगनी रंग का फूल

DM ने उद्यान विभाग द्वारा रोपित फलदार वृक्षों का किया निरीक्षण

हमीरपुर के छानी गांव में पहली बार होगी कपास की खेती

voice news
हमारे रिपोर्टर  
 
 
View All हमारे रिपोर्टर
पंचांग-पुराण   
मकर संक्रांति : नौकरी-व्यापार में वृद्धि तथा संतान सुख, मोक्ष की प्राप्ति के लिए करे दान !
भगवान आशुतोष के द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक केदारनाथ धाम के कपाट
करवा चौथ : कल्याणकारी है कार्तिक मास, जानिए इसका महत्व
करवा चौथ : जानिए व्रत विधि, पूजन सामग्री, पूजा विधि, शुभ मुहूर्त
शारदीय नवरात्र : अष्टमी और नवमी पर करें कन्या पूजन, होगी मां की कृपा !
live tv
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
livehindustansamachar.com
 
पंचांग-पुराण   
राशिफल नवरात्रि [ स्पेशल ]
आस्था सुविचार
प्रेरक प्रसंग प्रवचन [कथा ]
व्रत [उपवास ]
 
लाइव अपडेट  
लाइव हिंदुस्तान समाचार
 
समाचार चैनल  
LOCAL राजनीति
SPORTS जीवन-शैली
BUSINESS CRIME
सर्वे/ आडिट EDUCATION
EDITORIAL अंतर्राष्ट्रीय
SOCIAL MEDIA JOB
INTERTAINMENT आपदा
अनुसंधान ब्लॉग
निर्वाचन-2021 टेक्नोलॉजी
COURT कृषि
HEALTH राष्ट्रीय
प्रशासन कार्यक्रम
भ्रष्टाचार
 
Submit Your News
 
 
 | होम  | LOCAL  | ब्लॉग  | COURT  | अनुसंधान  | निर्वाचन-2021  | SOCIAL MEDIA  | BUSINESS  | टेक्नोलॉजी  | INTERTAINMENT  | अंतर्राष्ट्रीय  | CRIME  | HEALTH  | JOB  |  कृषि  | EDITORIAL  | SPORTS  | प्रशासन  | राजनीति  | आपदा  | भ्रष्टाचार  | जीवन-शैली  | EDUCATION  | राष्ट्रीय  | सर्वे/ आडिट  | कार्यक्रम  | पांडिचेरी  | सिक्किम  | तमिलनाडु  | नई दिल्ली  | अंडमान एवं निकोबार  | उत्तरांचल  | गोवा  | गुजरात  | छत्तीसगढ़  | पंजाब  | लद्दाख  | त्रिपुरा  | केरल  | हिमाचल प्रदेश  | मध्य प्रदेश  | तेलंगाना  | असम  | मणिपुर  | हरियाणा  | लक्ष्यदीप  | झारखंड  | बिहार  | पश्चिम बंगाल  | दमन और दीव  | दिल्ली  | मेघालय  | दादरा और नगर हवेली  | अरुणाचल प्रदेश  | राजस्थान  | चंडीगढ़  | उत्तर प्रदेश  | कर्नाटक  | मिजोरम  | नगालैंड  | आंध्र प्रदेश  | उड़ीसा  | महाराष्ट्र  | जम्मू और कश्मीर  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
 
livehindustansamachar.com Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Design & Development By MakSoft
 
Hit Counter